मुख्य समाचार:

गोल्ड लोन Vs पर्सनल लोन: कर्ज लेना है तो पहले समझें दोनों के फायदे और नुकसान

Gold loan vs personal loan: पर्सनल लोन की अवधि अन्य लोन के मुकाबले कम होती है.

June 26, 2019 2:57 PM
compare Gold loan vs personal loan which one to choose interest rate tenure and other detailsक्रेडिट स्कोर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है

अगर आप लोन लेने की सोच रहे हैं तो आप अच्छे से जानते होंगे कि लोन मिलना कितना आसान हो गया है. यहां तक की मार्केट में तरह-तरह के विकल्प मौजूद हैं. बल्कि अब तो घूमने के लिए भी लोन मिलता है. ऐसे में अलग-अलग ऑप्शन में आप पर्सनल लोन और गोल्ड लोन को कम्पेयर कर सकते हैं और देख सकते हैं कौन सा विकल्प बेहतर है. जानिए गोल्ड लोन और पर्सनल लोन के फायदे और नुकसान और इन्हें पर्सनल लोन से कम्पेयर करें.

गोल्ड लोन

लोन जल्दी मिलना

गोल्ड पर आसानी से कर्ज मिल जाता है. कर्ज लेने के लिए आपको सिर्फ सोना अपने फाइनेंसर के पास गिरवी रखना होता है.  KYC के अलावा कुछ फॉर्म भरने के बाद आपको कुछ ही घंटों में लोन मिल जाएगा. यह बात बैंक और फाइनेंसर दोनों पर लागू होती है.

क्रेडिट स्कोर पर कम निर्भर

कर्ज देते वक्त सभी फाइनेंसर सबसे पहले आपका क्रेडिट स्कोर चेक करते हैं और क्रेडिट स्कोर के आधार पर ही आपकी लोन की अमाउंट और इंटरेस्ट रेट तय करते हैं. हालांकि गोल्ड लोन देते वक्त भी आपसे आपका क्रेडिट स्कोर पूछा जाता है मगर आपके लोन की अमाउंट आपके द्वारा गिरवी रखे गए सोने पर ही निर्भर करेगी. ऐसे में जिन लोगों का कम क्रेडिट स्कोर है वह सोने की मदद से आसानी से लोन ले सकते हैं.

सस्ती ब्याज दरें

गोल्ड लोन में गोल्ड गिरवी रखा जााता है. इसलिए यह सिक्योर्ड लोन की श्रेणी में आता है. सिक्योर्ड लोन होने की वजह अन्य अनसिक्योर्ड लोन के मुकाबले गोल्ड लोन की ब्याज दरें कम होती है.

लचीलापन

हालांकि कुछ लेंडर्स फ्लेक्सिबल रिपेमेंट टेन्योर के आधार पर लोन देते हैं. इसका मतलब है कि समय के साथ आपका इंटरेस्ट रेट चेंज होता रहता है. ऐसे में यह हो सकता है कि शुरू में आपको कम ब्याज दरों पर लोन मिले लेकिन बाद में आपको ज्यादा ब्याज चुकाना पड़े.

शुद्धता

केवल शुद्ध सोने (18 कैरेट और उससे अधिक) को ही ज्यादातर लेंडर्स द्वारा गिरवी जाता है. गिरवी रखते हुए बहुत से सोने जैसे जेम्स/रत्न को शामिल भी नहीं किया जाता है. बहुत से ज्वैलर्स प्लेटेड ज्वैलरी और ऑक्सीडाइज्ड ज्वैलरी को भी गिरवी नहीं रखते हैं.

सोने की कीमत

सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव से लोन टू वैल्यू रेशियो (LTV) पर फर्क पड़ सकता है. गोल्ड लोन मौजूदा गोल्ड मार्केट प्राइस के आधार पर दिए जाते हैं और ब्याज की कैलकुलेशन लोन की अवधि के अनुसार तय की जाती है. सोने के रेट में गिरावट की वजह से ब्याज दरों में भी बदलाव किया जा सकता है. या फिर लेंडर LTV को मेन्टेन करने और ज्यादा सोने को गिरवी रखने की मांग कर सकता है.

पर्सनल लोन

आसान प्रोसेस

पर्सनल लोन अप्लाई करने के 24 घंटे के भीतर आपको लोन मिल जाता है. इस लोन में कम से कम डॉक्यूमेंट्स की मांग की जाती है. पर्सनल लोन में किसी भी तरह की एसेट को गिरवी रखने की मांग नहीं की जाती है.

कार्यकाल

पर्सनल लोन की अवधि अन्य लोन के मुकाबले कम होती है. इस लोन में आपको फिक्स्ड पेमेंट करनी पड़ती है. यह सुनिश्चित करता है कि गोल्ड लोन की तुलना में आपका लोन जल्द ही चुका दिया जाए, जिसमें आमतौर पर फ्लैक्सिबल पेमेंट ऑप्शन होता है. आप प्री-क्लोजर पेमेंट का भुगतान करने के बाद एक पर्सनल लोन को समय से पहले भी बंद कर सकते हैं.

क्रेडिट स्कोर

क्रेडिट स्कोर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है: अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा नहीं है तो आपको ऊंची दरों पर ब्याज मिलेगा. आपके क्रेडिट स्कोर के हिसाब से आपको कर्ज मिलता है. समय पर EMI भुगतान करने से आप अपना क्रेडिट स्कोर सुधार सकते हैं.

By: Adhil Shetty, CEO, Bankbazaar.com

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. गोल्ड लोन Vs पर्सनल लोन: कर्ज लेना है तो पहले समझें दोनों के फायदे और नुकसान

Go to Top