मुख्य समाचार:

COVID-19 के बाद कैसी होगी इंश्योरेंस कंपनियों की तैयारी? ग्राहकों को कैसे बेचे जाएंगे बीमा प्रोडक्ट

Insurance Industry after Covid-19: इंश्योरेंस इंडस्ट्री ने डिजिटलाइजेशन की ओर बड़ी कदम बढ़ाया है. आने वाले दिनों में इंश्योरेंस को लेकर पूरा इकोसिस्टम एक नए रूप में नजर आएगा.

May 18, 2020 5:46 PM
business of Insurance Industry will be changed after Covid19 digitization stand as game changerमहामारी के इस दौर में एसेट की सुरक्षा के लिए इंश्योरेंस का महत्व इस दौर में तेजी से बढ़ा.

Insurance Industry after Covid-19: पिछले कुछ माह से लोगों के सामने अप्रत्याशित व चुनौतीपूर्ण स्थिति बनी हुई है. 1918 में स्पैनिश फ्लू के बाद हमारे सामने अब तक की सबसे गंभीर महामारी की चुनौती आई. कोविड-19 के तेजी से फैलने के चलते भारत सहित अनेक देशों को लॉकडाउन लगाना पड़ा. इसकी वजह से रोजमर्रा का जीवन और आर्थिक गतिविधियों लगभग थम गई. जहां पहला फोकस सोशल डिस्टैंसिंग एवं पर्याप्त टेस्टिंग द्वारा इस वायरस को फैलने से रोकने पर रहा, वहीं हमें अर्थव्यवस्था को चलाते रखने तथा लोगों को आवश्यक सामान की आपूर्ति बनाए रखने के रास्ते भी तलाशने पड़े. सरकार के साथ व्यवसायों की इसमें मुख्य भूमिका रही.

महामारी के इस दौर में एसेट की सुरक्षा के लिए इंश्योरेंस का महत्व इस दौर में तेजी से बढ़ा. ऐसे में इंश्योरेंस इं​डस्ट्री के लिए बिजनेस को बनाए रखने, सर्विस की क्वालिटी अपडेट करने और उसमें सुधार करते रहने के वैकल्पिक रास्ते तलाशना आवश्यक हो गया. इंश्योरेंस इंडस्ट्री ने डिजिटलाइजेशन की ओर बड़ी कदम बढ़ाया है. आने वाले दिनों में इंश्योरेंस को लेकर पूरा इकोसिस्टम एक नए रूप में नजर आएगा. यह बीमा खरीदने वाले और बेचने वाले दोनों के लिए अहम बदलाव होगा.

डिजिटल कम्युनिकेशन

भारत में विकसित देशों के मुकाबले फाइनेंशियल लिट्रेसी यानी वित्तीय साक्षरता की कमी है. इसलिए एजेंट एवं ग्राहक के बीच आमने सामने की बातचीत का कोई दूसरा विकल्प नहीं है. हालांकि, पॉलिसीधारकों के लिए सेल्फ सर्विस पोर्टल क्रांतिकारी साबित हो रहे हैं और उन्हें कनेक्ट होने एवं कम्युनिकेशन करने का तेज और सरल तरीका उपलब्ध करा रहे हैं. ये पोर्टल समझदार व रिस्पॉन्सिव डिजाइन पर बने हैं. इन्हें वेब ब्राउजर या मोबाइल एप्लीकेशन द्वारा आसानी से एक्सेस किया जा सकता है. इसके अलावा, लोगों को जब इसकी आदत हो जाएगी तो प्रीमियम भुगतान, क्लेम एवं ग्राहकों के अन्य आवेदन भी जल्द ही बढ़ेंगे.

बीमा कंपनियों की बढ़ती संख्या के अनुरूप अपने कॉल सेंटर के कार्यकलाप भी मजबूत करने होंगे. इसका मतलब यह है कि नए युग के सॉल्यूशन, जैसे क्लाउड टेलीफोनी, एआई पॉवर्ड चैटबॉट्स, व्हाट्सऐप आधारित रिस्पॉन्स एवं इंटरैक्टिव वॉइस रिस्पॉन्स आदि का उपयोग करना होगा. इसलिए इनके लिए निवेश की आवश्यकता है क्योंकि इससे खर्च कम हो सकेगा एवं ग्राहकों के अनुभव में सुधार आएगा.

इंटरनल वर्क कल्चर

ऐसा वातावरण जिसमें ज्यादा कर्मचारी दूर बैठकर काम कर सकें, उसके विकास के लिए डिजिटल-ओनली नजरिए में बदलाव जरूरी हो जाता है. तकनीक उन्हें वीडियो कॉल्स पर कनेक्ट होने, डॉक्यूमेंट साझा करने एवं सहयोग करने तथा कई अन्य कार्य करने में मदद करती है. इससे उनका कार्य ज्यादा प्रभावशाली होता है तथा वो ग्राहकों से जुड़कर व्यवसाय को ऑनलाइन चला पाते हैं. हालांकि बीमाकर्ताओं को इस नई व्यवस्था के लिए अपने वर्कफोर्स की स्क्लि बढ़ाने की जरूरत है. एक बार नियुक्ति सामान्य होने के बाद एचआर डिपार्टमेंट ऐसे लोगों को आकर्षित करने पर बल देगा, जिनमें टेक्नॉलॉजी के प्रति स्वाभाविक झुकाव हो.

साइबर रिस्क मैनेजमेंट

डिजिटल रेग्युलेशन एवं ट्रांजैक्शन की ओर बड़े बदलाव के साथ ही साइबर रिस्क जैसी अनेक चुनौतियां भी सामने आएंगी, जो कंपनी के आंतरिक डेटा एवं ग्राहकों के डेटा को प्रभावित कर सकती हैं. उदाहरण के लिए कंपनी के सिस्टम में लॉग इन करने के लिए ऑपरेशंस टीम के पास वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क होगा. यदि ऐसे नेटवर्क की गहन निगरानी न की जाए, तो इसमें कमियां हो सकती हैं, जिसका फायदा हैकर्स उठा सकते हैं. इसलिए हमें सिक्योरिटी प्रोटोकॉल्स का पालन ज्यादा मजबूती से करना होगा और साइबर सिक्योरिटी टेक्नॉलॉजी का कठोरता से उपयोग करना होगा. हैकर्स के प्रयासों को पहले ही ध्वस्त करने के लिए प्रेडिक्टिव रिस्क मैनेजमेंट टेक्नॉलॉजी का उपयोग अत्यधिक आवश्यक होगा.

उम्मीद है कि हम कोविड-19 के दौर से जल्द ही बाहर आ जाएंगे. यह निश्चित है कि कोविड-19 के बाद की दुनिया पहले जैसी नहीं होगी. हममें से प्रत्येक को ज्यादा मजबूत एवं बेहतर बनने के लिए हर जगह उम्मीद की किरण तलाशनी होगी. इंश्योरेंस उद्योग के लिए मुझे उम्मीद है कि इंश्योरेंस का इकोसिस्टम (बिजनेस लीडर्स, कर्मचारी, ग्राहक) डिजिटल तकनीक के फायदों को समझ सकेंगे एवं इसका उपयोग करना शुरू करेंगे.

 

By: अंजलि मल्होत्रा, चीफ कस्टमर, मार्केटिंग, डिजिटल एवं आईटी ऑफिसर, अवीवा इंडिया

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. COVID-19 के बाद कैसी होगी इंश्योरेंस कंपनियों की तैयारी? ग्राहकों को कैसे बेचे जाएंगे बीमा प्रोडक्ट

Go to Top