मुख्य समाचार:

Women’s Day: आ​र्थिक स्वतंत्रता से लेकर अधिकारों तक, ये 5 कदम महिलाओं को बनाते हैं सशक्त

Women's Day: इस साल की थीम #EachforEqual है, जो जेंडर इक्विलिटी और सशक्त दुनिया पर केंद्रित है.

Published: March 7, 2020 9:11 AM
international women's day here five simple steps for women empowermentWomen’s Day: इस साल की थीम #EachforEqual है, जो जेंडर इक्विलिटी और सशक्त दुनिया पर केंद्रित है.

Women’s Day Special: 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है. पूरी दुनिया का फोकस महिलाओं की समानता पर है. इस दिन महिलाओं, उनकी उपलब्धियों को सम्मानित किया जाता है व जेंडर इक्विलिटी और बराबरी के अधिकार को प्रोत्साहित किया जाता है. इस साल की थीम #EachforEqual है, जो जेंडर इक्विलिटी और सशक्त दुनिया पर केंद्रित है. महिलाएं कारोबार, आंत्रप्रेन्योरशिप या अनपेड लेबर के रूप में अर्थव्यवस्था में काफी अहम योगदान देती हैं. कॉरपोरेट्स, पब्लिक बॉडीज, सोशल इंन्क्लूजन के जरिए महिलाओं को केंद्र में रखकर चलाए जाने वाले कैम्पेन अधिक हो रहे हैं. यह बदलाव होना शुरू हो गया है.

आधुनिक महिला चाहे कामकाजी हो या सिंगल, मां हो या पत्नी या बेटी, उसका जीवन बहुआयामी होता है. ऐसी अनेक जिम्मेदारियां हैं, जो महिलाएं उठाती हैं, लेकिन उन्हें नजरंदाज कर उनका कोई हिसाब ही नहीं किया जाता. इनमें उसकी वर्क लाइफ, घरेलू कामों, घर की देखभाल, ग्रोसरी की शाॅपिंग, बच्चों व परिवार की देखभाल, डिनर बनाना आदि शामिल हैं. महिलाओं को सशक्त होना चाहिए और उन्हें एक समान आधार मिलना चाहिए, क्योंकि वो अब कमजोर नहीं. सशक्तीकरण छोटे व सार्थक प्रयासों से शुरू होता है, जो सकारात्मक परिवर्तन लाता है. आइए जानते हैं कुछ ऐसी कोशिशों जिनसे महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में ठोस एवं सार्थक कदम उठाए जा सकते हैं.

आत्मविश्वास बढ़ाना जरूरी

सशक्तीकरण अंदर से आता है और आपको यह निश्चित रूप से मानना चाहिए कि आप सशक्त हैं. महिलाओं के रूप में लिया जाने वाला पहला महत्वपूर्ण कदम आत्मविश्वास बढ़ाकर आत्मसम्मान हासिल करना, अपना महत्व समझना एवं अपनी देखभाल कर अपना सम्मान करना है. आत्मसम्मान के विकास में अपनी अंदरूनी आवाज को शक्तिशाली बनाना और अधिक प्रभावशाली विचारों के साथ अपने सोचने के नजरिए को परिवर्तित करना शामिल है. आपको खुद में विश्वास का निर्माण करना और ज्यादा प्रभावशाली बनने के लिए कौशल सीखना आवश्यक है.

शिक्षा में निवेश करना अहम

शिक्षा स्वयं एवं अन्य महिलाओं को सशक्त बनाने के सबसे महत्वपूर्ण माध्यमों में से एक है. शिक्षा, कौशल एवं आत्मविश्वास सशक्तीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण अंग हैं. शिक्षा महिलाओं को चयन करने की शक्ति देती है, जिससे उनका कल्याण, स्वास्थ्य, बच्चों की शिक्षा सुनिश्चित होती है एवं निरंतर परिवारों का विकास होता है. साथ ही शिक्षा महिलाओं को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक बनाती है, उनका आत्मविश्वास बढ़ाती है और उन्हें अपने अधिकार हासिल करने का अवसर देती है.

