मुख्य समाचार:
  1. पोस्ट आॅफिस की सेविंग्स में लगा रहे हैं पैसे तो जान लें ये नियम, नहीं उठाना पड़ेगा नुकसान

पोस्ट आॅफिस की सेविंग्स में लगा रहे हैं पैसे तो जान लें ये नियम, नहीं उठाना पड़ेगा नुकसान

पोस्ट आॅफिस में भी सेविंग्स स्कीम्स को लेकर कुछ नियम-कानून हैं. कुछ मामलों में चार्ज का भी प्रावधान है.

October 22, 2018 11:48 AM
do not do these mistakes in case of post office savings scheme, rules for post office savings, PPF, sukanya samridhi scheme, mis, senior citizen savings schemeImage: PTI

पोस्‍ट ऑफिस भी बैंकों की तरह ही कई फाइनेंशियल सर्विस देता है. इनमें सेविंग्‍स अकाउंट, PPF, RD, MIS जैसी सर्विस शामिल हैं. लेकिन इन अकाउंट्स को लेकर यहां भी कुछ नियम-कानून हैं. कुछ मामलों में चार्ज का भी प्रावधान है. इसलिए अगर आपका भी पोस्‍ट ऑफिस में कोई अकाउंट है तो उससे जुड़े प्रावधान जान लेना बेहतर रहेगा ताकि आपसे गलती होने की गुंजाइश न हो और आप नुकसान से बच सकें. आइए बताते हैं कि पोस्‍ट ऑफिस की कुछ सेविंग्स स्‍कीम या अकाउंट और उनसे जुड़े नियमों के बारे में-

सेविंग्‍स अकाउंट

पोस्‍ट ऑफिस में केवल 20 रुपये में सेविंग्‍स अकाउंट खुल जाता है लेकिन बैंकों की तरह इसमें भी मिनिमम मंथली बैलेंस मेंटेन करना होता है. पोस्‍ट ऑफिस सेविंग्‍स अकाउंट में बिना चेकबुक सुविधा वाले अकांउट के लिए मिनिमम बैलेंस 50 रुपये रखना तय है, वहीं चेकबुक सुविधा वाले अकाउंट के लिए यह 500 रुपये है. साथ ही इस अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए 3 वित्त वर्षों के अंदर कम से कम एक बार डिपॉजिट या विदड्रॉल करना जरूरी है.

पोस्‍ट ऑफिस मंथली इनकम स्‍कीम अकाउंट (MIS)

MIS का मैच्‍योरिटी पीरियड 5 साल है. अगर प्रीमैच्‍यो‍र विदड्रॉल चाहते हैं तो ऐसा 1 साल का मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद ही हो पाएगा. प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल पर पोस्‍ट ऑफिस आपसे कुछ चार्ज भी लेता है. अगर आप इसे 1 साल के बाद प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल कराते हैं तो आपको डिपॉजिट का 2 फीसदी भुगतान करना होगा. वहीं अगर 3 साल के मैच्‍योरिटी पीरियड के बाद विदड्रॉल कराया जाता है तो डिपॉजिट का 1 फीसदी काटा जाता है.

do not do these mistakes in case of post office savings scheme, rules for post office savings, PPF, sukanya samridhi scheme, mis, senior citizen savings scheme

PPF

पोस्‍ट ऑफिस PPF अकाउंट को केवल 100 रुपये में खोला जा सकता है. लेकिन एक वित्त वर्ष के अंदर मिनिमम 500 रुपये और मैक्सिमम 1.5 लाख रुपये जमा करना जरूरी है. अगर मिनिमम सालाना अमाउंट डिपॉजिट न किया गया तो अकाउंट इनएक्टिव हो जाता है और फिर पिछला बकाया, चार्ज और एक इंस्टॉलमेंट भरने के बाद ही फिर से एक्टिव होता है. साथ ही अगर आप महीने के पूरे इंट्रेस्‍ट का फायदा लेना चाहते हैं तो हर माह की 5 तारीख तक पीपीएफ में डिपॉजिट कर दें. पोस्‍ट ऑफिस PPF का मैच्‍योरिटी पीरियड 15 साल है और इससे पहले क्‍लोजर नहीं किया जा सकता. हालांकि 7 साल का मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने के बाद जरूरत पड़ने पर इसमें से विदड्रॉल किया जा सकता है.

