How to Use Annual Bonus: सालाना बोनस मिलने की खुशी जरूर करें सेलिब्रेट, लेकिन इन बातों का रखेंगे ध्यान तो आगे भी बना रहेगा जश्न का माहौल

Use Your Bonus Wisely : अप्रैल का महीना नए वित्त वर्ष के साथ ही बहुत से लोगों के लिए सालाना बोनस की खुशखबरी भी लेकर आता है. इस खुशी को साल-दर-साल बनाए रखने के लिए बोनस की रकम का सही इस्तेमाल करना भी जरूरी है.

सैलरी एकाउंट में सालाना बोनस जमा होने का SMS खुशखबरी के साथ ही यह सवाल भी लेकर आता है कि इस अतिरिक्त रकम का सही इस्तेमाल कैसे किया जाए?

How to Use Your Annual Bonus Wisely, Prudently and Profitably : अप्रैल का महीना देश में नए वित्त वर्ष की शुरुआत का होता है. लेकिन नए कारोबारी साल के साथ ही साथ यह महीना बहुत से लोगों के लिए खुशखबरी भी लेकर आता है. उनकी जेब या कमाई से जुड़ी ये खुशखबरी होती है सालाना बोनस के बैंक खाते में जमा होने की. कई कंपनियां इस बोनस का भुगतान अप्रैल की शुरुआत में मिलने वाले मार्च के वेतन के साथ ही कर देती हैं, तो बहुत सारे कर्मचारियों के खाते में यह रकम कुछ दिनों बाद, मसलन 10 या 15 अप्रैल तक भी आती है. सैलरी एकाउंट में बोनस जमा होने की बैंक से मिली सूचना खुशखबरी के साथ ही एक जिम्मेदारी और सवाल भी लेकर आती है. सवाल यह कि सालाना बोनस की इस रकम का सही इस्तेमाल कैसे किया जाए? क्या इसे यूं ही खर्च कर दें या फिर इसका कुछ हिस्सा भविष्य की बेहतरी के लिए भी निवेश करना चाहिए?

रिस्पॉन्सिबल फाइनेंशियल बिहेवियर यानी जिम्मेदारी भरा आर्थिक बर्ताव करने वाले तमाम लोग इस पैसे का कुछ न कुछ हिस्सा जरूर निवेश करना चाहते होंगे. ऐसे में अगला सवाल यह कि आखिर इस पैसे का सही निवेश कैसे और कहां करें? आइए हम आपको ऐसे ही कुछ विकल्प बताते हैं, जहां आप सालाना बोनस की रकम या फिर किसी और अतिरिक्त आमदनी को भी बेहतर तरीके से इस्तेमाल में ला सकते हैं.

1. कर्ज चुकाएं, बोझ घटाएं

अगर आपने कोई लोन ले रखा है, तो सबसे पहले आपको बोनस में मिली रकम का इस्तेमाल अपना कर्ज चुकाने के लिए करना चाहिए. खास तौर पर उन कर्जों को तो सबसे पहले चुकाना चाहिए, जिन पर आपको भारी-भरकम ब्याज चुकाना पड़ रहा है. मसलन, अगर आप पर क्रेडिट कार्ड का बकाया चढ़ा हुआ है तो बोनस का सबसे पहला इस्तेमाल उसे खत्म करने में करें, क्योंकि क्रेडिट कार्ड का कर्ज सबसे महंगा होता है. इसी तरह अगर आपने ऊंची ब्याज दर पर पर्सनल लोन ले रखा है, तो उसे भी चुका दें. हां, होम लोन चुकाने के बारे में आप थोड़ा आराम से सोच सकते हैं, क्योंकि आम तौर पर होम लोन का ब्याज सबसे कम होता है और फिर उसे चुकाने पर टैक्स में अतिरिक्त छूट भी मिलती है. लेकिन अगर आपका होम लोन काफी ज्यादा है, या उसकी मियाद काफी लंबी है, तो उसका कुछ हिस्सा चुकाकर आप उस बोझ को भी कम कर सकते हैं.

2. लंबे समय के लक्ष्य को ध्यान में रखकर निवेश करें

बोनस के रूप में हुई अतिरिक्त आमदनी का इस्तेमाल आप अपने जीवन के लॉन्ग टर्म फाइनेंशियल गोल यानी लंबे समय के वित्तीय लक्ष्य पूरे करने के लिए भी कर सकते हैं. इसका एक आसान और बेहतर रिटर्न देने वाला तरीका किसी अच्छे म्यूचुअल फंड में निवेश करने का हो सकता है. अगर आप बाजार में उथल-पुथल की वजह से निवेश की सही टाइमिंग को लेकर परेशान हैं, तो यह रकम आप एक बार में निवेश करने की जगह SIP यानी सिस्टमैटिक इनवेस्टमेंट प्लान के तौर पर भी निवेश कर सकते हैं. SIP न सिर्फ बाजार में उतार-चढ़ाव के जोखिम को कम करते हैं, बल्कि नियमित रूप से लंबे समय तक इनमें निवेश किया जाए तो आपको कंपाउंडिंग का फायदा भी मिलता है. जिससे आपकी लगाई छोटी-छोटी रकम आगे चलकर काफी बड़ी हो जाती है.

