मुख्य समाचार:
  1. बिना नौकरी भी होती रहेगी मंथली इनकम, अपने फंड का ऐसे करें इस्तेमाल

बिना नौकरी भी होती रहेगी मंथली इनकम, अपने फंड का ऐसे करें इस्तेमाल

मंथली इनकम के लिए कहां निवेश करें फंड

June 5, 2019 8:18 AM
Monthly Income, Retirement, SWP, MIS, Dividend, Mutual Fund, मंथली इनकम, म्यूचुअल फंड, डाक घर, Retirement Fund, Income, Invest, Returnमंथली इनकम के लिए फंड का कैसे करें इस्तेमाल

मयंक एक निजी कंपनी में काम करते हैं जो अगले 6 महीने में रिटायर हो जाएंगे. रिटायरमेंट के समय उन्हें करीब 30 लाख रुपये का फंड मिलेगा. नौकरी के दौरान मयंक ने घर, बच्चों की शिक्षा और गाड़ी जैसी जरूरतें तो पूरी कर ली, लेकिन रिटायरमेंट की प्लानिंग करने से चूक गए. अब उनके सामने सवाल उठता है कि वह अपने फंड को कहां निवेश करें कि रिटायरमेंट के बाद भी उन्हें महीने की कुछ न कुछ कमाई होती रहे. वह चाहते हैं कि कम से कम 25 हजार रुपये हर महीने मिले, जिससे वे अपनी बुनियादी जरूरतें पूरी कर सकें. इसके अलावा उन्होंने अपना एक फ्लैट किराए पर दिया है, जिससे हर महीने 15 हजार रुपये उन्हें मिल जाते हैं.

कहां है निवेश का विकल्प

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि इसके लिए बेहतर विकल्प है कि एक जगह निवेश की जगह फंड अलग अलग स्कीम में निवेश किए जाएं, जिससे रिस्क भी कवर होता रहे. अगर 30 लाख रुपये एक मुश्त मिले तो इसके लिए 10 लाख रुपये तो अपने इमरजेंसी फंड के रूप में बैंक में रख दें, जहां ब्याज जुड़ता रहेगा.

बचे हुए फंड को डाकघर की मंथली इनकम स्कीम और म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है. म्यूचुअल फंड में इक्विटी और डेट फंड का रेश्यो 30:70 होना चाहिए. दोनों से 8 से 9 फीसदी तक रिटर्न मिल सकता है. इसके अलावा सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान और डिविडेंड भी बेहतर विकल्प है.

MIS (मंथली इनकम स्कीम)

मंथली इनकम स्कीम पोस्ट ऑफिस की पॉपुलर स्कीम है, जिसमें एक मुश्त निवेश कर हर महीने इनकम की जा सकती है. इस स्कीम के तहत ज्वॉइंट अकाउंट के जरिए 9 लाख रुपये एक मुश्त निवेश किया जा सकता है. इस पर सालाना ब्याज 7.3 फीसदी है. इस लिहाज से 9 लाख रुपये पर सालाना ब्याज 65700 रुपये होगा, जिसे 12 महीनों में बांट दिया जाएगा. यानी हर महीने करीब 5500 रुपये आप निकाल सकते हैं.

यह स्कीम 5 साल की है, लेकिन इसे आगे भी 5—5 साल के लिए बढ़ा सकते हैं. अगर किसी महीने पैसों की जरूरत नहीं है और ये पैसे नहीं निकालते हैं तो आपके कुल फंड में ये अमाउंट भी जुड़ जाएगा और इन पर भी ब्याज जोड़कर मिलेगा.

सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान (SWP)

सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान (SWP) एक तरह से एग्रेसिव हाइब्रिड स्कीमों में डिविडेंड का विकल्प हैं. पैसे के नियमित फ्लो के नजरिए से देखें तो यह बेहतर विकल्प है. आपको हर महीने जितने पैसे जरूरत होती है, उतना निकाल सकते हैं. SWP में निवेशक एक तय राशि म्यूचुअल फंड स्कीम में अपने निवेश से निकाल सकते हैं. यह पैसा रोजाना, वीकली, मंथली, क्वार्टली, 6 महीेन पर या सालाना आधार पर निकाला जा सकता है.

अगर 10 लाख का कॉर्पस म्युचुअल फंड में निवेश करते हैं और इस पर उसे औसतन 10 फीसदी की ब्याज मिलता है तो उसे हर महीने 8333 रुपए की आय होती रहेगी. वहीं, 20 लाख के कॉर्पस पर करीब 17 हजार रुपये महीने का मिल सकता है. SWP पर निकासी पूरी तरह टैक्स फ्री होती है.

डिविडेंड ऑप्शन

अगर मयंक को मंथली इनकम की जरूरत है तो उन्हें डिविडेंड ऑप्शन के साथ एग्रेसिव हाइब्रिड फंडों में पैसा लगाना चाहिए. ये स्कीम 7 से 8 फीसदी तक रिटर्न दे सकती हैं. हालांकि यह डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (डीडीटी) पर निर्भर करेगा. 10 लाख के कॉर्पस पर हर महीने 6666 रुपये मिल सकते हैं. वहीं 20 लाख पर यह राशि करीब 13 हजार हो सकती है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop