मुख्य समाचार:

सोना क्यों है मुश्किल समय का साथी, मंदी ​हो या इमरजेंसी कभी भी करा सकते हैं कैश

निवेश कहां करें, यह किसी यक्ष प्रश्न से कम नहीं है.

June 7, 2019 11:18 AM
gold, gold vs property, gold investment, best investment, gold rate, gold vs property, गोल्ड, सोने में निवेशमंदी के दौर में भी गोल्ड की चमक बरकरार रहती है.

GOld: निवेश कहां करें, यह किसी यक्ष प्रश्न से कम नहीं है. निवेश का एक सीधा फंडा यह है कि अपने पूरे फंड के कुछ हिस्से पर रिस्क उठाकर अधिक से अधिक रिटर्न पाया जाए, वहीं कुछ हिस्से को कम रिस्क वाले विकल्प में निवेश किया जाए. इसके अलावा कुछ विकल्प ऐसे होते हैं जिनमें यह सलाह दी जाती है कि अपने पूरे फंड का कुछ हिस्सा ऐसी जगह निवेश करना चाहिए जहां किसी भी आकस्मिक जरूरत के वक्त उसे कैश कराया जा सके. ऐसा ही एक निवेश है, गोल्ड में निवेश. फिजिकल गोल्ड में निवेश सदियों से हमारी परंपरा रही है और वर्तमान समय में यह और भी आकर्षक बनकर उभरा है. आखिर सोने की इतनी चमक पीढ़ी दर पीढ़ी कैसे बनी आई है, आइए समझते हैं कि क्यों इसकी चमक बरकरार है और आगे भी बनी रहेगी.

Gold को कैश करना आसान

अगर आपने अपने पूरे फंड के एक हिस्से को गोल्ड में निवेश किया हुआ है तो आप उसे जरूरत पड़ने पर भुना सकते हैं. मान लें कि आपको नगदी की कोई आकस्मिक जरूरत पड़ गई, ऐसी दशा में हो सकता है कि आपके अन्य निवेश विकल्प नगदी की दिक्कत न सुलझा सकें. ऐसे में गोल्ड बेहतर विकल्प उभर कर सामने आता है. आप किसी भी जूलर्स के पास अपना गोल्ड लेकर जाएं और नगदी का इंतजाम हो जाएगा. एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंड, रिसर्च (कमोडिटी एंड करंसी) अनुज गुप्ता अपने पूरे फंड का अधिकतम 30 फीसदी तक गोल्ड में निवेश करना चाहिए.

मंदी के दौर में भी गोल्ड की चमक बरकरार

जब भी इकोनॉमी को झटके लगते हैं तो आपके सभी निवेश पर रिटर्न लुढ़कने लगता है लेकिन ऐसे समय में भी गोल्ड की चमक बनी रहती है. अनुज गुप्ता के मुताबिक मंदी के समय बाजार में घबराहट के कारण गोल्ड में निवेश बढ़ जाता है. इसकी वजह से इसकी कीमतों में तेजी बनी रहती है. अनुज गुप्ता के मुताबिक गोल्ड में सालाना 7-8 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है.

गोल्ड में निवेश प्रॉपर्टी से बेहतर

अधिकतर निवेशकों के लिए सुरक्षित निवेश के रूप में दो ही विकल्प सामने आते हैं, एक गोल्ड और दूसरा प्रॉपर्टी. प्रॉप्रटी की कीमतों में उतार-चढ़ाव का दौर बहुत आता है. अनुज गुप्ता के मुताबिक इस समय अधिकतर जगहों पर प्रॉपर्टी की कीमतों में गिरावट का दौर है, ऐसे में प्रॉपर्टी में निवेश बेहतर विकल्प नहीं माना जाता है. इसकी तुलना में गोल्ड की कीमतों में लगातार उछाल आ रहा है.

गिरवी रखकर गोल्ड मूल्य के 80% तक लोन की सुविधा

अनुज गुप्ता ने बताया कि प्रॉपर्टी की तुलना में गोल्ड में निवेश इसलिए बेहतर है क्योंकि इसे गिरवी रखकर उसके मूल्य के 80 फीसदी तक लोन लिया जा सकता है. इसकी कीमत अगले साल बढ़ गई और आपको पैसे की जरूरत फिर से पड़ गई तो आप बढ़ हुए मूल्य के हिसाब से उसी गिरवी रखे गोल्ड पर फिर कर्ज ले सकते हैं. इसकी तुलना में प्रॉपर्टी पर लोकेशन और उसकी जमीन जैसे प्रमुख कारकों के आधार पर उसकी कीमत निर्धारित होती है और फिर लोन राशि का निर्धारण होता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. सोना क्यों है मुश्किल समय का साथी, मंदी ​हो या इमरजेंसी कभी भी करा सकते हैं कैश

Go to Top