Women’s Day: महिलाओं के लिए Maruti और Hyundai का खास सर्विस कैंप, मिलेंगे स्पेशल ऑफर और बेनिफिट

फाइनेंशियल प्लानिंग करें

आज की व्यस्त दुनिया में महिलाओं को एक सुरक्षित भविष्य के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग जरूरी है. महिलाएं पुरुषों के मुकाबले कम समय तक काम कर पाती हैं, इसलिए उन्हें बचत/निवेश के लिए समयावधि भी कम मिलती है. उन्हें सुरक्षित व बहुमूल्य जीवन देने के लिए इश्योर्ड रहना एवं निवेश बहुत आवश्यक हैं. घर की महिला की ओर से अपने फाइनेंस की ठोस प्लानिंग से परिवार का फाइनेंशियल प्लान मजबूत होता है और जीवन के महत्वपूर्ण खर्चों, जैसे घर खरीदना, बच्चों की उच्च शिक्षा की योजना आदि के खर्चों को पूरा करने में मदद मिलती है.

फाइनेंशियल प्लानिंग महिलाओं को किसी पर भी निर्भरता के बिना अपनी व्यक्तिगत एवं प्रोफेशनल महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए भी महत्वपूर्ण है. लाइफ इंश्योरेंस अच्छी फाइनेंशियल प्लानिंग का पहला मौलिक ब्लाॅक है. टर्म इंश्योरेंस प्लान काफी किफायती होता है, लेकिन फिर भी यह इंश्योर्ड को सुरक्षा प्रदान करता है. उन्हें इंश्योर्ड भविष्य के लिए बच्चों की इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस प्लान, म्यूचुअल फंड आदि में भी निवेश करना चाहिए.

सेहतमंद रहें

महिलाओं को एक सशक्त जिंदगी जीने के लिए अन्य जरूरतों, जैसे महिलाओं के स्वास्थ्य, हाइजीन व सेहत का ख्याल रखना भी जरूरी है. खराब स्वास्थ्य व हाइजीन से अनेक समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जिनमें स्कूल से दाखिला वापस ले लेना, जेंडर इनएक्विलिटी, राष्ट्र निर्माण में सहभागिता न कर पाना, स्वास्थ्य के जोखिमों की ऊंची दर आदि हैं. इसलिए एक संतुलित आहार एवं नियमित वर्कआउट, व्यायाम करना और एक सेहतमंद जीवनशैली अपनाना आवश्यक है.

अपने कानूनी अधिकारों को जानें

महिलाओं को लेकर कई अपराध दर्ज ही नहीं हो पाते हैं क्योंकि उन्हें अपने अधिकारों की जानकारी नहीं होती है. बढ़ते अपराधों पर लगाम लगाने के लिए जरूरी है कि आप अपने कानूनी अधिकारों को जानें. भारतीय संविधान महिलाओं को अनेक अधिकार, जैसे मैटरनिटी बेनेफिट्स एक्ट, सैक्सुअल हैरासमेंट ऑफ वुमन एट वर्कप्लेस, प्रोटेक्शन ऑफ वुमन फ्राॅम डोमेस्टिक वाॅयलेंस, प्रोहिबिशन ऑफ चाइल्ड मैरेज एक्ट आदि प्रदान करता है. मां, पत्नी, बेटी, कर्मचारी या महिला के रूप में ये अधिकार आपकी सुरक्षा के लिए बनाए गए हैं और आपको अपने अधिकार मालूम होने चाहिए.

महिलाओं की स्थिति में सुधार लाने के लिए एक दिन पर्याप्त नहीं है. महिला दिवस हमें केवल यह याद दिलाता है कि महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए हम सभी को कहीं न कहीं से शुरुआत करनी होगी. महिलाओं को बिना भेदभाव हर क्षेत्र में एक समान अवसर दिए जाने चाहिए.

 

By: अंजली मल्होत्रा, चीफ कस्टमर, मार्केटिंग, डिजिटल एंड आईटी अफसर, अवीवा इंडिया

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Women’s Day: आ​र्थिक स्वतंत्रता से लेकर अधिकारों तक, ये 5 कदम महिलाओं को बनाते हैं सशक्त

Go to Top