मुख्य समाचार:

सुकन्या समृद्धि योजना: नियमों में मिली बड़ी छूट, लेकिन 31 जुलाई के पहले करना होगा निवेश

सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाने के लिए उन लोगों को नियमों में ढील मिली है, जो लॉकडाउन के चलते खाता खुलवाने से चूक गए.

Updated: Jul 06, 2020 12:32 PM
department of posts, new guidelines on sukanya samriddhi yojana, new rule of SSY, age, SSY age norms change as lockdown, post office small savings scheme, post office, best savings scheme for daughter, interest rate on SSYसुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाने के लिए सरकार ने उन लोगों को नियमों में छील मिली है, जो लॉकडाउन के चलते खाता खुलवाने से चूक गए.

सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाने के लिए उन लोगों को नियमों में ढील मिली है, जो लॉकडाउन के चलते खाता खुलवाने से चूक गए. या लॉकडाउन में जिनकी बेटी की उम्र अधिकतम लिमिट 10 साल के पार चली गई. डाक विभाग (Department of Post) के एक हालिया निर्देश के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान (25 मार्च से 30 जून 2020 तक) जो बेटियां 10 साल की हो गई हैं, उनके नाम भी 31 जुलाई 2020 तक सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) में खाता खुलवाया जा सकता है. हालांकि इसका फायदा उन्हीं को मिलेगा, जो 31 जुलाई के पहले अकाउंट खोलेंगे.

छूट का किसे मिलेगा फायदा

बता दें कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते सभी तरह की गतिविधियों पर ब्रेक लग गया था. जिसकी वजह से बहुत से लोग चाहकर भी निवेश बचत जैसे काम नहीं कर पाए. ऐसे में सरकार ने इसके लिए कुछ नियमों में ढील या बदलाव किया है. इस छूट का फायदा उन अभिभावकों को मिलेगा, जिनके बेटियों की उम्र लॉकाडउन के दौरान 10 साल हो गई है. इंडिया पोस्ट की गाइडलाइंस के मुताबिक सुकन्या समृद्धि अकाउंट 31 जुलाई 2020 को या इससे पहले इन बेटियों के नाम से खोला जा सकता है, जिनकी उम्र 25 मार्च 2020 से 30 जून 2020 तक लॉकडाउन के दौरान 10 साल की उम्र पूरी हो गई हो.

ब्याज

मौजूदा समय में सुकन्या समृद्धि योजना में 7.6 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है. सीनियर सिटीजंस सेविंग्स स्कीम को छोड़ दिया जाए तो इसमें सबसे ज्यादा ब्याज मिल रहा है.

एक वित्त वर्ष में अधिकतम जमा

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एक वित्त वर्ष में कम से कम 250 रुपये और अधिकतम 1.50 लाख रुपये जमा किया जा सकता है. एक अभिभावक अधिक से अधिक 2 बेटियों के नाम से अकाउंट खुलवा सकता है.

टेन्योर

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत माता-पिता को सिर्फ 14 साल तक निवेश करना होता है. जबकि खाते की मेच्योरिटी अवधि 21 साल है. 14 साल के बाद बचे हुए 7 साल के दौरान 14 साल के क्लोजिंग बैलेंस पर 7.6 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज मिलेगा. 21 साल बाद मेच्योरिटी पर पूरी रकम मिलेगी. हालांकि अगर बेटी 18 साल की हो जाती है तो उसकी शादी के नाम पर खाते से पैसा निकाला जा सकता है.

टैक्स छूट का लाभ

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत निवेश आयकर कानून की धारा 80C के तहत टैक्स छूट का लाभ लिया जा सकता है.

अधिकतम कितना फायदा

मौजूदा तिमाही के लिए SSY पर ब्याज दरें 7.6 फीसदी तय की गई हैं. मान लीजिए यदि यह ब्याज दरें बरकरार रहती हैं और 14 साल तक आप हर महीने 12500 रुपये या 1.50 लाख रुपये सालाना (अधिकतम रकम) निवेश करते हैं. ऐसा आपको 14 साल तक करना होगा. 14 साल में 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से यह रकम 37,98,225 रुपये हो जाएगी. इसके बाद 7 साल तक इस रकम पर 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से रिटर्न मिलेगा. 21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 63,42,589 रुपये होगी. यानी आपको 42.5 लाख रुपये ब्याज के रूप में फायदा होगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. सुकन्या समृद्धि योजना: नियमों में मिली बड़ी छूट, लेकिन 31 जुलाई के पहले करना होगा निवेश

Go to Top