सर्वाधिक पढ़ी गईं

धनतेरस-दिवाली: जान लें ये खास नंबर, शुद्ध सोना खरीदने में नहीं खाएंगे मात

धनरतेरस पर सोने की खरीदारी का प्लान बना रहे हैं तो कुछ खास बातों को जरूर ध्यान मे रखें.

Updated: Oct 25, 2019 2:57 PM
Representational Image

कल धनतेरस का त्योहार है. धनतेरस पर सोना खरीदना शुभ माना जाता है. इस दिन बड़ी संख्या में लोग सोने की फिजिकल खरीदारी के अलावा इसमें निवेश की भी शुरुआत करते हैं. फिजिकल रूप में सोने के गहने, सोने के बिस्किट और सिक्के की खरीदारी होती है. अगर आप भी धनरतेरस पर सोने की खरीदारी का प्लान बना रहे हैं तो कुछ खास बातों को जरूर ध्यान मे रखें जिससे कि आप नकली, मिलावटी सोने की खरीद से बच सकें. सोने की शुद्धता की जांच करना जरूरी है. सोने की शुद्धता की जांच इससे होती है कि सोना कितने कैरेट का है. शुद्धता से ही सोने की कीमत भी तय होती है.

कैरेट जितना ज्यादा होगा, सोने की ज्वैलरी उतनी ही महंगी होगी. ऐसा इसलिए है क्योंकि हाई कैरेट का मतलब है कि ज्वेलरी में सोना अधिक है और अन्य धातुएं कम. Bureau of Indian Standards यानी BIS की वेबसाइट के मुताबिक, सोने की शुद्धता इन चार चीजों से तय होती है….

1. BIS मार्क

कोई भी सोने की ज्वैलरी जो BIS हॉलमार्क वाली होगी, उस पर BIS का लोगो दिया होगा. ये इस बात की पुष्टि करेगा कि ये लैब की जांच में ठीक पाया गया है. BIS ही एक सरकारी एजेंसी है, जो सरकार से सोने की शुद्धता की पुष्टि करती है. इसलिए ज्वैलरी खरीदने से पहले ये चेक कर लें कि उस पर BIS का हॉलमार्क है या नहीं.

2. कैरेट और फाइननेस नंबर में शुद्धता

सोने की शुद्धता को दो तरीकों से मापा जाता है- कैरेट और फाइननेस नंबर. जब सोने की शुद्धता को कैरेट में मापा जाता है, तो उसमें 24 कैरेट सोना सबसे शुद्ध माना जाता है. लेकिन 24 कैरेट सोना बहुत कोमल होता है इसलिए उससे ज्वैलरी नहीं बनाई जा सकती. इसलिए उसमें चांदी, zinc जैसे मेटल को मिलाया जाता है.

फाइननेस नंबर सोने की शुद्धता को मापने का एक और तरीका है. अगर फाइननेस नंबर 999 है, तो सोना 24 कैरेट शुद्धता वाला है. किसी भी ज्वैलरी पर फाइननेस नंबर इसकी पुष्टि करता है कि BIS ने इसकी गुणवत्ता की जांच की है.

 शुद्धताफाइननेस नंबर
 24 कैरेट 999 (99.9%)
 23 कैरेट 958 (95.8%)
 22 कैरेट 916 (91.6%)
 21 कैरेट 875 (87.5%)
 18 कैरेट 750 (75.0%)
 17 कैरेट 708 (70.8%)
 14 कैरेट 585 (58.5%)
 9 कैरेट 375 (37.5%)

धनतेरस: सोना खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान; नहीं होगा नुकसान, शुभ रहेगा त्योहार

3. हॉलमार्क सेंटर का आइडेंटिफिकेशन नंबर या मार्क

जिस लैब में ज्वैलरी की शुद्धता की जांच हुई है, उसे भी ज्वैलरी पर अपना लोगो देना होता है. जिन लैब के पास BIS का लाइसेंस होता है, सिर्फ वो ही सोने की जांच कर सकती हैं.

4. ज्वैलर का आइडेंटिफिकेशन नंबर या मार्क

जिस ज्वैलरी की दुकान से आप सोना खरीद रहे हैं, उसे भी अपना आईडी मार्क देना होता है. ये ज्वैलर, जिसे BIS से प्रमाण प्राप्त है या ज्वेलरी बनाने वाला दे सकता है. BIS ने अपनी वेबसाइट पर उन ज्वैलर्स की सूची दी है, जो उससे प्रमाणित हैं.

Video: देश की सबसे बड़ी रिफाइनरी

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. धनतेरस-दिवाली: जान लें ये खास नंबर, शुद्ध सोना खरीदने में नहीं खाएंगे मात

Go to Top