मुख्य समाचार:

2019 में याद रखें ये खास तारीखें, पैसों के हिसाब-किताब में आएंगी काम

बचत और समझदारी भरे निवेश को अपने न्यू ईयर रेजॉल्यूशन में शामिल करना चाहिए. इसके लिए हर महीने खास रणनीति पर गौर किया जा सकता है और उसके आधार पर फैसले लिए जा सकते हैं. एक-एक करके निवेश योजनाएं बनाने से आप पर भार भी नहीं पड़ेगा और बेहतर रणनीति से बेहतर भविष्य की नींव भी रख सकेंगे.

January 13, 2019 5:13 PM
Inevestment Planning, New Year Resolution, Monthly Financial Planning, New Year Financial Planning, निवेश विकल्प, निवेश रणनीतिसमझदारी भरे रिटर्न से भविष्य की चिंताएं दूर होंगी. इसकी शुरुआत साल के शुरुआत में ही कर लेना बेहतर होगा.

2019 शुरू हो चुका है. ऐसे में इस साल के लिए वित्तीय योजनाएं अभी से बना लेना सही रहेगा. वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने की प्लानिंग में पहले से ही इस साल की जरूरी तारीखों को नोट कर लेना मददगार रहेगा. ताकि आपको सही वक्त पर सही डेडलाइन याद रहें और आप वक्त पर अपने जरूरी वित्तीय काम निपटा लें. आइए आपको बताते हैं साल 2019 की ऐसी ही कुछ महत्वपूर्ण तारीखों के बारे में-

फरवरी

फरवरी महीना यूं तो मोहब्बत का महीना है और इस महीने उपहार पर ही खर्च बढ़ता है. इसके अलावा इस माह अधिकतर युवा भविष्य की सारी चिंताएं छोड़कर सिर्फ वर्तमान में जीते हैं. हालांकि फरवरी में  सभी युगल भविष्य की बेहतर योजनाएं बना सकते हैं. इसलिए कोशिश करें कि अपने पार्टनर के साथ बैठकर मोहब्बत का पर्व भी मनाएं और भविष्य के लिए वित्तीय योजनाएं भी.

1 फरवरी– इस माह की सबसे महत्त्वपूर्ण तिथि 1 फरवरी है. इस दिन बजट पेश होना है. हालांकि यह अंतरिम बजट होगा लेकिन वित्तीय योजनाओं पर इससे भी फर्क पड़ेगा.

6 फरवरी– केंद्रीय बैंक RBI की इस साल की पहली मौद्रिक नीति बैठक (Monetary policy meeting) 6 फरवरी को होगी. इस बैठक में CRR, SLR और रेपो रेट, रिवर्स रेट निर्धारित होंगे. ये नतीजे बाजार को सीधे प्रभावित करते हैं, इसलिए इन्हें ध्यान में रखना होगा.

28 फरवरी– मौद्रिक नीति के अलावा बाजार GDP के आंकड़ों के प्रति भी संवेदनशील होता है. वित्त वर्ष 2018-19 की पिछली तिमाही के लिए GDP के आंकड़ों की घोषणा 28 फरवरी को होगी.

मार्च

यह वित्त वर्ष 2018-19 का अंतिम माह होता है. हालांकि टैक्स बचाने के लिए निवेश विकल्प पर पहले ही विचार कर लेना चाहिए लेकिन जो लोग अभी भी कोई प्लान नहीं कर पाए हैं, वे इस माह कर सकते हैं क्योंकि यह वित्त वर्ष 2018-19 में अंतिम मौका होगा. निवेशकों को निवेश विकल्प बरतने में यह भी सावधानी बरतनी होगी कि ऐसी जगह निवेश करें जहां टैक्स के साथ आपकी पूंजी सुरक्षित रहे और उसमें ग्रोथ भी हो. जहां भी निवेश करने की सोच रहे हैं, उसके रिटर्न पर टैक्स और अवधि पर भी विचार कर लें.

15 मार्च– वित्त वर्ष 2018-19 के लिए एडवांस टैक्स की चौथी किश्त जमा करने की अंतिम तिथि.
31 मार्च– पैन कार्ड और आधार को जोड़ने की अंतिम तिथि.
31 मार्च– वित्त वर्ष 2017-18 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) भरने की अंतिम तिथि 31 मार्च है. इससे चूके तो 10 हजार रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है.

अप्रैल

अगला वित्त वर्ष 2019-20 अप्रैल से शुरू हो जाएगा. 2019-20 के लिए वित्तीय योजनाएं बनाना शुरू कर दें क्योंकि इसे महज टैक्स बचाने के लिए मार्च 2020 तक छोड़ना समझदारी भरा फैसला नहीं कहा जा सकता है. हालांकि अपने रिसर्च पर अधिक भरोसा रखें और किसी अन्य के अनुभवों के आधार पर कोई फैसला न लें. दूसरों के अनुभव से आपको फायदा भी हो सकता है लेकिन नुकसान भी हो सकता है क्योंकि उन्होंने जो निवेश कर रहे हैं वह उनके लक्ष्य की पूर्ति के लिए है.

1 अप्रैल– बाजार में निवेश करने वाले लोगों के लिए 1 अप्रैल की डेडलाइन जानना बहुत जरूरी है. फिजिकल शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखना अनिवार्य कर दिया गया है और फिजिकल शेयरों को डीमैट खातों में रखने के लिए 1 अप्रैल तक का समय दिया गया है.

मई

बच्चों की गर्मियों की छुट्टियां मई में शुरू हो जाती हैं और इस समय कई लोग कहीं बाहर घूमने की योजनाएं बनाते हैं. इस पर कई लोग बिना अधिक सोच-विचार किए निकल पड़ते हैं, जबकि यह जेब पर बहुत भारी पड़ सकता है. बाहर घूमने जाने से पहले सभी अट्रैक्टिव डील्स पर गौर कर लें और अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिए ट्रवेल इंश्योरेंस का भी चयन कर लें. हालांकि इस पूरी कवायद में अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट न भूलें.

7 मई– लंबे समय से सोने को निवेश का बेहतर विकल्प माना जाता रहा है. 7 मई को अक्षय तृतीया पर्व है और इस दिन लोग सोना खरीदना शुभ मानते हैं.

31 मई– GDP के आंकड़ों से बाजार प्रभावित होता है और आपका निवेश भी. 31 मई को GDP के आंकड़े पेश होंगे, इसलिए इस पर नजर बनाए रखनी होगी.

जून

आधा साल गुजरने के बाद अपनी वित्तीय योजनाओं पर एक नजर दौड़ा लेना सही रहेगा. अपने पोर्टफोलियो को देखें और आकलन करें कि क्या उनसे लक्ष्य की पूर्ति हो रही है या कहीं कुछ चूक रहे हैं. अगर कोई निवेश बेहतर परफॉरमेंस नहीं दे रहा है तो विकल्प पर गौर कर सकते हैं.

5 जून– वित्त वर्ष 2019-20 में मौद्रिक नीतियों के लिए RBI की पहली बैठक 5 जून को होगी.
15 जून– वित्त वर्ष 2019-20 के लिए एडवांस टैक्स की पहली किश्त जमा करने की अंतिम तिथि.

जुलाई

31 जुलाई– इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) भरने की अंतिम तिथि. इससे चूके तो 31 दिसंबर तक 5 हजार रुपये का और इसके बाद 10 हजार रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है.

अगस्त

यह महीना स्वतंत्रता का एहसास भर देने वाला महीना है. देश की स्वतंत्रता के वर्षगांठ पर खुद को भी वित्तीय स्वतंत्र महसूस कराएं. इस महीने ऐसी रणनीति बनाएं जिससे अगले साल किसी भी प्रकार के आकस्मिक टैक्स का भार आप पर न पड़े.

7 अगस्त– RBI की मौद्रिक नीति  बैठक
30 अगस्त– GDP आंकड़े पेश होंगे.

सितंबर

त्यौहारों का मौसम सितंबर से शुरू होने लगता है. इसके लिए पहले से ही रणनीति बना लेनी चाहिए.

15 सितंबर– 2019-20 के लिए एडवांस टैक्स की दूसरी किश्त जमा करने की अंतिम तिथि.

अक्टूबर

9 अक्टूबर– RBI मौद्रिक नीति की बैठक
25 अक्टूबर– धनतरेस. धनतरेस के मौके पर सोना-चांदी खरीदना शुभ माना जाता है. अगर आप भी इस दिन सोने-चांदी की खरीद करते हैं तो इसे पहले से अपने बजट और प्लानिंग में शामिल कर लें.

दिसंबर

2019 के अंतिम महीने में पूरे साल का मूल्यांकन करना सही रहेगा. इससे अगले साल की रणनीति बनाने में मदद मिलेगी.

4 दिसंबर– RBI की मौद्रिक नीति.
15 दिसंबर-वित्त वर्ष 2019-20 के लिए एडवांस टैक्स की तीसरी किश्त जमा करने की अंतिम तिथि.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. 2019 में याद रखें ये खास तारीखें, पैसों के हिसाब-किताब में आएंगी काम

Go to Top