मुख्य समाचार:

कोरोना काल में कैसे ​करें निवेश? भविष्य में न हो पैसे की कमी, जीवन रहे सुरक्षित

कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के असर का अनुमान लगा पाना मुश्किल है. इसके अलावा, यह भी स्पष्ट नहीं है कि वैश्विक समस्याओं की रिकवरी ​किस तरह होगी.

April 17, 2020 2:00 PM
How to invest and secure your financial future in times of Coronavirus pandemic mutual fund equities term insuranceCoronavirus Pandemic के असर का अनुमान लगा पाना मुश्किल है.

How to invest in times of Coronavirus: अभी पूरी दुनिया में इस बात को लेकर अनिश्चितता की स्थिति है कि आने वाले समय में किस तरह के बदलाव देखने को मिलेंगे. कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के असर का अनुमान लगा पाना मुश्किल है. इसके अलावा, यह भी स्पष्ट नहीं है कि वैश्विक समस्याओं की रिकवरी ​किस तरह होगी. आज के समय में लग्जरी चीजों की बजाय कई दूसरी आवश्यक बातों पर विचार करना अहम है. इसमें एक हमारी सुरक्षा के लिए वित्तीय स्वास्थ्य के बारे में भी जरूरी फैसला लेना है.

अधिकांश लोग महामारी के दौरान निवेश कैसे करना चाहिए, इस पर बात कर रहे हैं. कई लोग वेल्थ संबंधित परामर्श चाहते हैं. इसी तरह, अधिकांश निवेशकों के लिए पोर्टफोलियो समायोजित करने का एक अहम समय है. यहां यह कहना चाहूंगा कि कोई नहीं जानता की बाजार की चाल कैसी रहेगी. वास्तव में, यदि कोई भविष्य को लेकर दावा करता है, तो उसे सोशल डिस्टेंसिंग का अभ्यास करना चा​हिए. किसी के पास स्पष्टता नहीं है. लेकिन, मैं उन दो सवालों के जवाब देना चाहूंगा, जिसे आज लोग पूछ रहे हैं.

पहला, क्या मैंने अच्छे म्यूचुअल फंड में निवेश किया है? यह जानना बहुत जरूरी है कि जहां निवेश किया है, उस फंड की क्वालिटी कैसी है. यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि आप अपने पैसे को ऐसे फंड मे निवेश करेंगे जो ग्रोथ की बजाय पैसे को डुबो दे? यह जानने का सबसे बेहतर रास्ता यह है कि आप अपनी जरूरत और जोखिम की क्षमता के आधार पर एक वेल्थ कोच से संपर्क करे जो आपके लिए परफेक्ट पोर्टफोलियो प्लान करे. इस तरह, वे आपके लिए अच्छे फंड तलाशने में मदद कर सकते हैं या आपकी जरूरत के मुताबिक अच्डे फंड में निवेश की सलाह दे सकते हैं.

कोरोना संकट का इस साल अप्रेजल पर होगा असर, कंपनियों के सामने क्या है बड़ा संकट

दूसरा, एक सवाल को काफी पूछा जा रहा है, क्या निवेश जारी रखना चाहिए? यदि आपके पास नियमित मासिक आमदनी है तो SIPs रोकने की कोई जरूरत नहीं है. ऐसे समय में शेयर या म्यूचुअल फंड की असल हकीकत पता चलती है. बहरहाल, हम कई तरह के वित्तीय फैसले कर सकते हैं, जो भविष्य में हमारे लिए उपयुक्त होंगे. यहां हम ‘5 बकेट फिलॉस्फी’ पर बात कर रहे हैं. ये ऐसे 5 बकेट हैं, जो हमें अपने के लिए बनानी चाहिए.

इमरजेंसी फंड (Emergency Fund)

सबसे पहली बात, आपके पास इमरजेंसी और प्रोटेक्शन फंड होना चाहिए. हमेशा अपने पास 3 से 6 महीने के लिए रोजमर्रा के खर्च की रकम लिक्विड अकाउंट में रखें. इस फंड का इस्तेमाल तभी करें जब वास्तव में इमरजेंसी हो.

