मुख्य समाचार:

कोरोना संकट: अपने निवेश और खर्च का कैसे रखें ध्यान, ये 5 टिप्स आएंगे काम

दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप है.

March 20, 2020 4:32 PM
coronavirus five tips to manage your investment and savings in these timesदुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप है.

Coronavirus Crisis: दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप है. कोरोना की महामारी ने शहरों को बंद कर दिया है, अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर को सील किया है और शेयर बाजार को भी झटका दिया है. कोविड-19 वायरस को फैलने से रोकने के लिए अपनी सेहत का ध्यान रखना और सावधानी बरतना बेहद जरूरी है. हालांकि, यह भी महत्वपूर्ण है कि हम पर्सनल फाइनेंस के मोर्चे पर जरूरी तैयारी कर लें जिससे किसी भी तरह की मुश्किल स्थिति का सामना कर सकें. आइए ऐसी कुछ बातों के बारे में जानते हैं जो इसमें आपकी मदद करेंगी.

अपने इमरजेंसी फंड को बढ़ाएं

कोरोना की महामारी ने दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है और इसका असर लंबे समय तक रह सकता है. ऐसे में, अपने इमरजेंसी फंड को बढ़ाना जरूरी है. आपके इमरजेंसी फंड में कम से कम 6 महीने का खर्च होना चाहिए. लेकिन आप इसे जरूरत और जिम्मेदारियों के हिसाब से बढ़ा सकते हैं. अगर इस महामारी की वजह से भविष्य में कोई नुकसान होता है, तो आपका इमरजेंसी फंड काम आएगा.

लोन की EMI का डिजिटल भुगतान करें

अगर आपके पास कोई लोन है जैसे होम लोन, पर्सनल लोन या कार लोन और आप अपनी ईएमआई का ऑफलाइन भुगतान करते हैं, तो उसे बदलकर ऑनलाइन करना शुरू करें. ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर आपका बैंक अपने ऑफिस को बंद करता है, तो इससे लेट फीस या लोन डिफॉल्ट की परेशानी हो सकती है. सबसे अच्छा ऑप्शन अपने सेविंग्स या करंट अकाउंट से ईएमआई का ऑटो-डेबिट मैनडेट सेट करना है जिससे कोई परेशान न हो.

लॉन्ग टर्म के निवेश को जल्दबाजी में बंद न करें

बाजार पर कोरोना का बुरा असर हुआ है. हालांकि, आपको सलाह है कि इस स्थिति में परेशान होकर निवेश से जुड़े फैसले न लें. ऐसा हो सकता है कि आप अपनी म्यूचुअस फंड SIP को लंबी अवधि के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए जारी रखना चाहते हों. बाजार की गिरावट में अगर आप अपनी SIP को जारी रखते हैं, तो आप डिस्काउंट के साथ कम कीमत पर ज्यादा म्यूचुअल फंड्स खरीद सकते हैं जिससे बाजार में सुधार होने पर आपको ज्यादा रिटर्न मिलेगा.

कोरोना वायरस के लिए भारत का पहला कॉम्प्रिहैन्सिव इंश्योरेंस प्लान, 499 रुपये में पूरा इलाज

हेल्थ पॉलिसी को रिव्यू करें

कोरोना वायरस को जिस समय तक विश्व स्वास्थ्य संगठन ने महामारी घोषित नहीं किया था, उस समय तक उसके इलाज का खर्च ज्यादातर हेल्थ पॉलिसी में कवर होता था. लेकिन एलान होने के बाद जिन पॉलिसी में महामारी की कवरेज को बाहर रखा गया है, वे ऐसे मामलों से जुड़े क्लेम को नहीं मान सकते. ऐसे में आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के दस्तावेजों को पढ़िए और उसमें कवरेज की लिस्ट को चेक करें और कंपनी से भी बात कर सकते हैं.

अपने बजट और रोजाना के खर्च को रिव्यू करें

आप ऐसी स्थिति में अपने गैर-जरूरी खर्चों को सीमित भी कर सकते हैं. पर्याप्त बचत भविष्य में स्थिति के खराब होने पर आपको मदद देगी. बड़े खर्चों को रेकना भी जरूरी है. इसलिए अपने बजट को रिव्यू करें और खरीदारी को काबू में रखें.

 

(By: Adhil Shetty, CEO, BankBazaar)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. कोरोना संकट: अपने निवेश और खर्च का कैसे रखें ध्यान, ये 5 टिप्स आएंगे काम

Go to Top