रिटायरमेंट सोचकर तैयार करें पोर्टफोलियो, ताकि फाइनेंस को लेकर टेंशन हो खत्‍म | The Financial Express

Retirement Planning: रिटायरमेंट के बाद की टेंशन होगी खत्म, समय रहते कर लें ये जरूरी काम

Asset Allocation: अलग अलग एसेट क्‍लास में डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो का फायदा यह है कि जब इक्विटी में गिरावट आती है तो गोल्ड अलोकेशन से कुछ स्थिरता मिलती है.

Retirement Planning: रिटायरमेंट के बाद की टेंशन होगी खत्म, समय रहते कर लें ये जरूरी काम
Strong Portfolio: डाइवर्सिफिकेशन और एसेट अलोकेशन से पोर्टफोलियो का प्रदर्शन बेहतर किया जा सकता है.

Financial Planning for Retirement: आज के दौर में समय रहते ही फाइनेंशियल प्लानिंग बहुत जरूरी है, जिससे रिटायरमेंट के बाद रुपये पैसे की टेंशन कम हो सके. हालांकि फाइनेंशियल प्लानिंग सही तरीके से होना चाहिए, जिससे वित्तीय लक्ष्य पूरे किए जा सकें. पर्सनल फाइनेंस की बात करें तो पोर्टफोलियो डाइवर्सिफिकेशन और एसेट अलोकेशन इसके प्रमुख सिद्धांत हैं, जिनसे भारतीय निवेशक अच्छी तरह से परिचित हैं. PGIM इंडिया म्‍यूचुअल फंड के CEO अजीत मेनन ने यहां कुछ ऐसे टिप्स दिए हैं, जिससे यंग रहते ही रिटायरमेंट के बाद के लिए बेहतर प्लानिंग की जा सकती है.

पोर्टफोलियो का प्रदर्शन बेहतर करने की सोचें

आम तौर पर लोगों लोग अपने डेली वर्क को प्राथमिकता देने के लिए अपने वर्किंग ईयर के दौरान अपने शौक या पैशन को ताक पर रख देते हैं. वजह यह है कि इससे खर्च बढ़ जाते हैं. लेकिन हमें अर्निंग बढ़ानी के बारे में सोचना चाहिए. इसके लिए बेहतर पोर्टफोलियो जरूरी है. म्युचुअल फंड की बात करें तो डाइवर्सिफिकेशन और एसेट अलोकेशन से पोर्टफोलियो का प्रदर्शन बेहतर किया जा सकता है. उदाहरण के तौर पर जब इक्विटी में गिरावट आती है तो पोर्टफोलियो में गोल्ड का अलोकेशन होने से अस्थिर समय के दौरान स्थिरता मिलती है.

NFO: सिर्फ 5000 रुपये लगाकर पा सकते हैं हाई रिटर्न, मल्‍टी एसेट फंड में निवेश का नया विकल्‍प

खुद को रिटायरमेंट के लिए तैयार करें

जैसे-जैसे कोई रिटायरमेंट की उम्र तक पहुंचता है, उसके बच्चे बड़े होते जाते हैं और उसका प्रोफेशनल करियर समाप्त हो रहा होता है. रिटायरमेंट के बाद एक व्यक्ति लगभग नई पहचान के साथ सामने आता है, उसकी पुरानी आइडेंटिटी खत्म हो जाती है. इसका बेहतर समाधान यह है कि वर्किंग ईयर में ही खुद को रिटायरमेंट के लिए तैयार किया जाए.

युवा पीढ़ी की बदल रही है अप्रोच

आजकल की युवा पीढ़ी की अप्रोच बदल रही है. उनका फोकस इनकम बढ़ाने पर रहता है. बहुत से लोग नौकरी के अलावा भी कोई साइड वर्क करते हैं, जिससे उनकी आय बढ़े. साइड वर्क भी किसी के कौशल या शौक पर बेस्‍ड होता है. उदाहरण के लिए अगर आप किसी सब्‍जेक्‍ट पर एक किताब लिखते हैं और प्रकाशित करवाते हैं, तो यह आपके लिए रेगुलर वर्क के अलावा एक एक्‍स्‍ट्रा काम है. अगर किताब को बेतर रिव्‍यू मिले तो आप रिटायरमेंट में फुल टाइम लेखक बन सकते हैं.

भारत में मूनलाइटिंग कितना वाजिब

भारत में इन दिनों मूनलाइटिंग पर अच्‍छी खासी बहस हो रही है. इसकी वैधता पर भी सवाल उठाया जा सकता है, क्योंकि कई नौकरियों को काम करने का विचार कई मायने में फिट नहीं होता है. इसके पीछे तर्क यह है कि कर्मचारी एक ही कौशल का उपयोग कई नौकरियों को करने के लिए कर रहा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 28-11-2022 at 15:26 IST

TRENDING NOW

Business News