5 साल वाला रिकरिंग डिपॉजिट (RD)

पोस्‍ट ऑफिस में 10 रुपये प्रति माह के इन्‍स्‍टॉलमेंट पर RD खुल जाती है. अगर इसे माह की 15 तारीख से पहले खुलवाया है तो हर महीने की 15 तारीख से पहले आपका मंथली इन्‍स्‍टॉलमेंट इसमें डिपॉजिट हो जाना चाहिए. वहीं अगर 15 तारीख के बाद खुलवाया है तो महीने की आखिरी तारीख तक इसका डिपॉजिट होना जरूरी है. तय तारीख तक मंथली डिपॉजिट जमा न होने पर पोस्‍ट ऑफिस आपसे हर 5 रुपये पर 0.05 रुपये डिफॉल्‍ट फीस लेता है. यानी अगर आपने 1000 रुपये मंथली डिपॉजिट तय किया हुआ है तो आपको डिफॉल्‍ट फीस के तौर पर 10 रुपये देने होंगे.

लगातार 4 डिफॉल्‍ट्स के बाद RD अकाउंट डिसकंटीन्‍यू कर दिया जाता है. हालांकि इसे 2 महीने के अंदर रिवाइव कराया जा सकता है. लेकिन अगर इस अवधि में रिवाइव नहीं कराया गया तो आगे इसमें कोई भी डिपॉजिट नहीं होगा. मंथली डिपॉजिट करने से चूकने के बाद आपको पहले पिछला डिपॉजिट और फीस भरनी होगी, तब आपका मौजूदा डिपॉजिट मंजूर किया जाएगा.

सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS)

इस स्‍कीम का टेनर 5 साल है, हालांकि इसमें प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल सुविधा मौजूद है. प्रीमैच्‍योर विदड्रॉल 1 साल की अवधि के बाद ही किया जा सकता है. 1 साल बाद ऐसा करने पर डिपॉजिट का 1.5 फीसदी चार्ज के रूप में काटा जाता है, वहीं 2 साल बाद 1 फीसदी अमाउंट कटता है. अगर मैच्‍योरिटी पीरियड खत्‍म होने के बाद आप इसे आगे भी जारी रखना चाहते हैं तो इसके लिए मैच्‍योरिटी के एक साल के अंदर आपको एप्‍लीकेशन देनी होगी. इसके बाद इस स्‍कीम को और 3 सालों के लिए बढ़ा दिया जाएगा. लेकिन अगर आप तय अवधि के अंदर एप्‍लीकेशन नहीं देते हैं तो पोस्‍ट ऑफिस द्वारा बिना किसी डिडक्‍शन अकाउंट क्‍लोज कर दिया जाता है.

do not do these mistakes in case of post office savings scheme, rules for post office savings, PPF, sukanya samridhi scheme, mis, senior citizen savings schemeRepresentational Image

सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम

इस स्‍कीम के तहत कस्‍टमर अपनी बच्‍ची के फ्यूचर के लिए अकाउंट खुलवा सकते हैं. इसमें एक वित्त वर्ष के अंदर मिनिमम 250 रुपये और मैक्सिमम 1.5 लाख रुपये जमा करने का प्रावधान है. अगर एक वित्‍त वर्ष के अंदर न्‍यूनतम डिपॉजिट नहीं होता है तो अकाउंट डिसकंटीन्‍यू हो जाता है. इसके बाद 50 रुपये प्रति वर्ष की पेनल्‍टी भरने के बाद ही इसे रिवाइव किया जा सकता है. साथ ही मिनिमम अमाउंट भी डिपॉजिट करना होगा.

अगर अकाउंट को पेनल्‍टी भरकर रिवाइव नहीं किया जाता है तो फिर यह पोस्‍ट ऑफिस का नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट बन जाता है और इसमें मौजूद कुल अमाउंट पर इंट्रेस्‍ट भी उसी हिसाब से मिलता है. इस स्‍कीम के अकाउंट को 21 साल पूरे होने के बाद ही बंद किया जा सकता है. हालांकि बच्‍ची के 18 साल की होने के बाद नॉर्मल प्रीमैच्‍योर क्‍लोजर की अनुमति है. साथ ही बच्‍ची की शादी के बाद भी वह इसे क्‍लोज कर सकती है. बच्‍ची के 18 साल का होने के बाद वह इस अकाउंट से आंशिक तौर पर विदड्रॉल कर सकती है. इस विदड्रॉल की लिमिट वित्त वर्ष खत्‍म होने पर अकाउंट में मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है. इसमें मैक्सिमम 15 साल तक निवेश किया जा सकता है और इस पर ब्याज दर 8.5 फीसदी सालाना है.

(सोर्स- https://www.indiapost.gov.in/Financial/Pages/Content/Post-Office-Saving-Schemes.aspx)

Go to Top