मुख्य समाचार:

टैक्स ऑफिसर टैक्सपेयर्स को नहीं कर पाएंगे परेशान, सरकार ने उठाएं ये 4 बड़े कदम

1 अक्टूबर, 2019 जबाव देने की तारीख के तीन महीने के भीतर सभी नोटिसों का निपटान किया जाएगा.

August 23, 2019 10:24 PM
ease of income tax rule itr angel tax fpi surcharge related announcement by fmसीतारमण ने स्टार्टअप्स को एंजल टैक्स के प्रावधान से भी मुक्त करने की घोषणा की है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर टैक्स पेयर्स को राहत देने से संबंधित कई बड़े ऐलान किए हैं. उन्होंने कहा कि अब टैक्स ऑफिसर्स टैक्स पेयर्स और परेशान नहीं कर पाएंगे. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की फेसलेस स्क्रूटनी शुरू करने से लेकर एंजल टैक्स और एफपीआई पर सर्चार्ज हटाने तक वित्त मंत्री ने कई घोषणाएं की है.आप भी जानिए कि टैक्स संबंधित किन नियमों में बदलाव किया गया है.

टैक्स ऑफिसर नहीं कर पाएंगे परेशान

• 1 अक्टूबर, 2019 को या उसके बाद आयकर अधिकारियों द्वारा जारी किए सभी नोटिस, सम्मन, आदेश आदि एक सेंट्रलाइज्ड कंप्यूटर सिस्टम के जरिए जारी किए जाएंगे और इसमें शामिल होगा.
• कम्प्यूटर द्वारा जनरेट किया गया यूनिक डॉक्युमेंट आईडेंटिफिकेशन नंबर के बिना की गई किसी भी बातचीत या सूचना को कानूनी नहीं माना जाएगा.
• सिस्टम के माध्यम से फिर से सभी पुराने नोटिस 1 अक्टूबर 2019 तक तय किए जाएंगे या अपलोड किए जाएंगे

• 1 अक्टूबर, 2019 जबाव देने की तारीख के तीन महीने के भीतर सभी नोटिसों का निपटान किया जाएगा

एंजल टैक्स हटाया गया

सीतारमण ने स्टार्टअप्स को एंजल टैक्स के प्रावधान से भी मुक्त करने की घोषणा की है. स्टार्टअप्स और निवेशकों की मुश्किल कम करने यह निर्णय लिया गया है कि एक DPIIT के साथ रजिस्टर्ड स्टार्टअप पर इनकम टैक्स एक्ट का सेक्शन 56 (2) (viib) लागू नहीं होगा. उन्होंने कहा कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के सदस्य के तहत स्टार्टअप्स की समस्याओं के समाधान के लिए एक प्रकोष्ठ बनाया जाएगा. वित्त मंत्री ने बताया कि कोई भी स्टार्टअप इनकम टैक्स से संबंधित मुद्दे के जल्द हल के लिए प्रकोष्ठ से संपर्क कर सकता है.

फेसलेस स्क्रूटनी

वित्त मंत्री ने कहा कि विजयदशमी से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट फेसलेस स्क्रूटनी शुरू करेगा. टैक्सपेयर्स को परेशान नहीं किया जाएगा. टैक्स को लेकर सरकार संवेदनशील है. उनका कहना है कि आने वाले दिनों में जीएसटी जीएसटी रिटर्न और रिफंड को और आसान बनाया जाएगा.

सरचार्ज हटाया

निवेशकों के दबाव के आगे झुकते हुये सरकार ने शुक्रवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) तथा घरेलू निवेशकों पर लगाया गया ऊंचा कर सरचार्ज वापस ले लिया. इस साल के बजट में एफपीआई सहित सुपर रिच लोगों पर ऊंचा टैक्स सरचार्ज लगा दिया गया. विदेशी निवेशक बजट के बाद से ही बढ़े सरचार्ज को वापस लेने की लगातार मांग कर रहे थे. सीतारमण ने कहा, ‘‘पूंजी बाजार में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए शेयरों, यूनिटों की खरीद फरोख्त से होने वाले दीर्घकालिक एवं अल्पकालिक पूंजीगत लाभ पर वित्त (नंबर- दो) अधिनियम, 2019 के जरिये लगाये गये बढ़े सरचार्ज को वापस लेने का निर्णय लिया गया है.’’

उन्होंने कहा कि इसमें बजट से पहले की स्थिति को फिर कायम कर दिया गया है. इस कदम से सरकार को 1,400 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा. वित्त मंत्री ने कहा कि यह कदम पूंजी बाजार में निवेश को प्रोत्साहन देने के लिए उठाया गया है. बजट में ‘सुपर रिच’ वर्ग पर कर सरचार्ज बढ़ाने की घोषणा से शेयर बाजार डगमगा गए थे. बजट पेश होने के बाद से शेयर बाजार लगातार दबाव में बने हुये हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. टैक्स ऑफिसर टैक्सपेयर्स को नहीं कर पाएंगे परेशान, सरकार ने उठाएं ये 4 बड़े कदम

Go to Top