सर्वाधिक पढ़ी गईं

Annuity Plan: रिटायरमेंट के बाद नहीं होगी रेगुलर इनकम की टेंशन, चुनें एन्युटी का विकल्प

भविष्य में नियमित तौर पर निश्चित आय सुनिश्चित करने के लिए Annuity Plan लेना बेहतर है.

Updated: May 21, 2021 8:02 AM
know about ANNUITY PLAN as a best option for regular income source check details hereThe interest rates under the scheme are capped at 9.25 per cent for banks and FIs, and at 14 per cent for NBFCs.

Annuity Plan: फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर गिर रही हैं तो ऐसे में निवेशकों का रूझान इसके प्रति कम हो रहा है और वे किसी अन्य विकल्प की तलाश में हैं. हालांकि बाजार में उतार-चढ़ाव के जोखिम से वे बचना चाहते हैं तो ऐसे में भविष्य में नियमित तौर पर निश्चित आय सुनिश्चित करने के लिए Annuity Plan लेना बेहतर है क्योंकि इससे आप उस समय भी अपनी एक निश्चित आय सुनिश्चित कर सकते हैं जब आपके पास रेगुलर इनकम का कोई सोर्स न हो.
एन्यूटी प्लान के तहत एक रकम जमा कर जिंदगी भर पेंशन के रूप में एक इनकम सुनिश्चित की जा सकती है. बीमा कंपनियां पॉलिसीधारक की मृत्यु के पश्चात् उसके पति/पत्नी को भी पेंशन की सुविधा देती है. कुछ बीमा कंपनियां सब्सक्राइबर की मौत के मौत के बाद भविष्य के सभी एन्यूटी पेमेंट्स को रोक देती हैं और कांट्रैक्ट खत्म हो जाता है. भविष्य में नियमित अंतराल पर एक निश्चित आय के लिए अभी से तैयारी करनी चाहिए, हालांकि कुछ बीमा कंपनियों से एन्यूटी प्लान खरीदने के लिए न्यूनतम उम्र 30-40 वर्ष होनी चाहिए.

Top Up SIP Vs SIP: कैसे काम करता है टॉप अप एसआईपी? कैलकुलेशन से समझें इसके फायदे

दो तरीके से सुनिश्चित कर सकते हैं Annuity इनकम

बीमा कंपनियां दो तरह की एन्यूटी प्लान पेश करती हैं. इसमें से एक इमेडिएट एन्यूटी प्लान के तहत निवेशकों को तुरंत ही सीमित अवधि के लिए या जिंदगी भर के लिए मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर एक निश्चित राशि मिलनी शुरू हो जाती है.
डेफर्ड एन्यूटी प्लान के तहत निवेशकों को कुछ समय बाद या रिटायरमेंट के बाद से जिंदगी भर मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर एक निश्चित राशि जिंदगी भर मिलती है.

उदाहरण से समझें एन्यूटी प्लान को

  • 30 साल की उम्र में अगर 50 लाख रुपये का निवेश आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के एन्यूटी प्लान में करते हैं तो सालाना 3 लाख रुपये की पेंशन जिंदगी भर के लिए सुनिश्चित कर सकते हैं. हालांकि अगर खुद और नॉमिनी को लेकर पेंशन प्लान चुनते हैं तो कई शर्तों के साथ 2.95 लाख रुपये तक की एन्यूटी राशि पा सकते हैं और ऐसे केस में सब्सक्राइबर की मौत के बाद नॉमिनी को पर्चेज प्राइस मिलेगा. सब्सक्राइबर और नॉमिनी के लिए एन्यूटी प्लान खरीदते समय सावधानी से सभी विकल्पों को देख लेना चाहिए.
  • 50 वर्ष की उम्र में अगर एसबीआई लाइफ-एन्यूटी प्लस का 45 लाख रुपये का प्लान लेते हैं तो सालाना 3 लाख रुपये की पेंशन जिंदगी भर मिलेगी लेकिन सब्सक्राइबर की मृत्यु के बाद भविष्य के सभी एन्यूटी पेमेंट्स रोक दिए जाएंगे और कांट्रैक्ट खत्म हो जाएगा. हालांकि अगर इस प्लान में 46वर्षीय नॉमिनी को भी जोड़ते हैं तो 3 लाख रुपये की सालाना राशि पाने के लिए 48-49 लाख रुपये का प्लान लेना होगा और इसमें सब्सक्राइबर के जीवित रहने तक 3 लाख रुपये सालाना मिलता रहेगा. सब्सक्राइबर की मौत के बाद इसका आधा नॉमिनी को जिंदगी भर मिलती रहेगी. नॉमिनी की मौत के बाद एन्यूटी पेमेंट्स रुक जाएगी और कांट्रैक्ट खत्म हो जाएगा. अगर नॉमिनी की मौत सब्सक्राइबर से पहले हो जाती है तो सब्सक्राइबर की मौत के बाद एन्यूटी पेमेंट्स रुक जाएगी.
    (सोर्स: आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस और एसबीआई लाईफ)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Annuity Plan: रिटायरमेंट के बाद नहीं होगी रेगुलर इनकम की टेंशन, चुनें एन्युटी का विकल्प

Go to Top