मुख्य समाचार:
  1. Health Insurance के लिए दिए गए प्रीमियम पर कितनी टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं?

Health Insurance के लिए दिए गए प्रीमियम पर कितनी टैक्स कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं?

हेल्थ इंश्योरेंस के लिए दिए गए प्रीमियम के लिए टैक्स लाभ के लिए इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के अनुसार धारा 80 D के अंतर्गत क्लेम किया जा सकता है.

August 3, 2018 3:31 PM
health insurance tax benefit, health insurance tax section, health insurance tax deduction 2018, health insurance tax rebate 2018, health insurance tax exemption india, health insurance tax exemption india, tax benefit health insurance policiesहेल्थ इंश्योरेंस के लिए दिए गए प्रीमियम के लिए टैक्स लाभ के लिए इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के अनुसार धारा 80 D के अंतर्गत क्लेम किया जा सकता है. (Reuters)

आजकल बढ़ते हेल्थकेयर खर्च के कारण एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना जरूरी हो गया है. यदि आपने एक कंपनी ग्रुप हेल्थ इंश्योरेंस ले रखा है तब भी अलग से एक इंडिविजुअल हेल्थ प्लान लेकर रखना चाहिए ताकि नौकरी छूटने के बाद भी या आपकी कंपनी द्वारा पॉलिसी बंद कर दिए जाने के बाद भी आपको फाइनेंशियल सुरक्षा मिल सके. एक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीदने से मेडिकल इमरजेंसी के दौरान फाइनेंशियल सुरक्षा मिलने के अलावा टैक्स लाभ भी मिलता है. हेल्थ इंश्योरेंस के लिए दिए गए प्रीमियम के लिए टैक्स लाभ के लिए इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के अनुसार धारा 80 D के अंतर्गत क्लेम किया जा सकता है.

नीचे, हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम पर क्लेम की जा सकने वाली टैक्स कटौतियों का लिस्ट दिया गया है.

अपने लिए, अपनी पत्नी/पति और बच्चों के लिए: आप मूल्यांकन वर्ष 2019-2020 के लिए अपने लिए, अपनी पत्नी/पति या बच्चों के लिए दिए गए हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम के लिए अधिक से अधिक 25,000 रु. तक की कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं.

माता-पिता (चाहे आश्रित हो या न हो) के लिए जो सीनियर सिटिज़न नहीं हैं: माता-पिता के हेल्थ प्लान के लिए दिए गए प्रीमियम के लिए जो सीनियर सिटिज़न नहीं हैं, आप 25,000 रु. की कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं.

माता-पिता (चाहे आश्रित हो या न हो) के लिए जो सीनियर सिटिज़न हैं: इस वर्ष के बजट के बाद सीनियर सिटिज़न के हेल्थ प्लान के लिए दिए गए प्रीमियम पर आपको 50,000 रु. की कटौती के लिए क्लेम करने में मदद मिलेगी. पिछले फाइनेंशियल वर्ष 2017-2018 में इस श्रेणी के अंतर्गत स्वीकार्य कुल कटौती का परिमाण 30,000 रु. था.

यदि आप और आपके माता-पिता दोनों सीनियर सिटिज़न हैं: यदि आप और आपके माता-पिता दोनों सीनियर सिटिज़न हैं तो कटौती का परिमाण प्रत्येक के लिए 50,000 रु. होगा और इस तरह कुल मिलाकर 1 लाख रु. की कटौती के लिए क्लेम किया जा सकता है.

सीनियर सिटिज़न जिन्हें हेल्थ प्लान नहीं मिल सकता लेकिन उन पर मेडिकल खर्च होता है: जिनकी उम्र 60 साल से अधिक है लेकिन उन्हें हेल्थ प्लान नहीं मिल सकता, उन लोगों पर होने वाले मेडिकल खर्च के लिए कटौती की सीमा 50,000 रु. है.

एक्स्ट्रा कटौती: आप 5,000 रु. की एक्स्ट्रा कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं यदि आपने कोई हेल्थ चेक- अप या कोई टेस्ट कराया है लेकिन आपके पास इसकी रसीद होनी चाहिए. लेकिन, कृपया ध्यान दें कि यह कटौती, धारा 80 D के अंतर्गत व्यक्तिगत सीमा से ऊपर और अधिक नहीं है.

बहुवर्षीय हेल्थ प्लान के लिए: कई लोग बहुवर्षीय हेल्थ प्लान खरीदते हैं ताकि एक लम्बी अवधि तक लाभ मिलता रहे और उन्हें हर साल पॉलिसी रिन्यू न करना पड़े. इसके अलावा एक बहुवर्षीय हेल्थ प्लान लेने से प्रीमियम भी कम पड़ता है. इस तरह के बहुवर्षीय हेल्थ प्लान के प्रीमियम के लिए टैक्स कटौती के लिए क्लेम करते समय, टैक्स कटौती को पॉलिसी की अवधि के दौरान संबंधित अनुपात में विभाजित कर दिया जाता है. उदाहरण के लिए, यदि आपने एक बार में 30,000 रु. का प्रीमियम देकर एक तीन-वर्षीय हेल्थप्लान ख़रीदा है तो आप प्रत्येक मूल्यांकन वर्ष में 10,000 रु. की कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं.

क्या आप कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं यदि आपने प्रीमियम का पेमेंट कैश में किया है? आप कटौती के लिए सिर्फ तभी क्लेम कर सकते हैं यदि हेल्थ प्लान प्रीमियम का पेमेंट, कैश के अलावा किसी अन्य तरीके से किया गया हो. लेकिन, हेल्थ चेक-अप पर होने वाले खर्च का पेमेंट कैश में किया जा सकता है.

आप कटौती के लिए क्लेम नहीं कर सकते हैं यदि:

  • आप अपने सास-ससुर के लिए हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम देते हैं. लेकिन, आपकी पत्नी/पति, टैक्स लाभ के लिए क्लेम कर सकती/सकता है यदि वह अपनी टैक्सेबल इनकम से प्रीमियम देती/देता है.
  • आप अपने भाई-बहन की तरफ से हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम देते हैं.

इसके अलावा, इस बात पर ध्यान देना भी जरूरी है कि प्रीमियम की रकम पर लगने वाला सर्विस टैक्स, टैक्स कटौती की रकम में शामिल नहीं होता है.

इसके लेखक बैंकबाज़ार के सीईओ आदिल शेट्टी हैं.

Go to Top