मुख्य समाचार:
  1. Retirement के बाद ऐसे जीयें आरामदायक जिंदगी

Retirement के बाद ऐसे जीयें आरामदायक जिंदगी

शांतनु अपनी जिंदगी के 40 साल जी चुके हैं और अब उनके जीवन के प्रमुख लक्ष्यों में से एक, यह है कि वह अपनी, अपनी पत्नी के लिए चिंतामुक्त स्वतंत्र सेवानिवृत्त जीवन बनाएं. शांतनु की तरह, आज सबसे अधिक काम करने वाले लोग अपनी सेवानिवृत्ति और बुढ़ापे में आत्मनिर्भर होना चाहते हैं.

June 12, 2018 12:31 PM
उचित नियोजन और समय पर कार्रवाई करके, हर किसी के लिए अपनी जीवनशैली के अनुकूल आरामदायक सेवानिवृत्ति होना संभव है. (REUTERS)

शांतनु के माता-पिता करीब 75 साल के हो चुके हैं. शांतनु के पिता 15 साल पहले एक हाईस्कूल शिक्षक के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे. उसके बाद से वह अपने बेटे पर आश्रित हो गए. कहने को तो उन्हें पेंशन मिलती थी लेकिन उन पैसों से वह केवल रहने की लागत और कुछ नियमित खर्च ही निकल पाते थे. लेकिन इससे ऊपर अगर दोनों बीमार होते तो वह शांतनु की जरुरत होती थी.

शांतनु अपनी जिंदगी के 40 साल जी चुके हैं और अब उनके जीवन के प्रमुख लक्ष्यों में से एक, यह है कि वह अपनी, अपनी पत्नी के लिए चिंतामुक्त स्वतंत्र सेवानिवृत्त जीवन बनाएं. शांतनु की तरह, आज सबसे अधिक काम करने वाले लोग अपनी सेवानिवृत्ति और बुढ़ापे में आत्मनिर्भर होना चाहते हैं. उचित नियोजन और समय पर कार्रवाई करके, हर किसी के लिए अपनी जीवनशैली के अनुकूल आरामदायक सेवानिवृत्ति होना संभव है.

चिंतामुक्त रिटायरमेंट के लिए नीचे दिए गए तीन नियमों को भली-भांति अपने जीवन में उतार लें:

  • सेहत और स्वास्थ्य बीमा पर ध्यान दें

रिटायरमेंट के शुरूआती सालों में, स्वास्थ्य कोई बड़ी चिंताओं में से एक नहीं होता हैं. लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, चिकित्सा खर्च बढ़ता जाता है. गंभीर बीमारियों के मामले में अस्पताल में होने वाले खर्च पर आपकी बचत का एक अच्छा खासा हिस्सा खत्म हो सकता है.

इन तीन चीज़ों पर ध्यान देकर आप अपना स्वास्थ्य जीवन, रिटायरमेंट के बाद बेहतर बना सकते हैं:

– अपने पति/पत्नी के लिए स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदना.
– एक गंभीर बीमारी नीति प्राप्त करें जो हृदय रोग, स्ट्रोक, कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए पर्याप्त मात्रा में भुगतान करती हो
– चिकित्सा खर्चों के लिए अपने सेवानिवृत्ति निधि का एक हिस्सा आवंटित करें.

  • सही प्लान बनाएं और बचत करें

रिटायरमेंट के बाद आपको योजना बनाने की आवश्यकता है. भारतीय परिवार और समाज अपने बच्चों की शिक्षा और विवाह के लिए तो बचत कर लेते हैं लेकिन कुछ ही लोग अपनी सेवानिवृत्ति योजना के लिए कुछ बचत कर पाते हैं. इसे बदलने की जरूरत है और सेवानिवृत्ति को बच्चों की शिक्षा और विवाह के रूप में महत्वपूर्ण लक्ष्य के रूप में देखा जाना चाहिए.

सेवानिवृत्ति के लिए आपको कितना बचत करना चाहिए, वह उस समय के कॉर्पस पर निर्भर करता है जो आप अपने सेवानिवृत्त होने पर चाहते हैं. यह कार्पस तीन कारकों पर निर्भर करता है.
– जीवनशैली जो आप सेवानिवृत्ति के बाद चाहते हैं.
– मौजूदा खर्च. (ईएमआई को छोड़कर, बच्चों और कार्य यात्रा पर खर्च)
– अपेक्षित मुद्रास्फीति सेवानिवृत्ति के समय मासिक आय के 20 फीसदी की बचत दर से शुरू करने का लक्ष्य रखें, और धीरे-धीरे 40-50 फीसदी तक बढ़ोतरी करें. व्यक्तिगत परिस्थितियों के आधार पर यह आदर्श दर अलग-अलग होती है.

  • ध्यान से निवेश करें

अकेले मेहनती बचत सेवानिवृत्ति के 15-25 साल के लिए आवश्यक खर्चों को कवर करने के लिए पर्याप्त नहीं होगा. अच्छी तरह से बढ़ने के लिए उन बचत को समझदारी से निवेश किया जाना चाहिए. यदि आप रिटायरमेंट से 5 साल या उससे अधिक दूर हैं, तो कम से कम आपके नियोजित योगदान का कुछ हिस्सा इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं. दीर्घकालिक लक्ष्यों की योजना बनाते समय, उन उत्पादों को चुनना बेहद जरूरी है जो मुद्रास्फीति को परास्त कर सके. इक्विटी फंड उनमे से ही एक है. यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि आपका कॉर्पस आपको आगे बढ़ाए.

सेवानिवृत्ति जैसे महत्वपूर्ण लक्ष्य के लिए एक अच्छे वित्तीय योजनाकार से परामर्श करना बेहद जरुरी है. ऐसा व्यक्ति आपके व्यक्तिगत लक्ष्यों और वित्तीय स्थिति का अध्ययन करेगा और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक रोडमैप बनाने में मदद करेगा.

Go to Top