सर्वाधिक पढ़ी गईं

EPFO: PF या EPS से निकालना है पैसा, जानें कैसे भरें कंपोजिट क्लेम फॉर्म

कंपोजिट क्लेम फॉर्म (CCF) को PF की कुछ राशि या पूरे पैसे निकालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

November 6, 2019 12:56 PM
employees provident fund know how to withdraw pf or eps money and fill composite claim form Representational Image

PF, EPS Withdrawal: अगर आप घर बनवाने के लिए या किसी दूसरे काम के लिए प्रोविडेंट फंड (PF) अकाउंट से कुछ पैसे निकालने की सोच रहे हैं. या फिर आप नौकरी छोड़ रहे हैं और आपको अपना PF निकालना है. तो आपको EPFO की तरफ से सिर्फ एक फॉर्म भरना होता है. ये है- कंपोजिट क्लेम फॉर्म (CCF), जिसे PF की कुछ राशि या पूरे पैसे निकालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. EPS अकाउंट में मौजूद पैसे के लिए भी CCF फॉर्म का इस्तेमाल होता है. आपके पास आधार नंबर है या नहीं, इसके आधार पर दो तरह के फॉर्म होते हैं- कंपोजिट क्लेम फॉर्म (आधार) और कंपोजिट क्लेम फॉर्म (नॉन-आधार).

कंपोजिट क्लेम फॉर्म (आधार)

अगर आपने फॉर्म 11 अपने एम्प्लायर को जमा कर दिया है और आपका आधार नंबर और बैंक अकाउंट डिटेल्स UAN पोर्टल पर मौजूद हैं, तो आप कंपोजिट क्लेम फॉर्म (आधार) को भर सकते हैं. उसके बाद नियमों के मुताबिक, आप इस फॉर्म को संबंधित EPFO ऑफिस में जमा कर सकते हैं. इसके लिए आपको एम्प्लायर (कंपनी) से किसी तरह के क्लेम के अटेस्ट कराने की जरूरत नहीं है. आपको एक कैंसल चेक भी जमा करना होगा जिसमें आपका नाम हो. EPFO से पैसे का भुगतान सीधे आपके बैंक अकाउंट में किया जाएगा.

कंपोजिट क्लेम फॉर्म को इन तीन चीजों के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं:

1. घर खरीदने आदि के लिए आंशिक निकासी या एडवांस निकालना
2. PF फंड की पूरी राशि निकालना
3. EPS अकाउंट में मौजूद पेंशन की राशि निकालना

आंशिक निकासी या एडवांस निकालना

अगर आप अपने PF अकाउंट में से कुछ राशि को घर खरीदने या किसी दूसरे काम के लिए निकालना चाहते हैं, तो आपको कंपोजिट क्लेम फॉर्म बनना होगा. इस आंशिक निकासी को एडवांस कहा जाता है और इसका रिफंड नहीं किया सकता. इसका मतलब आप इसे अपने PF अकाउंट में वापस नहीं डाल सकते और इसे लोन नहीं समझा जाता.

PF फंड की पूरी राशि निकालना

PF फंड की निकासी के लिए आप नौकरी छोड़ने के दो महीने के बाद, EPF निकासी कंपोजिट क्लेम फॉर्म से पूरी राशि को निकाल सकते हैं. आपको इसके लिए अपनी नौकरी छोड़ने की तारीख को देना होगा. इसके अलावा पैन नंबर और छोड़ने का कारण जैसे सेहत खराब होना आदि.

इसमें PF की राशि पर आपका TDS को काटा जा सकता है. EPFO के द्वारा TDS तब काटा जाएगा, जब आपका सर्विस पीरियड 5 साल से कम होगा. अगर PAN दिया हुआ होगा तो 10 फीसदी TDS काटा जाएगा. वरना 34.608 फीसदी पर टैक्स लगेगा.

626 रु तिमाही जमा पर आजीवन 5 हजार महीना के होंगे हकदार, 1.9 करोड़ ने खोल लिया सरकारी खाता

EPS अकाउंट में मौजूद पेंशन की राशि निकालना

अगर आपको लगातार नौकरी करते हुए 10 साल से कम समय हुआ है, तो आप EPS की राशि की निकासी PF फंड की राशि निकालते हुए कर सकते हैं. एक कर्मचारी रहते हुए, आपके बेसिक पे का 12 फीसदी PF में जाता है जबकि इतना ही शेयर आपका एम्प्लायर देता है. हालांकि एम्प्लायर के शेयर में से 8.33 फीसदी हर महीने EPS में जाता है. इसे आप कंपोजिट क्लेम फॉर्म भरकर निकाल सकते हैं.

आप किसी भी तरीके को चुनें, लेकिन फॉर्म को भरने से पहले सभी निर्देशों को पढ़ना न भूलें. अब PF से पैसा निकालने की प्रक्रिया ऑनलाइन भी हो गई है, लेकिन आप CCF form भी भर सकते हैं.

 

Story: Sunil Dhawan

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. EPFO: PF या EPS से निकालना है पैसा, जानें कैसे भरें कंपोजिट क्लेम फॉर्म

Go to Top