मुख्य समाचार:
  1. Credit Card के स्टेटमेंट को आसानी से समझें और पेनल्टी से बचें

Credit Card के स्टेटमेंट को आसानी से समझें और पेनल्टी से बचें

जब आपको अपना क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट मिलता है, तो इसमें कई चीजें होती हैं, जिन पर आपको गौर करना चाहिए.

October 27, 2018 11:51 AM
credit card, credit card statement, how to know credit card statement, credit card charges, credit card interest, credit card hidden charges, know credit card details, business news in hindiजब आपको अपना क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट मिलता है, तो इसमें कई चीजें होती हैं, जिन पर आपको गौर करना चाहिए.

क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट एक मासिक स्टेटमेंट है जो क्रेडिट कार्ड के बिलिंग साइकिल के अंत में जेनरेट होता है. जब खाते पर कोई गतिविधि या बकाया राशि होती है तो हरेक बिलिंग साइकिल के लिए नियमित पोस्ट या कुरियर या ईमेल अधिसूचना के जरिए कार्ड यूजर को स्टेटमेंट भेजा जाता है. हालांकि, उस अवधि के लिए कोई स्टेटमेंट नहीं जारी किया सकता है जिसमें कोई लेनदेन या बकाया शेष न हो. जब आपको अपना क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट मिलता है, तो इसमें कई चीजें होती हैं, जिन पर आपको गौर करना चाहिए:

स्टेटमेंट अवधि

बिल के टॉप पर, आपको स्टेटमेंट अवधि दिखेगी. स्टेटमेंट अवधि मासिक होती है. उदाहरण के लिए, यदि आपकी स्टेटमेंट अवधि 12 अप्रैल को शुरू होती है, तो यह 13 मई को खत्म हो जाएगी. यदि आप ब्याज फ्री दिन को जानना चाहते हैं तो इस अवधि को ध्यान में रखा जाना चाहिए. आम तौर पर, बैंक 55 दिनों के लिए ब्याज मुक्त अवधि देते हैं, बस ध्यान रहे कि आप अपनी स्टेटमेंट अवधि बिना किसी बकाया राशि के शुरू करें. हालांकि, आपके लिए यह जानना जरूरी है कि “इंटरेस्ट फ्री पीरियड” की शुरुआत स्टेटमेंट तिथि से शुरू से होती है, न कि क्रेडिट कार्ड के माध्यम से अपनी खरीद की तारीख से. उदाहरण के लिए, यदि आप 12 अप्रैल को खरीदारी करते हैं, तो आपके पास 6 जून तक (55 दिन) तक ब्याज मुक्त दिन होंगे, लेकिन यदि आप 1 मई को खरीदारी करते हैं, तो आपके पास सिर्फ 37 इंटरेस्ट फ्री दिन होंगे.

पेमेंट ड्यू डेट

आप स्टेटमेंट के टॉप कार्नर के नीचे पेमेंट का ड्यू डेट देख सकते हैं. यह. वह तारीख होती है जब तक आपको पैसे जमा करने होंगे. इस तारीख के बाद किए गए पेमेंट पर फाइनेंस चार्ज और लेट पेमेंट फीस देना होगा.

कम से कम अमाउंट जमा करना होगा

वैसे तो यह जरुरी है कि आप क्रेडिट कार्ड के बिल को दिए गए ड्यू डेट तक जमा कर दें. यदि आप किसी कारणवश यह रकम चुकाने में असफल रहते हैं तो आप कम से कम ‘मिनिमम ड्यू अमाउंट’ जरुर जमा करें. यदि आप मिनिमम ड्यू अमाउंट से कम का पेमेंट करते हैं तो आपको लेट पेमेंट फीस और फाइनेंस चार्ज देना होगा.

फाइनेंस चार्जेज

आपके स्टेटमेंट में आपके अकाउंट का फाइनेंस चार्ज भी दिखता है. महीने के बिलिंग साइकिल के आखिरी में पेमेंट करके आप फाइनेंस चार्ज से मुक्ति पा सकते हैं. स्टेटमेंट आने के करीब तीन हफ्ते तक आप फाइनेंस चार्ज को निपटा सकते हैं.

रिवार्ड्स

आपके स्टेटमेंट में रिवार्ड का भी जिक्र होता है जो आपने वक्त के साथ अर्जित किए हैं. यह सिर्फ उन क्रेडिट कार्ड पर लागू होता है जो रिवार्ड्स देते हैं. रिवार्ड्स वाले कॉलम में आप कुल जमा पॉइंट्स देख सकते हैं. आप देख सकते हैं कि पिछले स्टेटमेंट से नए वाले स्टेटमेंट में कितने पॉइंट्स जुड़े. आप यह भी देख सकते हैं कि आपने कितने रिवार्ड्स पॉइंट्स को रिडीम किया है और कितने पॉइंट्स आपके खर्च और बर्बाद हो चुके हैं.

अपने क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट को अच्छी तरह से समझना मुश्किल नहीं है, लेकिन आप दिए गए जानकारी पर कैसे प्रतिक्रिया करते हैं, यह ज्यादा जरुरी है. अपने क्रेडिट कार्ड बिल का विश्लेषण करके कर्ज को निपटाया जा सकता है. एक बार जब आप समझ जाते हैं कि स्टेटमेंट कैसे काम करते हैं फिर आपके लिए आसानी होती है और आप बेहतर फाइनेंशियल प्लानिंग कर सकते हैं.

(इसके लेखक पैसाबाजार डॉट कॉम के पेमेंट्स प्रोडक्ट्स के बिजनेस हेड साहिल अरोड़ा हैं.)

Go to Top