प्रोटेक्शन (Protection)

अगली अहम बात, हम सभी के पास एक सिंपल टर्म लाइफ इंश्योरेंस और पर्याप्त हेल्थ इंश्योरेंस होना चाहिए. इसके अलावा यदि आप अधिक यात्राएं करते हैं, जिसे आप लॉकडाउन समाप्त होने के बाद शुरू कर सकते हैं, तो आपके पास ओवरसीज ट्रैवल इंश्योरेंस होना चाहिए. इसी तरह, यदि आप मकान मालिक हैं तो होम इंश्योरेंस भी महत्वपूर्ण है. ये ऐसी चीजें हैं तो आपको और आपके परिवार को मानसिक शांति देंगी.

शॉर्ट टर्म जरूरत (Short Term Needs)

यदि एक बार दिमागी तौर पर निश्चिंत हो गए तो आप अपनी शॉर्ट टर्म यानी लघु अवधि के लक्ष्यों को हासिल करने की तैयार कर सकते हैं. यह खर्चे 3 महीने से 3 साल के लिए है. संभव है यह कोई इंटरनेशल टूर हो, जिसके लिए आप काफी लालायित हों, आप कोई कोर्स करना चाहते हों, फैंसी क्लब की मेम्बरशिप चाहते हों वगैरह वगैरह. द क्यूब वेल्थ ऐप के जरिए आप ऐसे लक्ष्यों के लिए तय समय और उसे जुड़े जोखिम का आकलन कर सकते हैं. अधिकांश निवेशक इन खर्चों के लिए इक्विटी मार्केट फंड में निवेश करने की भूल करते हैं. यह जान लें शॉर्ट टर्म लक्ष्यों के लिए शेयर में निवेश से बचना चाहिए.

लॉकडाउन: PF अकाउंट में घर बैठे ऑनलाइन ठीक कराएं जन्मतिथि, फॉलो करें ये आसान स्टेप्स

मीडियम टाइमफ्रेम (Medium Timeframe)

इसी तरह थोड़े बड़े और निश्चित लक्ष्यों जैसेकि मकान के डाउन पेमेंट, बच्चे के स्कूल की फीस आदि के लिए आप एक निवेश बकेट बना सकते हैं. ये खर्चे आमतौर पर 3 से 5 साल के लिए होते हैं. आप म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं जो आपके इन लक्ष्यों को पूरा करने में मददगार होंगे.

लॉन्ग टर्म थिंकिंग (Long Term Thinking)

यह बकेट बड़े लक्ष्यों जेसेकि बच्चे की कॉलेज एजुकेशन, दूसरा घर, रिटायरमेंट फंड आदि के लिए है. यह ऐसे लक्ष्य हैं जिनके लिए पैसे की जरूरत कम से कम 5 साल बाद पड़ती है. अधिकांश निवेशक इन जरूरतों की अनदेखी करते हैं. इनमें निवेश को लेकर उनका नजरिया संकीर्ण रहता है. वे इस बात का आभास नहीं कर पाते हैं सही समय पर निवेश शुरू कर वह अपने पैसे को कम्पाउंडिंग की ताकत दे सकते हैं.

बहरहाल, इस दृष्टिकोण को अपनाने से आपको कुछ प्रमुख क्षेत्रों में मदद मिलेगी. जैसेकि, यह यह सुनिश्चित करेगा कि बाजार में उतार—चढ़ाव की स्थिति में आपको पैनिक होने की जरूरत नहीं है. दूसरा, आपको उन जरूरतों के लिए फंड मिलेगा, जब आप चाहते हैं. तीसरा, यह नजरिया लंबे समय में आपको पैसे बनाने और रईस बनाने में मदद करेगा.

By: Satyen Kothari, Founder, and CEO, Cube Wealth

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. कोरोना काल में कैसे ​करें निवेश? भविष्य में न हो पैसे की कमी, जीवन रहे सुरक्षित

Go to Top