3. इमरजेंसी फंड का भी रखें ध्यान

अगर आपके पास पहले से पर्याप्त इमरजेंसी फंड नहीं है, तो बोनस का इस्तेमाल आप उसे मजबूत करने के लिए भी कर सकते हैं. आम तौर पर इमरजेंसी फंड इतना होना चाहिए, जोआपके छह महीने से लेकर एक साल तक के सभी खर्चों को कवर कर सके. आज के उथल-पुथल और आर्थिक अनिश्चितताओं के दौर में एक साल के खर्च के बराबर इमरजेंसी फंड रखना बेहतर रहता है. खासतौर पर तब, अगर आप प्राइवेट सेक्टर की जॉब में हैं. इस इमरजेंसी फंड को आप ऐसे फिक्स्ड डिपॉजिट यानी FD के रूप में रख सकते हैं, जिसे आसानी से तोड़ा जा सकता है. बैंकों के सैलरी एकाउंट के साथ जोड़कर ऑनलाइन क्रिएट किए जाने वाले एफडी सबसे बेहतर होते हैं, जिन्हें आप जब भी जरूरत पड़े आसानी से कैश में तब्दील कर सकते हैं. ध्यान रखें कि इमरजेंसी फंड के लिए आप जो एफडी कराएं उनमें लॉकइन पीरियड पूरी तरह से फिक्स्ड न हों. इमरजेंसी फंड की सारी रकम एक बड़े एफडी की बजाय छोटे-छोटे कई एफडी में बांटकर रखनी चाहिए, ताकि वक्त आने पर उतनी ही रकम निकाली जा सके, जितने की जरूरत है और बाकी पैसे एफडी के तौर पर आपके लिए बेहतर ब्याज कमाने का काम करते रहें.

4. टैक्स बचाना भी जरूरी है

अगर पिछले वित्त वर्ष के दौरान आप अपने रेगुलर इनवेस्टमेंट के जरिए टैक्स बचाने वाले निवेश की लिमिट का पूरा लाभ नहीं ले पाए थे, तो इस बार वित्त वर्ष की शुरुआत में ही आप अपने सालाना बोनस की मदद से उस कमी की भरपाई कर सकते हैं. इसके लिए आप लाइफ इंश्योरेंस स्कीम, हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम, पीपीएफ (PPF) एकाउंट, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (National Savings Certificate), 5 साल के फिक्स्ड टर्म वाले टैक्स सेविंग एफडी, सरकार द्वारा घोषित टैक्स सेविंग बॉन्ड्स, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) या ऐसे ही किसी तरीकों पर विचार कर सकते हैं. लेकिन अगर आपके मौजूदा निवेश ही टैक्स सेविंग के लिए जरूरी सालाना निवेश की लिमिट पार रहे हैं, तो आपको ऐसे इंस्ट्रूमेंट्स में और पैसे फंसाने की जरूरत नहीं है.

5. यही है रिटायरमेंट प्लानिंग का सही वक्त

बोनस में मिली रकम को आप अपनी रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं. जब आपको वेतन के रूप में नियमित आय मिलनी बंद हो जाएगी, तब यही निवेश आपके काम आएगा. अगर आपने हाल ही में जॉब करना शुरू किया है, तो भी ऐसा न सोचें कि अभी तो आप युवा हैं, फिर भला रिटायरमेंट के बारे में अभी से क्यों सोचें. दरअसल आप रिटायरमेंट के लिए जितनी जल्दी नियमित निवेश करना शुरू करेंगे उतनी ही बड़ा रिटायरमेंट फंड बना पाएंगे. इतना ही नहीं, करियर के शुरुआती दौर में, जब जिम्मेदारियां कम होती हैं, भविष्य के लिए पैसे निकालना ज्यादा आसान होता है. रिटायरमेंट के मकसद से निवेश करने के लिए आप पेंशन प्लान या NPS पर विचार कर सकते हैं. NPS का मतलब है नेशनल पेंशन सिस्टम (National Pension System) जो केंद्र सरकार की पहल है, जिसका लाभ सरकारी, निजी क्षेत्र या असंगठित क्षेत्र से जुड़े कोई भी कर्मचारी उठा सकते हैं. इसमें निवेश पर रिटर्न के साथ ही साथ टैक्स में छूट का अतिरिक्त लाभ भी मिलता है.

6. मेहनत की है, तो मस्ती का हक भी है

आप सोच रहे होंगे कि हमने तो आपको मेहनत से कमाया सारा का सारा बोनस सिर्फ कर्ज चुकाने या भविष्य बनाने के लिए निवेश करने की सलाह दे डाली. सारा पैसा ऐसे ही समाप्त हो गया तो बोनस मिलने की खुशी कैसे मनाएंगे? चिंता न करें. हम आपको ऐसी सलाह बिलकुल नहीं दे रहे. इस बोनस पर आपकी और आपके अपनों की आज की खुशियों का भी हक है. तो इसका एक हिस्सा आप सेलिब्रेट करने के लिए भी जरूर रखें, ताकि नए वित्त वर्ष में भी वैसे ही जमकर मेहनत करने और बोनस कमाने की ललक और चाहत बनी रहे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Most Read In Investment Saving News

TRENDING NOW

Business News