मुख्य समाचार:
  1. हर महीने कर सकते हैं 50 हजार रुपये की इनकम, सरकार की मदद से शुरू करें ये काम

हर महीने कर सकते हैं 50 हजार रुपये की इनकम, सरकार की मदद से शुरू करें ये काम

Mudra Scheme: मुद्रा स्कीम के तहत हो सकती है 50 हजार मंथली इनकम

March 18, 2019 12:30 PM
Mudra Scheme, Mudra Loan, मुद्रा स्कीम, Dairy Business, Dairy Manufacturing Unit, Government Loan, Start Business, मुद्रा लोन, डेयरी बिजनेस, Regular IncomeMudra Scheme: मुद्रा स्कीम के तहत हो सकती है 50 हजार मंथली इनकम

Start Business In Mudra Scheme: बाजार में कई कंपनियों के पैकेटबंद दूध, दही, पनीर, छाछ, बटर या अन्य दूध से बनने वाले प्रोडक्ट आपने बिकते देखा होगा. आए दिन इस क्षेत्र में नई कंपनियां आती ही जा रही हैं और मार्केट में बेहतर भी कर रही हैं. असल में दूध से बनने वाले इन प्रोडक्ट की मांग बहुत ज्यादा होने से इस बिजनेस में सफल होने के चांस भी बहुत ज्यादा हो जाते हैं.

अगर आप भी डेयरी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाकर कारोबारी बनना चाहते हैं तो इस काम में आपकी मदद सरकार की मुद्रा स्कीम (Mudra)  करेगी. मुद्रा स्कीम के तहत सरकार ने जो प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाई हैं, उनमें उेयरी बिजनेस को लेकर भी रिपोर्ट तैयार की गई है. इसी रिपोर्ट के आधार पर हम आपको बताएंगे कि किस तरह से महज 5 लाख के निवेश पर हर महीने 60 हजार रुपये इनकम की जा सकती है…..

प्रोडक्ट

पैकेट बंद दूध, पैकेट बंद दही, फ्लेवर्ड मिल्‍क, बटर, बटर मिल्‍क, घी और छाछ आदि.

कितना चाहिए स्पेस

1000 वर्गफुट (500 वर्ग फुट में आपको प्रोसेसिंग एरिया, 150 वर्ग फुट में रेफ्रिजरेशन रूम, 150 वर्ग फुट में वाशिंग एरिया, 100 वर्ग फुट में ऑफिस स्‍पेस और 100 वर्ग फुट में टॉयलेट जैसी सुविधाएं देनी होंगी.)

लाइसेंस

पैकेज्ड फूड बनाने के लिए पहले हेल्थ अथॉरिटी से लाइसेंस जरूरी है.

Mudra Scheme: प्रोजेक्ट पर कुल खर्च

मशीन लगाने पर खर्च: 5.5 लाख रुपए

(इसमें क्रीम सेपरेटर, पैकिंग मशीन, बॉटल कैपिंग मशीन, फ्रीज, कूलर, वेट करने वाली मशीन, ट्रे के अलावा कुछ और छोटी मशीनें होंगी.)

रॉ मैटेरियल पर खर्च: 4 लाख रुपये सालाना
(दूध, चीनी, फ्लेवर और सॉल्ट आदि)

सैलरी देने पर खर्च: 50 हजार मंथली

अन्य खर्च: 6 लाख रुपए (ट्रांसपोर्ट व्हीकल, बिजली का बिल, टैक्स, टेलिफोन आदि का खर्च।)

कुल खर्च: 16 लाख रुपए

(प्रोजेक्ट रिपोर्ट के अनुसार इस खर्च में रोजाना 500 लीटर कच्चे दूध की प्रॉसेसिंग की जा सकेगी, जिससे पैकेट वाला दूध, घी, दही, बटर और फ्लेवर्ड मिल्क तैयार होगा.)

खुद के पास से निवेश: 4.93 लाख रुपये

रिपोर्ट के अनुसार खुद के पास 4.93 लाख रुपये दिखाने के बाद स्कीम के तहत अन्य खर्च टर्म लोन और वर्किंग कैपिटल लोन के रूप में मिल जाएगा.

टर्म लोन: 7.35 लाख रुपये
वर्किंग कैपिटल लोन: 4.16 लाख रुपये

50 हजार नेट प्रॉफिट

-प्रति दिन 500 लीटर या सालाना 1.5 लाख लीटर दूध की प्रॉसेसिंग से जितना प्रोडक्ट तैयार होगा, उससे सालाना टर्न ओवर 82 लाख रुपए तक हो सकता है.
-इसकी कुल प्रोडक्शन कास्ट 74 लाख रुपए होगी, इस लिहाज से सालाना 8.36 लाख रुपए आय होगी.
-इसमें से टैक्स आदि का खर्च (25%) काटने के बाद 6.27 लाख रुपए सालाना नेट प्रॉफिट  होगा.
-इस लिहाज से हर महीने 50 हजार रुपए से ज्यादा इनकम हो सकती है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop