मुख्य समाचार:

डाकघर में 6000 मंथली निवेश से बनाएं 10 लाख, जानें RD में कैसे जुड़ता है कंपाउंडिंग ब्याज

रिकरिंग डिपॉजिट (RD) एक सुरक्षित निवेश का विकल्प है, जहां कुछ फिक्स्ड इनकम स्कीम या सेविंग्स अकाउंट की तुलना में ज्यादा ब्याज मिलता है.

Published: June 15, 2020 4:04 PM
Recurring Deposit, Post Office RD, RD, रिकरिंग डिपॉजिट (RD), how to calculate interest rate on RD account, compounding interest rate, post office, bank, financial institutions, small savings scheme, safe investment optionरिकरिंग डिपॉजिट (RD) एक सुरक्षित निवेश का विकल्प है, जहां कुछ फिक्स्ड इनकम स्कीम या सेविंग्स अकाउंट की तुलना में ज्यादा ब्याज मिलता है.

Calculate Interest Rate on Recurring Deposit: रिकरिंग डिपॉजिट (RD) एक सुरक्षित निवेश का विकल्प है, जहां कुछ फिक्स्ड इनकम स्कीम या सेविंग्स अकाउंट की तुलना में ज्यादा ब्याज मिलता है. यह स्कीम मार्केट लिंक्ड नहीं होने से निवेशकों के लिहाज से गारंटेड रिटर्न देने वाली मानी जाती है. आरडी खाता किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक, फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन और डाकघर में खुलवाया जा सकता है. यहां आरडी पर 5.5 से 6 फीसदी के बीच ब्याज मिल रहा है.

आरडी भी एफडी की ही तरह फाइनेंशियल इन्वेस्टमेंट आप्शन है, लेकिन यहां निवेश को लेकर सहूलियत ज्यादा है. एफडी में जहां आपको किसी भी स्कीम में एक मुश्त पैसा लगाना पड़ता है. आरडी में आप एसआईपी की तरह अलग अलग इंस्टालमेंट में मंथली बेसिस पर निवेश कर सकते हैं. इसमें आपके खाते में ब्याज तिमाही आधार पर कंपाउंडिंग होकर जुड़ती है.

इन बातों का ध्यान रखें

आरडी पर ब्याल कंपांउंडिंग के हिसाब से जुड़ता है. इसका मतलब हुआ कि जितना ज्यादा टेन्योर होगा, उसी हिसाब से फायदा बढ़ता जाएगा. इसलिए आरडी करते समय लांग टर्म का गोल रखना चाहिए.

इसके अलावा आरडी करते समय अलग अलग बैंकों और डाकघर का ब्याज देख लें. जरूरी नहीं है कि आपका जिस बैंक में बचत खाता हो, आरडी उसी में की जाए. मसलन डाकघर की आरडी पर ब्याज 5.8 फीसदी है. जबकि कई बैंकों में इससे कम ब्याज मिल रहा है. ज्यादा ब्याज दर चुनकर फायदा बढ़ा सकते हैं.

10 लाख के फंड के लिए

डाकघर में अभी आरडी पर ब्याज 5.8 फीसदी सालाना तिमाही कंपांउंडिंग है. इस लिहाज से 10 लाख का फंड बनाने के लिए 10 साल तक हर महीने 6100 रुपये का निवेश करना होगा. यह तब है कि जब आगे भी ब्याज दर 5.8 फीसदी ही रहे. यहां आपको कुल 7.32 लाख के निवेश पर 3.64 लाख का अतिरिक्त ब्याज मिलेगा.

कैसे होता है कैलकुलेट

आरडी पर ब्याज कैलकुलेट करने के लिए अलग अलग फॉर्मूला हैं.

अगर आप मंथली निवेश करते हैं…

M = R [(1+i)n – 1] divided by 1-(1+i)(-1/3)

M: RD की मेच्योरिटी वैल्यू
R: RD के मंथली इंस्टालमेंट की संख्या
n: टेन्योर (कुल तिमाही की संख्या)
I: ब्याज दर/400

अगर एक मुश्त रकम जमा करते हैं….

A = P (1 + r/n) ^ nt

A: फाइनल अमाउंट
P: कुल कितना निवेश किया
r: ब्याज दर
n: एक साल में ब्याज कितनी बार कंपांउंड हुआ
t: आरडी का कुल टेन्योर

इसके अलावा तमाम बैंक या इंस्टीट्यूशंस भी आरडी कैलकुलेटर की सुविधा देती हैं. इसका इस्तेमाल कर आप अपने निवेश की करीब करीब वैल्यू जान सकते हैं.

RD पर सबसे ज्यादा ब्याज देने वाले बैंक

उत्कर्ष स्माल फाइनेंस बैंक                          9.00%             456 दिन से 2 साल तक
फिनकेयर स्माल फाइनेंस बैंक                     9.00%              24 महीने 1 दिन से 36 महीने
सूर्योदा स्माल फाइनेंस बैंक                          8.75%              2 साल से 3 साल तक
जना स्माल फाइनेंस बैंक                              8.50%             2 साल
उज्जीवन स्माल फाइनेंस बैंक                       8.30%             799 दिन
इक्विटास स्माल फाइनेंस बैंक                       8.30%             30 महीने
ESAF स्माल फाइनेंस बैंक                          8.25%             365 दिन से 545 दिन
IDFC First बैंक                                        8.00%             1 साल
DCB बैंक                                                   8.00%             3 साल
RBL बैंक                                                   7.65%               2 साल से 36 महीने तक
इंडस्इंड बैंक                                              7.50%               12 महीने

(source: www.paisabazaar.com)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. डाकघर में 6000 मंथली निवेश से बनाएं 10 लाख, जानें RD में कैसे जुड़ता है कंपाउंडिंग ब्याज

Go to Top