मुख्य समाचार:
  1. संपत्ति के बदले मिलने वाले लोन के बारे में जान लीजिए जरूरी बातें

संपत्ति के बदले मिलने वाले लोन के बारे में जान लीजिए जरूरी बातें

इस संपत्ति को मॉर्गेज अर्थात् बंधक रखा जाता है, जिसका मतलब है कि, संपत्ति के कागज़ात और उसका कानूनी स्वामित्व, तब तक बैंक के पास रहता है जब तक लोन चुका नहीं दिया जाता.

April 16, 2018 6:15 PM
loan against proparty, loans against property, property against loans, home loans, property loans, savings news in hindi, business news in hindi इस संपत्ति को मॉर्गेज अर्थात् बंधक रखा जाता है, जिसका मतलब है कि, संपत्ति के कागज़ात और उसका कानूनी स्वामित्व, तब तक बैंक के पास रहता है जब तक लोन चुका नहीं दिया जाता.

लोन, किसी भी तरह की जरूरत को पूरा करने के लिए पैसों का इंतजाम करने के लिए एक सुविधाजनक वित्तीय समाधान बन गया है, चाहे वह कोई व्यक्तिगत जरूरत हो या पेशेवर. चाहे एक नया मकान, या कार खरीदना हो, या अपने बच्चे की पढ़ाई के लिए या किसी अन्य उद्देश्य को पूरा करने के लिए पैसों का इंतजाम करना हो, आपको अपनी जरूरत के मुताबिक लोन मिल सकता है. बाजार में कई तरह के लोन उपलब्ध हैं, जैसे – पर्सनल लोन, गोल्ड लोन, वेडिंग लोन, इत्यादि, लेकिन कई लोग, संपत्ति के बदले में मिलने वाले लोन के बारे में नहीं जानते हैं। क्या आपको पता है कि यह किस तरह का लोन है? आइए पता करते हैं.

संपत्ति के बदले में मिलने वाला लोन क्या है?

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है, लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी अर्थात् संपत्ति के बदले में मिलने वाला लोन, एक ऐसा लोन है जिसे या तो आवेदक के स्वामित्व वाली या उसके गारंटर, जो आम तौर पर माता-पिता होते हैं, उनके स्वामित्व वाली संपत्ति के मूल्य के बदले में दिया जाता है. इस संपत्ति को मॉर्गेज अर्थात् बंधक रखा जाता है, जिसका मतलब है कि, संपत्ति के कागज़ात और उसका कानूनी स्वामित्व, तब तक बैंक के पास रहता है जब तक लोन चुका नहीं दिया जाता.

मॉर्गेज लोन की विशेषताएं

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी या मॉर्गेज लोन की कुछ ख़ास विशेषताएं होती हैं जो अन्य प्रकार के लोन से अलग होती हैं.

  • इसे एक सुरक्षित लोन माना जाता है क्योंकि इसे एक अचल परिसंपत्ति जैसे एक संपत्ति के मूल्य के बदले में प्रदान किया जाता है.
  • इस लोन का उद्देश्य, व्यक्तिगत या व्यावसायिक दोनों तरह की फंडिंग के लिए हो सकता है.
  • संपत्ति के बदले में मिलने वाली अधिकतम रकम का परिमाण, उस संपत्ति के नवीनतम बाजार मूल्य के 60% से 80% के बीच होता है. इस अनुपात को लोन और मूल्य का अनुपात कहा जाता है.
  • संपत्ति के बदले में लोन के लिए संपत्ति आपके या आपके सह-आवेदक के नाम पर होनी चाहिए. यह एक आवासीय या वाणिज्यिक संपत्ति हो सकती है, लेकिन वाणिज्यिक संपत्तियों को और अधिक छानबीन और जांच-पड़ताल से होकर गुजरना पड़ता है.
  • ब्याज दरें काफी कम होती हैं क्योंकि संपत्ति को लोन की जमानत की तौर पर बंधक रखा जाता है. इसे उधारकर्ता की तरफ से भुगतान में चूक होने का जोखिम कम हो जाता है.
  • बैंक, एक लम्बी भुगतान अवधि की सुविधा प्रदान करते हैं, जो 15 साल तक हो सकती है.
  • लोन लेने के लिए खाली जमीन के साथ-साथ किराए की आवासीय संपत्ति को भी बंधक रखा जा सकता है.

