सर्वाधिक पढ़ी गईं

Notional Rent: खाली घर पर भी देना पड़ता है टैक्स, समझें नोशनल रेंट का कैलकुलेशन

Notional Rent : ग्रोस एनुअल वैल्यू में से म्यूनिसिपल वैल्यू घटाने के बाद नेट एनुअल वैल्यू आती है.

Updated: Apr 13, 2019 9:18 AM
how to calculate notional rent on second homeNotional Rent : अगर दूसरे मकान में परिवार के सदस्य रह रहे हैं तो कोई रेंट टैक्स नहीं बनेगा.

Notional Rent on Second Home : अंतरिम बजट 2019 में इनकम टैक्स से संबधित कई बदलाव किए जो नए वित्त वर्ष 2019-20 की शुरुआत के साथ ही लागू हो गए हैं. इन नए नियमों के चलते अब नए वित्त वर्ष में बजट कैलकुलेशन भी अलग रहेगी. हालांकि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न भरते वक्त पुराने नियमों के हिसाब से ही टैक्स कैलकुलेशन होगी. इन बदले हुए नियमों में से एक नियम है दूसरे सेल्फ ऑक्यूपाइड घर को टैक्स फ्री कर देना.

सरकार ने अब किसी व्यक्ति के दूसरे सेल्फ ऑक्यूपाइड मकान को भी टैक्स फ्री कर दिया है. अभी तक नियम यह था कि आपके दूसरे मकान में भले ही आपके परिवार के सदस्य रह रहे हों यानी आपने मकान किराए पर न दिया हो, फिर भी उस मकान पर आस-पास के एरिया के मुताबिक रेंट कैलकुलेशन होता था.

इसी पर सरकार टैक्स कैलकुलेट करती थी. लेकिन अब इस दूसरे मकान को केवल किराए पर उठाने पर ही टैक्स देना होगा. यानी अगर दूसरे मकान में परिवार के सदस्य रह रहे हैं या वो खाली है तो कोई रेंट टैक्स नहीं बनेगा. लेकिन यह नियम सिर्फ 2 सेल्फ ऑक्यूपाइड घर के लिए बदला गया है. अगर किसी के हिस्से में तीन घर है तो उस तीसरे मकान पर पहले की तरह ही टैक्स देना होगा. साथ ही वित्त वर्ष 2018-19 के लिए भी असेस्मेंट ईयर 2019-20 में दूसरे घर पर टैक्स देना होगा.

आइए जानते हैं कि इस नोशनल रेंट की कैलकुलेशन कैसे होती है.

Notional Rent का कैलकुलेशन

सीए मनीष कुमार गुप्ता ने बताया कि इनकम टैक्स 1961 के तहत अगर आप किसी मकान से किराया नहीं कमा रहे हैं फिर भी ये मान लिया जाए कि आप उस घर से रेंट कमा रहे हैं तो उसे नोशनल रेंट कहा जाता है. नोशनल रेंट निकालते वक्त 3 बातों को ध्यान में रखा जाता है – फेयर रेंट, म्युनिसिपल वैल्यू और स्टेंडर्ड रेंट.

किसी भी एरिया में दूसरे घर जिस रेट पर किराए पर दिए जा सकते हैं उसे फेयर रेंट कहते हैं. किसी भी एरिया की म्यूनिसिपल ऑथोरिटी द्वारा तय किए गए हाउस प्रॉपर्टी का रेट उसकी म्यूनिसिपल वैल्यू होती है. रेंट कंट्रोल एक्ट के मुताबिक कोई भी व्यक्ति या ऑथोरिटी, स्टेंडर्ड रेंट से ज्यादा रेंट नहीं वसूल सकता. सेविंग अकाउंट में पैसा रखकर क्यों उठा रहे हैं नुकसान, ऐसे पा सकते हैं दोगुना रिटर्न

गुप्ता के अनुसार, मान लीजिए कि दिल्ली के मयूर विहार एरिया में किसी घर का फेयर रेंट 100 रुपये, म्यूनिसिपल वैल्यू 80 रुपये और स्टेंडर्ड रेंट 90 रुपये है. टैक्स के नियम के हिसाब से फेयर रेंट और म्यूनिसिपल वैल्यू में से बड़ी रकम को एक्सपेक्टेड रेंट माना जाना चाहिए. इसलिए इस केस में एक्सपेक्टेड रेंट 100 रुपये होगा. लेकिन टैक्स का दूसरा नियम कहता है कि किसी भी एरिया में रेंट स्टेंडर्ड रेंट से ज्यादा वसूला जा सकता. इस केस में 90 रुपये स्टेंडर्ड रेंट है. इसलिए ग्रोस एनुअल वैल्यू 90 रुपये मानी जाएगी.

इनकम टैक्स में असल खर्चे, आमदनी में से घटाने के बाद ही टैक्सेबल रकम निकाली जाती है. इसलिए ग्रोस एनुअल वैल्यू में से आपके द्वारा भुगतान किए गए म्युनिसिपल टैक्स को घटाने के बाद नेट एनुअल वैल्यू निकाली जाएगी. मान लीजिए आपको इस साल 40 रुपये का म्युनिसिपल टैक्स देना है. लेकिन आपने सिर्फ 30 रुपये का ही भुगतान किया है. ऐसे में आप सिर्फ 30 रुपये ही टैक्स के नाम से घटा सकते हैं ना कि 40 रुपये. क्योंकि इनकम टैक्स में जितनी आपके द्वारा पेमेंट की गई है सिर्फ उसी रकम को घटाया जा सकता है. साथ ही इस बात से भी फर्क नहीं पड़ता है कि आपने किस साल के म्यूनिसिपल टैक्स का भुगतान किया है. SIP के जरिए Mutual Find में निवेश कैसे शुरू करें, ऑनलाइन भी है ऑप्शन

ग्रोस एनुअल वैल्यू में से म्यूनिसिपल वैल्यू घटाने के बाद नेट एनुअल वैल्यू आती है. इनकम फ्रॉम हाउस प्रॉपर्टी निकालने के लिए नेट एनुएल वैल्यू का 30 फीसदी स्टेंडर्ड डिडक्शन के नाम से घटाया जाएगा. इसके अलावा अगर आपने घर पर लोन लिया है तो आप ब्याज की 2 लाख तक की रकम को नेट एनुअल वैल्यू में से घटा सकते हैं. ये दोनों खर्चें घटाने के बाद आपके पास इनकम फ्रॉम हाउस प्रॉपर्टी आएगी जिसपर आपको अपनी स्लैब रेट के हिसाब से टैक्स का भुगतान करना होगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. Notional Rent: खाली घर पर भी देना पड़ता है टैक्स, समझें नोशनल रेंट का कैलकुलेशन

Go to Top