दिवाली से पहले 16% सस्ता मिल जाएगा गोल्ड, मोदी सरकार की स्कीम का उठाएं फायदा

अगर आप फेस्टिव सीजन से पहले सोना खरीदने का मन बना रहे हैं तो यह आपको 16 फीसदी तक सस्ता मिल जाएगा. आरबीआई द्वारा इश्यू किया गया सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड सेकंडरी मार्केट में डिस्काउंट पर ट्रेड कर रहा है.

अगर आप फेस्टिव सीजन से पहले सोना खरीदने का मन बना रहे हैं तो यह आपको 16 फीसदी तक सस्ता मिल जाएगा. आरबीआई द्वारा इश्यू किया गया सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड सेकंडरी मार्केट में डिस्काउंट पर ट्रेड कर रहा है. (Reuters)

अगर आप फेस्टिव सीजन से पहले सोना खरीदने का मन बना रहे हैं तो यह आपको 16 से 17 फीसदी तक सस्ता मिल जाएगा. असल में आरबीआई द्वारा इश्यू किया गया सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड सेकंडरी मार्केट में डिस्काउंट पर ट्रेड कर रहा है. ऐसे में आप इसका फायदा उठा सकते हैं. सोना भी 24 कैरेट शुद्धता वाला. वहीं, इस पर 2.5 फीसदी सालाना के लिहाज से गारंटेड रिटर्न भी मिलेगा. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड मोदी सरकार की खास योजना है, जानते हैं इसकी पूरी डिटेल…..

16% तक सस्ता मिल रहा है सोना

एंजेल ब्रोकिंग के कमोडिटी एंड करंसी के वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता का कहना है कि निवेश के लिए सोना खरीदना है तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड अभी इसके लिए बेहतर विकल्प है. इन दिनों एमसीएक्स पर सोने का भाव 30500 रुपए प्रति 10 ग्राम है. वहीं, सेकंडरी मार्केट में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2600 से 2700 रुपए प्रति ग्राम के हिसाब से ट्रेड कर रहा है. यानी 16 फीसदी तक सस्ता.

सोना खरीदने का सही वक्त

अनुज गुप्ता का कहना है कि मौजूदा दौर में जब इक्विटी मार्केट में दबाव है. ट्रेड वार बढ़ने की आशंका है, वहीं डॉलर में रुपये के मुकाबले मजबूती आ रही है. ऐसे में यह सोना खरीदने के लिए सही समय है. अपने कुल पोर्टफोलियो का 20 फीसदी सोने में निवेश किया जा सकता है.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के बारे में

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड मोदी सरकार की योजना है, जिसके तहत फिजिकल फॉर्म की बजाए सोना डीमैट या पेपर फॉर्मेट में खरीदा जा सकता है. इसकी वैल्यू 24 कैरेट गोल्ड के लिहाज से तय की जाती है. सरकार का मानना है कि इससे फिजिकल फॉर्म यानी ज्वेलरी, बार, क्वॉइन के रूप में सोना रखने की झंझट से छुटकारा मिलेगा.

कितनी है निवेश की लिमिट

एक शख्स एक वित्त वर्ष में मिनिमम 1 ग्राम और मैक्सिमम 4 किलोग्राम तक वैल्यू का बॉन्ड खरीद सकता है.

कितना मिलता है ब्याज

बॉन्ड पर सालाना 2.5 फीसदी ब्याज फिक्स किया गया है. ब्याज निवेशक के बैंक अकाउंट में हर 6 महीने पर क्रेडिट किया जाता है. अंतिम ब्याज मूलधन के साथ मेच्योरिटी पर दिया जाता है. मेच्योरिटी पीरियढ 8 साल है, लेकिन 5 साल, 6 साल और 7 साल का भी विकल्प होता है.

क्‍या हैं इसके फायदे

-गोल्‍ड सॉवरने बॉन्‍ड खरीदने पर फि‍जि‍कल रूप में सोना संभालने का कोई झंझट नहीं रह जाएगा.

-इसका इस्‍तेमाल लोन लेने के लि‍ए जमानत के तौर पर कि‍या जा सकता है.

-बॉन्‍ड पर सालाना 2.50 फीसदी का रिटर्न मि‍लने की गारंटी.

-ब्याज पर टैक्स से छूट.

यहां से खरीद सकते हैं बॉन्‍ड

– बैंक, स्‍टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), चुनिंदा पोस्‍ट ऑफिस, ऑथराइज स्‍टॉक एक्‍सचेंज जैसे बीएसई और एनएसई से बॉन्‍ड खरीदे जा सकते हैं।

आॅनलाइन खरीदने पर छूट

अगर सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड आॅनलाइन खरीदते हैं तो हर 10 ग्राम पर 50 रुपये की छूट मिलती है.

कौन खरीद सकता है

कोई भी भारतीय नागरिक, संस्‍था, हिंदू गैर विभाजित परिवार, ट्रस्‍ट, यूनिवर्सिटी और धार्मिक संस्‍थाएं।

क्या इसमें रिस्क है

अगर सोने के बाजार मूल्य में गिरावट आती है तो कैपिटल लॉस का खतरा हो सकता है.

Get live Stock Prices from BSE and NSE and latest NAV, portfolio of Mutual Funds, calculate your tax by Income Tax Calculator, know market’s Top Gainers, Top Losers & Best Equity Funds. Like us on Facebook and follow us on Twitter.