मुख्य समाचार:

रिटायर होने के बाद नहीं निकाला है CPF का पैसा, तो मिल रहे ब्याज पर देना होगा टैक्स

CPF अमाउंट को रिटायरमेंट के बाद 36 महीनों यानी 3 साल तक बरकरार रख सकते हैं. इस अवधि के बाद CPF अकाउंट इनऑपरेटिव मान लिया जाएगा और इस पर ब्याज आना बंद हो जाएगा.

June 6, 2019 8:09 AM
Interest on CPF retained after retiring liable to taxImage: Reuters

अमित माहेश्वरी

 

Q. मैं एक 31 अगस्त 2016 को एक PSU से रिटायर हुआ. उस तारीख तक मैंने अपना कॉन्ट्रीब्यूटरी प्रॉविडेंट फंड (CPF) का पैसा नहीं निकाला था. मैं कितने वक्त तक अपना CPF बनाए रख सकता हूं और क्या मुझे CPF पर मिल रहे ब्याज पर टैक्स देना होगा?
– एनके ग्रोवर

आप CPF अमाउंट को रिटायरमेंट के बाद 36 महीनों यानी 3 साल तक बरकरार रख सकते हैं. इस अवधि के बाद CPF अकाउंट इनऑपरेटिव मान लिया जाएगा और इस पर ब्याज आना बंद हो जाएगा. इसलिए बेहतर होगा कि रिटायर होने के बाद 3 साल के अंदर CPF अमाउंट निकाल लिया जाए. हाल के कुछ नियमों के मुताबिक, रिटायरमेंट के बाद CPF पर मिलने वाला ब्याज टैक्स के दायरे में आता है.

Q. मुझे अपनी पैतृक संपत्ति की बिक्री से 15 लाख रुपये मिले. मैंने इनकम टैक्स से बचने के लिए इस पैसे को SBI टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड स्कीम में लगा दिया. क्या विदड्रॉल के वक्त मूलधन पर TDS कटेगा?
– एके राज

पैतृक सं​पत्ति की बिक्री पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स (LTCG) लगेगा. इसे आपको हासिल हुई राशि से इस प्रॉपर्टी की खरीद की आनुपातिक लागत को काटकर कैलकुलेट किया जाएगा. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स से छूट पाने के लिए SBI टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड उपयुक्त निवेश विकल्प नहीं है. हालांकि आप इस निवेश के लिए सेक्शन 80C के तहत अपनी ग्रॉस टोटल इनकम से 1.5 लाख रुपये तक की टैक्स छूट का दावा कर सकते हैं.

अगर आपने पैतृक संपत्ति वित्त वर्ष 2018-19 में या उसके बाद बेची है तो अभी भी आपके पास कैपिटल गेन्स के अमाउंट से दो साल के अंदर एक रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी खरीदने का अवसर है. नहीं तो आप रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉरपोरेशन या नेशनल हाइवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया जैसी कंपनियों के अधिसूचित बॉन्ड में प्रॉपर्टी बिक्री के 6 माह के अंदर पैसा लगा सकते हैं. इन दोनों ही तरह के निवेश के जरिए आप कैपिटल गेन अमाउंट पर टैक्स से छूट पा सकते हैं.

खाली मकान भी कराएगा कमाई, इन टिप्स से बढ़ाएं अपनी रेंटल इनकम

Q. अंतरिम बजट के मुताबिक किसी शख्स के पास FD से आने वाले 40000 रुपये तक के ब्याज पर कोई TDS नहीं लगेगा. क्या यह लिमिट चैरिटेबल ट्रस्ट पर भी लागू होगी?
– श्री CCVV ट्रस्ट

जी हां, सेक्शन 194A के मुताबिक, 40000 रुपये की यह लिमिट ट्रस्ट के लिए भी लागू होगी. यानी ट्रस्ट के पास 40000 रुपये तक के आने वाले ब्याज पर भी बैंक TDS नहीं काटेंगे. हालांकि यह लिमिटि तभी अप्लाई होगी, जब डिपॉजिट किसी शिड्यूल्ड बैंक या को-ऑपरेटिव बैंक या पोस्ट ऑफिस में किया गया हो. कंपनी डिपॉजिट्स जैसे अन्य डिपॉजिट्स के लिए ब्याज पर टैक्स से छूट की लिमिट केवल 5000 रुपये होगी.

(लेखक अशोक माहेश्वरी एंड एसोसिएट्स LLPमें पार्टनर हैं. आप अपने सवाल fepersonalfinance@expressindia.com पर भेज सकते हैं.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. रिटायर होने के बाद नहीं निकाला है CPF का पैसा, तो मिल रहे ब्याज पर देना होगा टैक्स

Go to Top