सर्वाधिक पढ़ी गईं

Mutual Funds : लार्ज, मल्टी और स्मॉल कैप म्यूचुअल फंडों में कौन है आपके लिए बेस्ट, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

स्मॉल-कैप और मिड-कैप फंड उन युवा निवेशकों के लिए सबसे अच्छा माना जाता है, जो ज्यादा जोखिम लेने से नहीं डरते और ज्यादा रिटर्न की उम्मीद करते हैं.

Updated: Oct 13, 2021 12:17 PM
Large, Multi and Small-Cap Mutual Fundsआपको अपनी जरूरत के हिसाब से लार्ज-कैप, मिड-कैप, मल्टी-कैप या स्मॉल-कैप इक्विटी फंड में निवेश करना चाहिए.

Mutual Funds : नए निवेशक, जो पहली बार म्यूचुअल फंड में निवेश करने जा रहे हैं, उनके लिए म्यूचुअल फंड इक्विटी में निवेश का बेहतर जरिया हो सकता है. निवेश करने वाला भले ही नौसिखिया हो या अनुभवी, इक्विटी म्यूचुअल फंड सभी तरह के निवेशकों को अपना पैसा अलग-अलग प्रकार के एसेट क्लास में लगाने की अनुमति देते हैं. एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेशकों को अपनी उम्र, फाइनेंशियल गोल्स, जोखिम लेने की क्षमता और भविष्य को ध्यान में रखते हुए अपने म्यूचुअल फंड कैटेगरी का चुनाव करना चाहिए. आप अपनी जरूरत के हिसाब से लार्ज-कैप, मिड-कैप, मल्टी-कैप या स्मॉल-कैप इक्विटी फंड में निवेश कर सकते हैं.

लार्ज-कैप, मिड-कैप, मल्टी-कैप या स्मॉल-कैप, म्यूचुअल फंड की अलग-अलग कैटेगरी हैं. ये सभी फंड उन कंपनियों के आकार को इंगित करते हैं जिनमें फंड का निवेश किया जाता है. उदाहरण के लिए, एक लार्ज-कैप फंड में देश की सबसे ज्यादा बाजार पूंजी वाली टॉप 100 कंपनियों के शेयर में फंड की कुल राशि का कम से कम 80 प्रतिशत निवेश किया जाता है. इसी तरह मिड-कैप फंड में मिड-कैप कंपनियों के इक्विटी में फंड की कुल राशि का कम से कम 65 फीसदी निवेश किया जाता है. वहीं, स्मॉल-कैप फंड के तहत स्मॉल-कैप कंपनियों की इक्विटी में फंड की कुल राशि का लगभग 65 प्रतिशत निवेश किया जाता है.

स्मॉल-कैप और मिड-कैप फंड

इस तरह का फंड उन युवा निवेशकों के लिए सबसे अच्छा माना जाता है, जो ज्यादा जोखिम लेने से नहीं डरते और ज्यादा रिटर्न की उम्मीद करते हैं. इंडस्ट्री के एक्सपर्ट्स का कहना है कि अच्छी रेटिंग वाले स्मॉल और मिड-कैप फंड निवेशकों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं. अगर कोई निवेशक ज्यादा जोखिम लेने को तैयार है तो इस फंड के ज़रिए वह ज्यादा रिटर्न प्राप्त कर सकता है. अगर आप इसमें ज्यादा लंबे समय तक के लिए निवेश करते हैं तो इससे स्मॉल और मिड कैप फंड से जुड़े जोखिम कम हो जाते हैं. एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेश में डायवर्सिफिकेशन काफी अहम है और निवेशकों को हमेशा अपने निवेश में विविधता लानी चाहिए. निवेशकों को हमेशा अलग-अलग एसेट क्लास में या एक ही एसेट क्लास के भीतर लेकिन अलग-अलग म्यूचुअल फंड कंपनियों में निवेश करना चाहिए.

