मुख्य समाचार:
  1. इनएक्टिव PPF अकाउंट के नुकसान, नहीं मिलते 3 फायदे

इनएक्टिव PPF अकाउंट के नुकसान, नहीं मिलते 3 फायदे

इनएक्टिव PPF अकाउंट पर ब्‍याज तो मिलता रहता है लेकिन इस पर मौजूद कुछ अन्य सुविधाओं का लाभ नहीं लिया जा सकता.

October 18, 2018 5:06 PM

disadvantages of inactive public provident fund ppf account and how to revive it

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) टैक्‍स सेविंग, फ्यूचर सेविंग्‍स और रिटर्न के मामले में एक अच्‍छा विकल्‍प बनकर उभरा है. अगर इसमें निवेश किया जाए तो टैक्‍स में कटौती का तो फायदा तो मिलता ही है, इसके अलावा मिलने वाला ब्‍याज और 15 साल का मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने पर हासिल होने वाली रकम भी टैक्‍स फ्री होती है.

PPF में एक वित्त वर्ष के दौरान 500 रुपये न्यूनतम और 1.5 लाख रुपये अधिकतम धनराशि है. अगर पूरे वित्त वर्ष के दौरान 500 रुपये का न्‍यूनतम निवेश न किया जाए तो PPF अकाउंट इनएक्टिव हो जाता है. इनएक्टिव अकाउंट पर ब्‍याज तो मिलता रहता है लेकिन इस पर मौजूद कुछ अन्य सुविधाओं का लाभ नहीं लिया जा सकता. आइए बताते हैं क्या हैं इनएक्टिव PPF अकाउंट के नुकसान और कैसे करा सकते हैं इसे रिवाइव यानी दोबारा चालू—

मैच्‍योरिटी पीरियड पूरा होने से पहले नहीं कर सकते बंद

वैसे तो PPF अकाउंट को 15 साल का मैच्योरिटी पीरियड खत्म होने से पहले बंद नहीं कराया जा सकता लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में ऐसा हो सकता है. 2016 में PPF नियमों में हुए संशोधनों के बाद PPF अकाउंट को गंभीर बीमारी का इलाज, बच्‍चों की उच्‍च शिक्षा आदि जैसी जरूरतों पर समय से पहले बंद कराया जा सकता है. वहीं बैंकों में खुले PPF अकाउंट को 5 साल पूरे होने के बाद बंद करा सकते हैं. लेकिन अगर किसी का PPF अकाउंट इनएक्टिव है तो वह इसे मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने से पहले बंद नहीं करा सकता है.

नहीं कर सकते ट्रांजैंक्‍शन, न ले सकते हैं लोन

चूंकि PPF एक लॉन्ग टर्म सेविंग्स स्कीम है, इसलिए खाताधारक को सुविधा दी गई है कि PPF अकाउंट के 6 वित्त वर्ष पूरे होने पर 7वें वित्त वर्ष से वह इसमें से आंशिक विदड्रॉल कर सकता है. लेकिन अगर अकाउंट चालू यानी एक्टिव नहीं है तो यह सुविधा नहीं मिलती. साथ ही आप PPF पर लोन लेने के भी हकदार नहीं रहते. बता दें कि एक्टिव PPF अकाउंट पर अकाउंट खुलने के बाद तीसरे और छठे वित्त वर्ष के बीच लोन ले सकते हैं. यानी लोन लेने के लिए आपके अकांउट के दो वित्‍त वर्ष पूरे होना जरूरी हे. उदाहरण के लिए अगर आपने 2017-18 में अकाउंट खोला है तो आप 2019-20 में लोन ले सकेंगे.

कैसे कर सकते हैं रिवाइव

बंद हो चुके PPF खाते का फिर से एक्टिव मोड में लाने के लिए खाताधारक को संबंधित बैंक या पोस्‍ट ऑफिस में एक एप्‍लीकेशन देनी होती है. इसके अलावा 50 रुपये सालाना का जुर्माना और जिस समय से अकाउंट में डिपॉजिट नहीं किया है, उस अवधि से 500 रुपये सालाना के हिसाब से बकाया डिपॉजिट करना होता है. साथ ही जिस साल में रिवाइव करा रहे हैं, उस साल की न्‍यूनतम 500 रुपये की किश्‍त जमा करनी होती है. इसके बाद ही अकाउंट फिर से एक्टिव होता है.

(सोर्स: बैंक बाजार डॉट कॉम)

Go to Top