मुख्य समाचार:
  1. अगर आप नौकरीपेशा हैं, तो करिए इन चीजों में निवेश, मिलेगा फायदा

अगर आप नौकरीपेशा हैं, तो करिए इन चीजों में निवेश, मिलेगा फायदा

कारोबारियों और पेशेवर लोगों के विपरीत, वेतनभोगी लोगों की जीवन शैली ऐसी होती है जहाँ उन्हें मासिक चक्र के आधार पर आर्थिक जरूरतों को पूरा करना पड़ता है क्योंकि उनकी आमदनी साल भर निश्चित रहती है।

March 20, 2018 4:49 PM
निवेश, निवेशबजत, बजत, कारोबार, एसआईपी, सैलरीबड़े-बड़े निवेश करने के बजाय, हर महीने थोड़े-थोड़े पैसे निवेश करके एक बहुत बड़ी रकम तैयार करने की कोशिश करनी चाहिए।

कारोबारियों और पेशेवर लोगों के विपरीत, वेतनभोगी लोगों की जीवन शैली ऐसी होती है जहाँ उन्हें मासिक चक्र के आधार पर आर्थिक  जरूरतों को पूरा करना पड़ता है क्योंकि उनकी आमदनी साल भर निश्चित रहती है। ऐसी परिस्थिति में, अपने पास जरूरत पड़ने पर या इमरजेंसी के लिए भी, सुनिश्चित रूप से अतिरिक्त पैसे रखने के लिए उपयुक्त फाइनेंशियल प्लानिंग करना बहुत जरूरी है। बड़े-बड़े निवेश करने के बजाय, हर महीने थोड़े-थोड़े पैसे निवेश करके एक बहुत बड़ी रकम तैयार करने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा ऐसी योजनाओं में निवेश करना चाहिए जिससे आपकी टैक्स देनदारी कम हो सके जिससे आपको और ज्यादा निवेश करने का मौका मिल सके।
यहाँ वेतनभोगी लोगों के लिए निवेश करने के लिए कुछ शानदार विकल्प बताए गए हैं।

SIP के माध्यम से ELSS में निवेश करें
वेतनभोगी लोगों के लिए, बाजार में बहुत बड़ी रकम निवेश करना, अक्सर मुश्किल होता है क्योंकि रकम बहुत बड़ी होती है और इसमें जोखिम भी होता है। ELSS योजनाएं, मध्यम से अधिक जोखिम उठाने की भूख रखने वाले निवेशकों के लिए अनुकूल हैं। यहाँ सबसे अच्छी बात तो यह है कि आप अपने बजट के अनुसार हर महीने SIP के माध्यम से निवेश कर सकते हैं। आप प्रत्येक SIP में कम से कम मात्र 500 रुपये से निवेश करना शुरू कर सकते हैं और अपना वेतन बढ़ने पर अपने निवेश में भी वृद्धि कर सकते हैं। यह सिर्फ एक बहुत बड़ी रकम तैयार करने या 60 साल की उम्र के बाद एक शांतिपूर्ण और सुरक्षित जिंदगी के लिए एक रिटायरमेंट फंड तैयार करने का ही एक शानदार तरीका नहीं है बल्कि यह आने वाले भविष्य में बहुत ज्यादा पैसों की जरूरत पड़ने पर आपकी मदद भी कर सकता है। लेकिन टैक्स बोझ के रूप में, हालिया बजट में सरकार द्वारा शुरू किए गए LTCG के कारण, ELSS फंड्स में एक वित्तीय वर्ष में 1,00,000 रुपये से अधिक लाभ पर 10% टैक्स लगेगा। लेकिन इस योजना के अंतर्गत एक वित्तीय वर्ष में किए गए निवेशों के लिए आयकर अधिनियम की धारा 80C के अंतर्गत 1,50,000 रुपये तक की कटौती का लाभ मिल सकता है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड
पब्लिक प्रोविडेंट फंड, जिसे PPF भी कहा जाता है, उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो एक अच्छा-ख़ासा रिटायरमेंट फंड तैयार करना चाहते हैं। आप जो पैसे निवेश करते हैं उस पर धारा 80C के अंतर्गत 1.5 लाख रुपये तक टैक्स कटौती का लाभ मिलता है और इस निवेश में 15 साल का लॉक-इन पीरियड होता है। सरकार ने हाल ही में PPF की ब्याज दरों में 20 बेसिस पॉइंट्स की कमी कर दी है जिससे यह जहाँ पिछले वर्षों में 9% था वहीं अब यह जनवरी-मार्च तिमाही में 7.6% हो गया है। इसके बावजूद, PPF अभी भी FD की तुलना में एक बेहतर निवेश विकल्प है क्योंकि यह उससे अधिक ब्याज देता है और इस पर EEE लाभ भी मिलता है जहाँ निवेश की गई रकम पर, आयकर अधिनियम की धारा 80C के अंतर्गत एक साल में 1.5 लाख रुपये तक टैक्स कटौती का लाभ मिलता है। इसके अलावा इस पर मिलने वाले रिटर्न और मैच्योरिटी के समय निकाली जाने वाली रकम पर टैक्स नहीं लगता है।

NPS

हो सकता है, आपकी कंपनी ने आपके लिए एक PF अकाउंट खोल रखा हो, लेकिन फिर भी आप PF और PPF के अलावा रिटायरमेंट के लिए एक और विकल्प की मदद ले सकते हैं और उसका नाम है – NPS और इस योजना के अंतर्गत 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर धारा 80C के अंतर्गत टैक्स कटौती का लाभ उठाया जा सकता है। धारा 80CCD(1B) के अंतर्गत भी टैक्स कटौती के लिए अतिरिक्त 50,000 रुपये तक क्लेम किया जा सकता है। इसके अलावा, लिक्विडिटी की दृष्टि से यह PPF और PF की तुलना में अधिक फायदेमंद है क्योंकि आप कुछ अंतराल पर अपने पैसे का कुछ हिस्सा निकाल सकते हैं लेकिन आप सब्सक्रिप्शन की अवधि के दौरान अधिक से अधिक तीन
बार ऐसा कर सकते हैं।

इमरजेंसी फंड के लिए रेकरिंग डिपोजिट

एक इमरजेंसी फंड हमेशा एक अच्छा फंड और ख़ास तौर पर एक अच्छा लिक्विड फंड है जिसे आप जरूरत पड़ने पर आसानी से निकाल सकते हैं। एक रेकरिंग डिपोजिट या RD एक अच्छा निवेश विकल्प है क्योंकि यह आपको हर महीने कुछ पैसे बचाने के लिए प्रेरित करता है और बड़े-बड़े निवेशों के लिए एक अच्छी रकम जमा करने में मदद करता है। इसमें मिलने वाले रिटर्न की दर कुछ अन्य निवेश साधनों की तुलना में बहुत अच्छा न होने के बावजूद, इसमें बहुत ज्यादा लिक्विडिटी की सुविधा है और यह एक बहुत सुरक्षित विकल्प है क्योंकि यह अपने पैसे को अपने सेविंग्स अकाउंट में रखने जैसा है और वो भी बिना किसी लॉक इन के।

(इस लेख के लेखक आदिल शेट्टी बैंक बाज़ार के CEO हैं)

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop