मुख्य समाचार:

ITR फॉर्म 7 तरह के होते हैं, जानिए आपको कौन सा आयकर रिटर्न भरने की जरुरत है?

2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2018 निर्धारित है.

August 3, 2018 3:33 PM
itr, itr login, form, itr filing, itr status, itr 1 form download, itr 1 for 2018-19, itr 2 form download, itr form filing instructions, income tax return, income tax return last date, income tax return form, income tax return login, income tax return in hindi2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2018 निर्धारित है.

आयकर विभाग ने ई-फाइलिंग के लिए सभी सात आईटीआर फॉर्म जारी कर दिए हैं. केंद्रीय कर बोर्ड ने 5 अप्रैल को मूल्यांकन वर्ष 2018-19 के लिए नए आयकर रिटर्न फॉर्म को लेकर अधिसूचित किया था. 2018-19 के लिए सभी आईटीआर अब ई-फाइलिंग के लिए उपलब्ध हैं.

Income Tax Alert: नौकरीपेशा ITR भरते वक्त ना करें चिंदी चोरी, वरना लगेगा भारी जुर्माना!

इनकम टैक्स विभाग ने 5 अप्रैल से आईटीआर फॉर्म जारी करने शुरू किए. सीबीडीटी ने कहा था कि सभी सात आईटीआर विभाग के आधिकारिक वेब पोर्टल (incometaxindiaefiling.gov.in) पर ऑनलाइन दायर किए जाएंगे. बता दें कि वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2018 निर्धारित है.

ITR भरते वक्त भूल कर भी ये 7 गलती ना करें नौकरीपेशा, वरना होगा भारी नुकसान

ITR फॉर्म 7 तरह के होते हैं, आइये जानते हैं.

ITR 1

अगर किसी इंडिविजुअल या HUF (हिंदू अविभाजित परिवार) को वेतन, पेंशन, प्रॉपर्टी के किराए या ब्याज से आमदनी होती है तो आईटीआर 1 या सहज फॉर्म भरिए. कोई भी व्यक्ति जिसे बिना बिक्री के कर मुक्त आय (कृषि के अलावा 5 हजार से ऊपर की आय) हो रही है, तो वो आईटीआर-1 फॉर्म भर सकता है. यह फॉर्म सिर्फ पचास लाख तक की आमदनी पर ही भरा जा सकता है.

ITR Form-1 (सहज) के जरिए इनकम टैक्स रिटर्न कैसे फाइल करें?

ITR 2

ऐसे इंडिविजुअल और HUF (हिंदू अविभाजित परिवार) जिन्हें कृषि, एक से ज्यादा प्रॉपर्टी से किराए, कैपिटल गेन, लॉटरी या अन्य स्रोत से आय में लॉटरी और रेसिंग से भी आमदनी होती है. इन लोगों को आईटीआर 2 फॉर्म भरना जरूरी होता है.

ITR-2 फॉर्म के जरिए इनकम टैक्स रिटर्न कैसे भरें?

ITR 3

बिजनेस के ऐसे साझेदार जिन्हें ब्याज, सैलरी, बोनस से आमदनी, कैपिटल गेन, एक से ज्यादा प्रॉपर्टी से किराए इनकम होती है उनके लिए यह फॉर्म भरना जरूरी होता है. आसान भाषा में इसे समझिए कि, खुद कोई बिजनेस करता हो, या किसी प्रोफेशन से आमदनी प्राप्त कर रहा हो, को आईटीआर 3 फॉर्म भरना चाहिए.

ITR 4

ऐसे इंडिविजुअल और HUF (हिंदू अविभाजित परिवार) लोग जिनको बिजनस, प्रोफेशन (डॉक्टर, वकील आदि) के जरिए आमदनी हो रही हो, उन्हें यह फॉर्म जमा करना होता है.

ITR Filing 2018: ये रहे वो 5 कारण जिनकी वजह से आपको Income Tax Return Deadline से पहले File कर देना चाहिए

ITR 5

आईटीआर 5 उन संस्थाओं को भरना होता है, जिन्होंने खुद को फर्म, LLPs, AOPs, BOIs के रूप में रजिस्टर्ड करा रखा है.

ITR 6

वह कंपनियां जिन्हें इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 11 के तहत छूट नहीं मिलता है उन्हें आईटीआर 6 भरना होता है. आईटीआर 6 ऑनलाइन भरा जा सकता है.

ITR 7

आईटीआर 7 फॉर्म ऐसे लोगों या कंपनियों के लिए है, जो सेक्शन 139(4A) या सेक्शन 139(4B) या सेक्शन 139(4C) या सेक्शन 139(4D) के तहत रिटर्न दाखिल करते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. ITR फॉर्म 7 तरह के होते हैं, जानिए आपको कौन सा आयकर रिटर्न भरने की जरुरत है?

Go to Top