Income Tax Refund 15 दिन में? जानिए क्या कहते हैं टैक्स एक्सपर्ट

CBDT ने टैक्स डिपार्टमेंट से रिफंड की प्र​क्रिया तेज करने के लिए कहा है.

ITR, income tax return, income tax refund, income tax refund latest updates, CBDT, Income Tax Department, ITR latest news in hindi
CBDT ने टैक्स डिपार्टमेंट से रिफंड की प्र​क्रिया तेज करने के लिए कहा है.

टैक्सपेयर्स, खासकर जिन्होंने हाल ही में अपना इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल किया है और रिफंड का इंतजार कर रहे हैं,  के लिए अच्छी खबर है. वे अब जल्द ही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से अपना टैक्स रिफंड मिलने की उम्मीद कर सकते हैं. दरअसल, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने टैक्स डिपार्टमेंट से रिफंड की प्र​क्रिया तेज करने के लिए कहा है.

कुछ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कुछ टैक्सपेयर्स को रिटर्न फाइल करने और ई-वेरिफिकेशन के 10 से 15 दिन के भीतर टैक्स रिफंड मिल गया है. यानी, सब कुछ सही रहा तो टैक्सपेयर्स को रिटर्न फाइलिंग से जुड़ी शर्तें पूरी करने और उसमें किसी भी तरह की खामी नहीं मिलने पर 15 दिन के भीतर रिफंड मिलना शुरू हो सकता है. हालांकि, आईटीआर का ई-वेरिफिकेशन नहीं होने की स्थिति में रिफंड मिलने में देरी हो सकती है.

क्या कहते हैं टैक्स एक्सपर्ट?

टैक्स एक्सपर्ट का कहना है कि आईटीआर प्रॉसेस होने के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तत्काल रिफंड जारी कर रहा है. हालांकि, किसी तरह की विसंगति यानी खामी की स्थिति में रिफंड प्रॉसेस होने में देरी हो सकती है. क्योंकि, जब तक रिटर्न से जुड़ी खामी को टैक्स अथॉरिटी के समक्ष दूर नहीं किया जाता, तबतक रिफंड नहीं जारी होगा. अभी टैक्स रिफंड जारी करने को लेकर कोई तय समय-सीमा नहीं तय की गई है. इसमें 2 हफ्ते से 2 महीने तक का समय लगा सकता है. लेकिन, 15 दिन के भीतर रिफंड मिलना मुमकिन है.

Grant Thornton India LLP के डायरेक्टर अखिल चंदना का कहना है, ”टैक्स रिफंड क्लेम के लिए यह जरूरी है कि टैक्सपेयर अपना रिटर्न फाइल करे. किसी टैक्सपेयर की रिटर्न फाइलिंग और वेरिफिकेशन पूरा होने के बाद, टैक्स डिपार्टमेंट आईटीआर को प्रॉसेस कर देता है और प्रॉसेस पूरा होने पर टैक्सपेयस को इसकी जानकारी भेज दी जाती है. टैक्सपेयर्स को यह जानकारी भेजने का मकसद यह है कि उसका रिटर्न स्वीकार कर लिया गया है या रिटर्न में किसी भी तरह के सुधार की जरूरत हो तो वह उसे पूरा कर ले. जिससे कि रिफंड को लेकर फाइनल प्रॉसेस शुरू किया जा सके.”

टैक्स डिपार्टमेंट की तरफ से रिटर्न और रिफंड क्लेम स्वीकार करने के बाद, जितना भी रिफंड बनता उसका भुगतान ब्याज समेत टैक्सपेयर के बैंक अकाउंट में किया जाता है. टैक्सपेयर्स अपने ​रेफरेंस नंबर के जरिए अपने टैक्स रिफंड का स्टेटस भी जान सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News

Debate