लोन के लिए योग्यता

हालाँकि लोन के लिए मुख्य मानदंड, आवेदक के नाम से संपत्ति का होना है, लेकिन अधिकांश बैंक कुछ अन्य योग्यता आवश्यकताओं को भी पूरा करने के लिए कहते हैं जो निम्नलिखित हैं:

  • आपको एक रोजगार प्राप्त व्यक्ति होना चाहिए
  • न्यूनतम आयु सीमा 23 से 25 साल और लोन चुकाने की अधिकतम उम्र 65 से 70 साल तक सीमित है
  • जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि आप लोन चुकाने लायक पैसे कमाते हैं
  • आपकी योग्यता का निर्धारण करने के लिए आपकी वित्तीय स्थिति, क्रेडिट स्कोर और आमदनी की भी जांच
    की जाती है

संपत्ति के बदले लोन लेने के फायदे

एक पर्सनल या गोल्ड लोन लेने के बजाय संपत्ति के बदले लोन लेना, एक बेहतर विकल्प है यदि आपके पास एक संपत्ति है. बहुत बड़ी रकम लोन लेने के लिए इस तरह का लोन बेहतर क्यों है, इसके कुछ कारण निम्नलिखित हैं:

  • आप अपना स्वामित्व हस्तांतरित किए बिना लोन लेने के लिए अपनी संपत्ति का इस्तेमाल कर सकते हैं
  • ब्याज दरें, पर्सनल लोन की तुलना में काफी कम होती हैं
  • चूंकि संपत्ति का मूल्य काफी अधिक होता है, इसलिए आपको पर्सनल लोन की तुलना में एक बहुत बड़ा लोन मिल सकता है क्योंकि पर्सनल लोन के मामले में आपकी आमदनी के आधार पर आपको लोन मिलता है
  • इसे चुकाने की समय सीमा काफी अधिक होती है, इसलिए आपको इसे चुकाने के लिए काफी समय मिल जाता है

ध्यान देने योग्य बातें

हालाँकि संपत्ति के बदले मिलने वाले लोन में आसानी से पैसा मिल जाता है लेकिन फिर भी इस तरह के लोन के लिए आवेदन करने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जो निम्नलिखित हैं –

  • यदि संपत्ति एक से अधिक लोगों के नाम पर है तो सभी लोगों को संयुक्त उधारकर्ताओं या सह-आवेदकों की भूमिका निभानी पड़ेगी.
  • उधारदाता आपके लोन की रकम निर्धारित करने से पहले आपकी संपत्ति के बाजार मूल्य, उसकी उम्र और हालत पर विचार करते हैं.
  • संपत्ति को लोन के लिए बंधक रखने पर, आप बकाया लोन चुकाने से पहले उसे बेच नहीं सकते हैं.
  • लोन चुकाने में चूक जाने पर, प्राधिकृत क्षेत्राधिकार के तहत उधारदाता को आपकी संपत्ति को जब्त करने, उसे बेचने और लोन की बाकी रकम वसूल करने का अधिकार होता है.

अपने विकल्पों की तुलना करें

अपनी संपत्ति को बंधक रखने पर थोड़ा सोच-विचार करना चाहिए और आजकल बाजार में उधारदाताओं के विकल्प को देखते हुए, अंत में उधारदाता का चयन करने से पहले अपने विकल्पों के बारे में पता करनी चाहिए और उनकी तुलना करनी चाहिए. अलग-अलग उधारदाता, अलग-अलग लोन-मूल्य अनुपात प्रदान करते हैं, इसलिए अधिक से अधिक लोन प्राप्त करने के लिए सबसे अधिक अनुपात का चयन करने की कोशिश करें. सबसे कम दर और सबसे कम EMI का लाभ उठाने के लिए ब्याज दर पर भी नजर डालें.

इस लेख के लेखक, बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ आदिल शेट्टी हैं.

Go to Top