LIC Jeevan Labh: एलआईसी की इस पॉलिसी में हर दिन जमा करें सिर्फ 233 रुपये और पाएं 17 लाख, टैक्स में भी मिलेगी छूट

मल्टी-कैप फंड

इस तरह के फंड में, सेबी के नए नियमों के अनुसार फंड मैनेजर को कम से कम 75% इक्विटी और इक्विटी ओरिएंटेड फंड में निवेश करना होगा. नियम कहता है कि फंड मैनेजर को इसमें से कम से कम 25-25% हिस्सा लार्ज कैप, मिड कैप और स्मॉल कैप तीनों में निवेश करना जरूरी है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर आप इक्विटी फंड में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन ज्यादा जोखिम नहीं लेना चाहते, तो अच्छी रेटिंग वाले मल्टी-कैप फंडों में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं. ये मल्टी-कैप फंड युवा और मध्यम आयु वर्ग के निवेशकों दोनों के लिए ही अच्छा है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि मल्टी-कैप फंड, स्मॉल और मिड-कैप फंडों की तुलना में कम रिटर्न देते हैं.

लार्ज-कैप फंड

मध्यम आयु वर्ग के निवेशक जो ज्यादा निवेश जोखिम लिए बिना डेट फंडों की तुलना में अधिक रिटर्न चाहते हैं, वे लार्ज-कैप फंडों में निवेश कर सकते हैं. ये फंड उतार-चढ़ाव से भरे बाजार में स्थिर रिटर्न देने के लिए भी जाने जाते हैं. एक्सपर्ट्स का मानना है कि मिड और स्मॉल-कैप इक्विटी में ज्यादा निवेश वाले फंडों की तुलना में लार्ज-कैप फंड में आमतौर पर कम जोखिम होता हैं और मध्यम रिटर्न प्रदान करते हैं. इसलिए अगर आप रिटायरमेंट के करीब हैं या कम जोखिम के साथ निवेश करना चाहते हैं तो आप अच्छी रेटिंग वाले लार्ज-कैप फंड में निवेश कर सकते हैं.ट

Education Loan: बच्चे की पढ़ाई के लिए चाहते हैं सस्ता एजुकेशन लोन? जानिए किन बैंकों में कम है ब्याज दर

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का कहना है कि निवेशकों को अपने फाइनेंशियल गोल्स को ध्यान में रखते हुए अपने लिए सही कैटेगरी का चुनाव करना चाहिए. अगर आप लंबी अवधि के लिए निवेश करना चाहते हैं और आपमें ज्यादा जोखिम (high-risk) लेने की क्षमता है तो आप स्मॉल और मिड-कैप फंडों में ज्यादा निवेश का विकल्प चुन सकते हैं. हालांकि, अगर आप मध्यम जोखिम (moderate risk) उठा सकते हैं और लंबी अवधि से कुछ कम समय के लिए (mid to long-term) निवेश करना चाहते हैं तो आप मल्टी-कैप फंडों में अपने निवेश का एक बड़ा हिस्सा एलोकेट कर सकते हैं.

अगर आपमें मध्यम से कम (moderate to low-risk) जोखिम लेने की क्षमता है और मध्यम अवधि (medium-term) के लिए निवेश करना चाहते हैं तो एक्सपर्ट्स का सुझाव है कि ऐसे लोगों को अपने इक्विटी एलोकेशन का एक बड़ा हिस्सा लार्ज-कैप फंडों में निवेश करना चाहिए. इसके अलावा, अगर समय के साथ आपका मन बदलता है और जोखिम उठाने की आपकी क्षमता कम या ज्यादा होती है तो आप ऐसे में अपने एलोकेशन को स्मॉल/मिड-कैप से मल्टी-कैप और लार्ज-कैप में ट्रांसफर कर सकते हैं.

(Article: Priyadarshini Maji)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Mutual Funds : लार्ज, मल्टी और स्मॉल कैप म्यूचुअल फंडों में कौन है आपके लिए बेस्ट, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

Go to Top