मुख्य समाचार:

उम्र के हिसाब से चुनें निवेश के सही विकल्प, बाजार हर मोड़ पर देता है कमाई का मौका

कहा जाता है कि निवेश शुरू करने की कोई उम्र नहीं होती है.

October 20, 2019 12:46 PM
investment according to your age, investment strategy, investment tips, mutual fund, bank FD, RD, PPF, liquid fund, bond, cash, savings, capital market, investment instrumentsकहा जाता है कि निवेश शुरू करने का कोई उम्र नहीं होता है.

Investment Strategy: कहा जाता है कि निवेश शुरू करने की कोई उम्र नहीं होती है. आप कॉलेज स्टूडेंट हों या सैलरीड या रिटायर्ड, पैसों की जरूरत तो हर समय होती है. हां ये हो सकता है कि अलग अलग उम्र के दौर में जरूरतें अलग अलग होती हों. लेकिन पैसों की आवश्यकता सभी को होती है. अगर आपको ये लग रहा हो कि सिर्फ नौकरी में रहते हुए निवेश करने के सही विकल्प मौजूद हैं तो यह गलत है. हर उम्र के हिसाब से बाजार में निवेश के विकल्प मसलन एफडी, पीपीएफ, आरडी, म्यूचुअल फंड हैं. अगर सही विकल्प का चयन कर सकें तो किसी भी उम्र में आपकी जरूरतें पूरी हो सकेंगी. इसलिए जरूरी है कि उम्र के अलग अलग दौर के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग जरूर करें.

उम्र : 8-17 साल

(अगर माइनर के नाम से करना हो निवेश)

निवेश का लक्ष्य: लंबी अवधि

इक्विटी और बैलेंस फंड (अगर जोखिम लेने की क्षमता है)
MIP म्यूचुअल फंड (मीडियम रिस्क)
डेट फंड्स (कम रिस्क)
शॉर्ट टर्म डेट फंड
रेकरिंग डिपॉजिट/SIP का विकल्प चुन सकते हैं.
इनकम बढ़ने के साथ साथ इन योजनाओं में मंथली निवेश भी बढ़ाते जाए.
हाइब्रिड फंड में भी निवेश बेहतर विकल्प है.

उम्र : 21 से 35 साल

निवेश का लक्ष्य: लंबी अवधि

पीपीएफ और 5 साल की तक बैंक एफडी जो मेच्योरिटी पर अच्छा अमाउंट दे सकते हैं.
रेकरिंग डिपॉजिट/SIP का विकल्प चुन सकते हैं.

म्यूचुअल फंड में कुल निवेश का अलोकेशन

मल्टीकैप फंड में 40%
लॉर्ज एंड मिडकैप इक्विटी फंड में 40%
लॉर्जकैप फंड में 20%

नोट: अगर 35 साल या इससे कम उम्र का निवेशक है तो निवेश के लिए ज्यादा समय मिल जाता है. ऐसे में जोखिम लेने की क्षमता भी बढ़ जाती है.

उम्र: 35 से 50 साल

निवेश का लक्ष्य: मिड टर्म

पोस्ट ऑफिस का मंथली इनकम प्लान
5 साल की एफडी
रेकरिंग डिपॉजिट

म्यूचुअल फंड में कुल निवेश का अलोकेशन

मल्टीकैप फंड में 40%
लॉर्जकैप फंड में 40%
मिडकैप फंड में 20%

नोट: अगर 35 साल से 50 साल के बीच की उम्र का निवेशक है तो यही मान सकते हैं जोखिम लेने की क्षमता मॉडरेट होती है, क्योंकि यहां यंग इन्वेस्टर्स की तुलना में निवेश का लक्ष्य कम समय के लिए होता है. ऐसे इन्वेस्टर्स को मल्टीकैप सेग्मेंट को प्राथमिकता देनी चाहिए.

उम्र: 50 साल से ज्यादा

निवेश का लक्ष्य: शॉर्ट टर्म

शॉर्ट ड्यूरेशन की बेहतर एफडी प्लान चुन सकते हैं.
पोस्ट ऑफिस का मंथली इनकम प्लान
सीनियर सिटीजन स्कीम

म्यूचुअल फंड में कुल निवेश का अलोकेशन

लॉर्जकैप फंड में 50%
मल्टीकैप फंड में 40%
मिडकैप फंड में 10%

नोट: अगर 50 साल से ज्यादा उम्र का निवेशक है तो यही मान सकते हैं जोखिम लेने की क्षमता नहीं होती है. इनके पास निवेश का लक्ष्य शॉर्ट टर्म का होता है.

सही समय पर चुनें सही विकल्प

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि जीवनशैली में बदलाव आने से जरूरतें बढ़ी हैं और उसी अनुपात में खर्च भी. किसी भी समय हमें ज्यादा पैसों की जरूरत पड़ सकती है. इसलिए जरूरी है कि इसकी तैयारी पहले से कर ली जाए. हालांकि अलग अलग उम्र के दौर में एक जैसे इंस्ट्रूमेंट में निवेश नहीं किया जा सकता है. जैसे कि अगर उम्र कम है तो निवेश का लक्ष्य लंबा हो सकता है. ऐसे में रिस्क लिया जा सकता है. लेकिन 50 या 60 की उम्र में सेफ रिटर्न ध्यान में रखना जरूरी है. वहीं यह रिस्क लेने की क्षमता पर भी निर्भर है. इसलिए जरूरी है कि सही समय पर सही विकल्प चुना जाए.

(नोट: म्यूचुअल फंड में निवेश बाजार के जोखिम के अधीन है. हमने यहां एक्सपर्ट के हवाले से जानकारी दी है. निवेश से पहले अपने एडवाइजर से सलाह जरूर लें या अपने स्तर पर जांच लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. उम्र के हिसाब से चुनें निवेश के सही विकल्प, बाजार हर मोड़ पर देता है कमाई का मौका

Go to Top