मुख्य समाचार:
  1. ITR भरते वक्त गलती से भी न करें यह गलती, होगा भारी नुकसान

ITR भरते वक्त गलती से भी न करें यह गलती, होगा भारी नुकसान

ज्यादातर कर्मचारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी हाउस रेंट अलाउंस (HRA) बिल क्लेम करते हैं वो भी बिना किसी सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट के. इस तरह के फर्जी क्लेम ना करें.

July 25, 2018 5:39 PM
income tax return 2018, income tax department, personal finance,income tax return mistake, income tax e filing mistake, आयकर विभाग, इनकम टैक्स रिटर्न, itr latest newsज्यादातर कर्मचारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी हाउस रेंट अलाउंस (HRA) बिल क्लेम करते हैं वो भी बिना किसी सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट के. इस तरह के फर्जी क्लेम ना करें.

अगर आप नौकरीपेशा हैं और ज्यादा रिटर्न पाने के लिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से इनकम टैक्स रिटर्न भरते हुए अपनी आय छुपाते हैं, तो यकीन मानिए आप अपने लिए खुद मुसीबत खड़ी कर रहे हैं. आयकर विभाग ने कुछ दिनों पहले एक बयान जारी किया गया है कि, गलत इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने वाले नौकरीपेशा लोगों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी. ऐसे में हम आपको उन 7 गलतियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आप भूलकर भी ना करें, नहीं तो आपको मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

  • सेंविग्स पर मिलने वाले ब्याज को जरूर दिखाएं

इनकम टैक्स रिटर्न भरते वक्त सेविंग्स पर मिलने वाले ब्याज को जरूर दिखाएं. अगर आप अपनी इस इनकम को नहीं दिखाते हैं, तो इसे टैक्स चोरी के तौर पर देखा जाएगा और आपके खिलाफ कार्यवाही की जा सकती है.

  • HRA क्लेम के फर्जी बिल ना दिखाएं

ज्यादातर कर्मचारी टैक्स बचाने के लिए फर्जी हाउस रेंट अलाउंस (HRA) बिल क्लेम करते हैं वो भी बिना किसी सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट के. इस तरह के फर्जी क्लेम करने पर पकड़े जाने पर अब कर्मचारियों को आयकर विभाग की नई गाइडलाइन के तहत सजा भुगतनी पड़ सकती है.

  • ITR भरते वक्त छोड़ी गई संस्था से हुई कमाई का भी ब्यौरा दें

आयकर रिटर्न भरते वक्त ध्यान रखें कि यदि आपने साल भर के दौरान नौकरी छोड़ कर दूसरी नौकरी से जुड़े हैं तो रिटर्न भरते वक्त दोनों कंपनियों से हुई इनकम का रिटर्न फाइल करें वरना आपको दिक्कतों का सामना कर पड़ सकता है.

  • 80C के तहत फर्जी कटौती क्लेम ना करें

कर्मचारियों के लिए बहुत आसान होता है कि वो 80C के तहत आने वाली कटौती जैसे एलआईसी बिल और मेडिक्लेम. हालांकि इस के तहत होने वाली सभी पेमेंट कर्मचारी के 26AS से जुड़ी होती है जो आयकर विभाग के उपलब्ध होती है. ऐसे में आयकर विभाग इस तरह के फ्रॉड को आराम से पकड़ सकती है.

  • चैप्टर VI-A के तहत फर्जी डिडक्शन क्लेम ना करें

कुछ टैक्स प्रोफेशनल आयकर दाता को ज्यादा रिटर्न दिलावने का लालच दिखाकर उनसे कमीशन के रूप में रिटर्न का 10-25 तक फीसदी ले लेते हैं. दरअसल वो आपके द्वारा दिए गए आंकड़ो को फर्जी तरह से बदलकर ज्यादा रकम दिखाते हैं, जिससे आपको ज्यादा रिटर्न मिलता है. हालांकि अब ऐसा करने पर आप फंस सकते हैं, क्योंकि आपके बैंक खाते, लोन अकाउंट, डीमैट अकाउंट आदि चीजें आधार और पैन कार्ड से जुड़े हुए हैं, ऐसे में आयकर विभाग को आप पर शक होने की स्थिति में पुरा डेटा खंगाल सकता है और पकड़े जाने पल आपको दंड भुगतना पड़ सकता है.

  • सेक्शन 10 के तहत फर्जी क्लेम ना करें

सेक्शन 10 के तहत HRA, LTA, मेडिकल रीइम्बर्समेंट आदि की सुविधा भी मिलती है, ऐसे में आप इसके तहत आने वाली सुविधाओं के लिए फर्जी क्लेम ना करें वरना आपको नुकसान हो सकता है.

  • Home Loan ब्याज को बढ़ाकर ना दिखाएं

ज्यादा रिटर्न की चाह आपके लिए दिक्कत पैदा कर सकती है. अक्सर ज्यादा रिटर्न पाने के चक्कर में लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते वक्त ज्यादा रिटर्न दिखाते हैं, ऐसा करते वक्त यदि आप आयकर विभाग की नजर में आ जाते हैं तो आपके खिलाफ आयकर विभाग कार्यवाही की जा सकती है.

Go to Top