मुख्य समाचार:

कोरोना कवच पॉलिसी लॉन्च, अस्पताल में भर्ती, एम्बुलेंस से लेकर आयुष के खर्च को करेगी कवर; जानें पूरी डिटेल

इरडा ने कोरोना कवच पॉलिसी को लॉन्च करने का एलान किया है.

Published: July 10, 2020 6:14 PM
corona kawach policy launched hospitalization ambulance ayush and many included know full details of coronavirus standard health insurance policyइरडा ने कोरोना कवच पॉलिसी को लॉन्च करने का एलान किया है.

देश में कोरोना वायरस के ममाले बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में लोगों को बेहतर और समय पर इलाज मिलना जरूरी है. इसे देखते हुए इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (इरडा) ने कोरोना कवच पॉलिसी को लॉन्च करने का एलान किया है और भारत में सभी जनरल और स्टैंडलोन हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों के लिए यह पॉलिसी पेश करना अनिवार्य कर दिया है. पॉलिसी में कोरोना के संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती, भर्ती होने से पहले और बाद, घर में देखभाल और आयुष से जुड़े खर्चों पर कवर मिलेगा.

यह स्टैंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस प्लान है जिसे कोरोना वायरस महामारी की वजह से होने वाले खर्चों के लिए तैयार किया गया है. इसके होने पर आपको मेडिकल बिल और इलाज के खर्च को लेकर चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. HDFC ERGO ने इसके तहत अपनी कोरोना कवच पॉलिसी को लॉन्च कर दिया है.

बीमा की राशि और अवधि

कोरोना कवच पॉलिसी में एक बेसिक कवर होगा जो अनिवार्य है. इसके अलावा एक ऑप्शनल कवर है, जिसे ऐड किया जा सकता है. इस पॉलिसी को खरीदने के लिए एक व्यस्क की न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम उम्र 65 साल रखी गई है. जबकि बच्चे के लिए न्यूनतम उम्र एक दिन और अधिकतम उम्र 25 साल होनी चाहिए. कोरोना कवच पॉलिसी के लिए इंश्योरेंस की राशि न्यूनतम 50 हजार रुपये और अधिकतम 5 लाख रुपये है. इंश्योरेंस का टेनयोर कम से कम 3.5 महीने, 6.5 महीने और 9.5 महीने हो सकता है.

कोरोना कवच में क्या-क्या कवर होता है ?

अस्पताल में भर्ती होने का खर्च: इसमें बेड का चार्ज, नर्सिंग चार्ज, ब्लड टेस्ट, PPE किट, ऑक्सीजन, ICU और डॉक्टर की कंसल्टेशन फीस कवर होती है.

भर्ती होने से पहले का खर्च: अस्पताल में भर्ती होने से पहले डोक्टर कंसल्टेशन, चेक अप और डाइग्नोसिस के खर्च शामिल होते हैं. ऐसे खर्चों पर अस्पताल में भर्ती होने से 15 दिन पहले तक का कवर मिलता है.

डिस्चार्ज होने के बाद खर्च: इसमें अस्पताल से डिस्चार्ज होने के 30 दिन बाद तक के मेडिकल खर्च पर कवरेज मिलता है.

घर में देखभाल का खर्च: अगर आपका कोरोना वायरस का इलाज घर पर चल रहा है, तो इसमें हेल्थ की मॉनेटरिंग और दवाइयों का खर्च 14 दिन तक के लिए कवर होता है.

आयुष: इस पॉलिसी के तहत आयुर्वेद और उससे जुड़े इलाज पर खर्चों पर भी कवर मिलता है.

रोड एम्बुलेंस कवर: घर से अस्पताल और अस्पताल से घर तक एम्बुलेंस में ट्रांसफर करने को भी कवर किया जाता है. इसमें अपताल में भर्ती पर प्रति 2000 रुपये मिलते हैं.

SBI में ऑनलाइन खुलवाएं बचत खाता, घर बैठे होगा काम; Step by Step प्रॉसेस

ऑप्शनल कवर

इस पॉलिसी में आपके पास हॉस्पिटल डेली कैश कवर को ऐड करने का विकल्प रहता है. इसके तहत बीमा कंपनी प्रति दिन इंश्योरेंस की राशि का 0.5 फीसदी 24 घंटे लगातार भर्ती के मुताबिक देती है. यह 15 दिन तक मिलती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. कोरोना कवच पॉलिसी लॉन्च, अस्पताल में भर्ती, एम्बुलेंस से लेकर आयुष के खर्च को करेगी कवर; जानें पूरी डिटेल

Go to Top