मुख्य समाचार:

होम लोन मिलने की होगी गारंटी! पहले इन 4 बातों पर ध्यान दें, फिर करें आवेदन

Home Loan: यदि आप रिटायरमेंट के करीब हैं, तो आपकी लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट होने के ज्यादा चांस हैं.

June 24, 2019 2:42 PM
home loan eligiblity not fullfilled reasons of getting home loan application being rejectedबार-बार नौकरी छोड़ने वालों की रिस्की प्रोफाइल मानी जाती है

Home Loan: अगर आप नया घर लेने की सोच रहे हैं लेकिन बार-बार आपकी होम लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट हो रही है तो इसके कई कारण हो सकते हैं. होम लोन देते वक्त आपकी इनकम के अलावा भी कई बातें मायने रखती हैं, जिनपर अक्सर आपका ध्यान नहीं जाता है. सिर्फ क्रेडिट स्कोर ही नहीं बल्कि आपकी उम्र या आपका ऑफिस भी आपके लोन रिजेक्शन की वजह हो सकता है. आइये जानते हैं कि वो क्या वजह हो सकती है जिससे आपको होम लोन मिलने में मुश्किल पैदा कर रही हैं.

क्रेडिट स्कोर का कम होना

किसी व्यक्ति के अच्छे क्रेडिट स्कोर से कंपनियों का उसपर विश्वास बढ़ता है. अगर आपका क्रेडिट स्कोर कम है, तो बैंक और एनबीएफसी आपको कर्ज देने से कतराते हैं – या फिर आपको बहुत महंगे ब्याज दरों पर लोन ऑफर किया जाएगा. बैंक या NBFC आपसे कुछ गिरवी रखने को या किसी गारंटी देने वाले की मांग भी कर सकते हैं. क्रेडिट स्कोर कम होने के कई कारण हो सकते हैं. एक कारण हो सकता है कि आपने अपना पिछला लोन समय से ना चुकाया हो.

एक और कारण यह हो सकता है कि आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में गलती हो जिसकी वजह से आपका कम स्कोर है. आपको अपने क्रेडिट स्कोर का एक्सपेरियन और CIBIL जैसी क्रेडिट रेटिंग कंपनियों के माध्यम से ट्रैक रिकॉर्ड रखना चाहिए. अगर आपकी रिपोर्ट में कोई फैक्चुअल मिस्टेक है, तो आप उन्हें आसानी से क्रेडिट ब्यूरो से ठीक करवा सकते हैं.

आपकी उम्र सही नहीं है

लेंडर्स उम्र के आधार पर भी लोन देते हैं. आमतौर पर लेंडर्स के हिसाब से लोन लेने के लिए किसी व्यक्ति की उम्र 18-65 साल होनी चाहिए. यदि आप रिटायरमेंट के करीब हैं, तो आपकी लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट होने के ज्यादा चांस हैं क्योंकि आपके पास होम लोन चुकाने के लिए कम समय रह जाएगा. हालांकि, आपको बहुत कम टाइम के साथ लोन दिया जा सकता था.

यह भी पढ़ें..यहां 8 से 8.7% तक सालाना रिटर्न की मिल रही है गारंटी, नहीं डूबेगा आपका एक भी पैसा

पुराना कर्ज खत्म करें

जो लोग कई सारे हाई इंटरेस्ट लोन लेते हैं उनकी प्रोफाइल को रिस्की माना जाता है और उन्हें कर्ज मिलने की संभावना कम होती है. अपनी प्रोफाइल से रिस्क कम करने के लिए, समय पर अपनी ईएमआई भरें और हमेशा एक पेमेंट साइकिल में अपने क्रेडिट कार्ड का कर्ज चुकाएं. इसके अलावा, अपने क्रेडिट कार्ड पर लो क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो (CUR) रखें. उदाहरण के तौर पर अगर आपके पास एक क्रेडिट कार्ड है जिसकी लिमिट 1 लाख रुपये है और आप इससे 50,000 रुपये खर्च कर चुके हैं, तो आपका CUR 50% है. अपने CUR को 20-30% रखने की कोशिश करें. यह आपके क्रेडिट स्कोर को भी बूस्ट करेगा.

नौकरी से संबंधित दिक्कतें

# जॉब स्टैबिलिटी: बार-बार नौकरी छोड़ने वालों की रिस्की प्रोफाइल मानी जाती है. बैंक वाले उन्हें तरजीह देते हैं जो अपनी नौकरी में स्टेबल हो.

#एम्पलोयर प्रोफाइल: नौकरी के नेचर और एम्प्लोयर की विश्वसनीयता भी कई लेंडर्स चेक करते हैं.

#इनकम: अलग-अलग एरिया के हिसाब से हर लेंडर एक मिनिमम इनकम क्राइटेरिया तय करता है. अगर आप लेंडर द्वारा तय की गई मिनिमम लिमिट से कम कमाते हैं तो आपका लोन रिजेक्ट हो सकता है.

By: Adhil Shetty, CEO, BankBazaar.com

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. होम लोन मिलने की होगी गारंटी! पहले इन 4 बातों पर ध्यान दें, फिर करें आवेदन

Go to Top