मुख्य समाचार:

Alert! बीमा के नाम पर हो सकती है धोखाधड़ी, नियामक IRDAI की ये चेतावनी न करें नजरअंदाज

इरडा ने कहा कि जालसाज बीमा ट्रांजैक्शन विभाग, आरबीआई या किसी अन्य सरकारी एजेंसियों का नाम लेकर लोगों को गुमराह करते हैं.

Published: July 28, 2020 1:24 PM
Irdai Caution to people against fraudulent offers being made by unscrupulous elementsइरडा ने कहा कि जालसाज बीमा ट्रांजैक्शन विभाग, आरबीआई या किसी अन्य सरकारी एजेंसियों का नाम लेकर लोगों को गुमराह करते हैं.

कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के इस दौर में लोगों से धोखाधाड़ी के नए-नए तरीके अपना रहे हैं. इन्हीं में से एक तरीका बीमा बेचने के नाम पर भी फ्रॉड करने का है. अब बीमा नियामक इरडा ने भी धोखाधड़ी की घटनाओं को लेकर अलर्अ किया है. इरना का कहना है कि लोगों से सीधे बीमा कंपनियों या रजिस्‍टर्ड इंटरमीडिएरी/एजेंटों से ही बीमा पॉलिसी लेनी चाहिए. भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने एक पब्लिक नोटिस में कहा है कि आम लोगों/पॉलिसीधारकों को अज्ञात और फर्जीवाड़ा करने वालों के फोन आते रहते हैं. उसमें वे खुद को इरडा के अधिकारी या प्रतिनिधि बताते हैं. इस दौरान लुभावने ऑफर्स की पेशकश भी करते हैं. ये बीमा पॉलिसी के दायरे से बाहर होते हैं. इरडा ने कहा कि वे बीमा ट्रांजैक्शन विभाग, आरबीआई या किसी अन्य सरकारी एजेंसियों का नाम लेकर लोगों को गुमराह करते हैं.

पब्लिक नोटिस के अनुसार, लोगों को फंसाने के लिए जो पेशकश दी जाती है उनमें जीवन बीमा पॉलिसी पर अवास्तविक लाभ होता है. इसमें बीमाधारक की लैप्स पॉलिसी भी शामिल होती है. इनमें अनक्लेम्ड बोनस, एजेंसी कमिशन, निवेश की रकम पर रिफंड आदि के लालच दिए जाते हैं. इस आफर के बदले जालसाज कुछ अग्रिम शुल्क, एडवांस टैक्स, डिपॉजिट आदि के लिए कहते हैं.

सोना 52,435 की रिकॉर्ड ऊंचाई पर, चांदी 8 साल में सबसे ज्यादा महंगी; जानिए एक्सपर्ट की राय

बीमा नियामक ने स्पष्ट किया है कि वह सीधे तौर पर किसी भी बीमा या वित्तीय उत्पादों की बिक्री से जुड़ा नहीं है. न ही वह बीमा कंपनियों को प्राप्त प्रीमियम राशि का निवेश करता है. इसके अलावा, वह पॉलिसीधारकों या बीमा कंपनियों के लिए बोनस का भी एलान नहीं करता है.

इरडा ने कहा, ”लोगों को सीधे बीमा कंपनियों या रजिस्‍टर्ड मध्यस्थों/एजेंटों से ही बीमा पॉलिसी लेनी चाहिए या वित्तीय लेन-देन करने चाहिए.”नियामक ने लोगों से कॉल करने वाले की जांच और उसकी पेशकश के बारे में संबंधित बीमा कंपनियों और पंजीकृत इंटरमीडिएरी से जानकारी लेने की सलाह दी है. व्यक्तिगत बीमा कंपनियों की ओर से नियुक्त बीमा एजेंसी की लिस्ट बीमा कंपनी से वेरिफाई कर सकते हैं.

Input- PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Alert! बीमा के नाम पर हो सकती है धोखाधड़ी, नियामक IRDAI की ये चेतावनी न करें नजरअंदाज

Go to Top