सर्वाधिक पढ़ी गईं

चेक हुआ बाउंस तो लगेगा 500 रु. तक चार्ज+GST, सजा होने का भी है खतरा

अलग-अलग बैंकों में चेक बाउंसिंग पर चार्ज अलग-अलग है.

October 7, 2018 7:40 AM
charges on cheque bouncing in various banksImage: IE

अगर चेक से लेन-देन करते हैं तो अपने बैंक अकाउंट के बैलेंस पर नजर भी जरूर रखें. जितना बैलेंस हो, उसी के मुताबिक चेक काटें नहीं तो अगर चेक बाउंस हुआ तो आपको 500 रुपये तक का चार्ज प्‍लस GST देना पड़ सकता है. अलग-अलग बैंकों में चेक बाउंसिंग पर चार्ज अलग-अलग है.

इसके अलावा चेक बाउंस होना कानूनी अपराध भी है, जिसके चलते आप पर मुकदमा भी हो सकता है. भारत में निगोशिएबल इंस्‍ट्रूमेंट एक्‍ट, 1881 में हुए संशोधन के बाद सेक्‍शन 138 के तहत चेक बाउंस होना कानूनी अपराध माना गया है. इसके तहत 2 साल तक की जेल या चेक में भरी राशि का दोगुना तक जुर्माना या दोनों लगाया जा सकता है. हालांकि मुकदमा तभी हो सकता है, जब चेक अपर्याप्‍त बैलेंस के चलते बाउंस हुआ हो. नॉन-फाइनेंशियल कारणों जैसे- तारीख डालना भूल जाना या हस्‍ताक्षर नहीं करना आदि के लिए ऐसा नहीं हो सकता.

आइए आपको बताते हैं कि देश के प्रमुख बैंकों में चेक बाउंस होने पर चार्ज की दर कितनी है-

SBI

SBI में कम राशि के चलते चेक रिटर्न होने पर चार्ज 500 रुपये प्‍लस GST है. वहीं किसी तरह की तकनीकी खराबी की वजह से अगर चेक रिटर्न हुआ तो बैंक 150 रुपये प्‍लस GST चार्ज लेता है. हालांकि अगर कस्‍टमर की गलती न हो तो उस पर चार्ज नहीं लगता है.

ICICI बैंक

ICICI बैंक में चेक रिटर्न होने पर र्चा 750 रुपये तक है, जो कि ICICI से दूसरे बैंक और आउटस्‍टेशन रिटर्निंग के आधार पर लगता है. बैंक में लोकल एरिया के हिसाब से ICICI ब्रान्‍च के अंदर ही चेक भेजने पर महीने में 1 चेक रिटर्न होने पर चार्ज 350 रुपये है, वहीं महीने में 1 से ज्‍यादा चेक कम बैलेंस के चलते रिटर्न होने पर चार्ज 750 रुपये प्रति चेक है. सिग्‍नेचर वेरिफिकेशन को छोड़ अन्‍य नॉन-फाइनेंशियल कारणों से चेक रिटर्न होने पर चार्ज 50 रुपये है.

अन्‍य बैंकों को चेक भेजे जाने की सूरत में फाइनेंशियल कारण यानी बैलेंस कम होने पर चेक रिटर्न होने पर चार्ज 100 रुपये प्रति चेक है. वहीं आउटस्‍टेशन के मामले में यह चार्ज 150 रुपये प्‍लस अन्‍य बैंक का चार्ज है.

charges on cheque bouncing in various banksImage: Reuters

HDFC बैंक

HDFC बैंक में अपर्याप्‍त बैलेंस के चलते चेक रिटर्न होने पर 500 रुपये प्रति चेक का चार्ज है. फंड ट्रांसफर के चलते चेक रिटर्न होने पर चार्ज 350 रुपये और तकनीकी कारणों से रिटर्न होने पर 50 रुपये है.

एक्सिस बैंक

एक्सिस बैंक में अपर्याप्‍त बैलेंस के चलते चेक रिटर्न होने पर चार्ज 500 रुपये है. नया चार्ज 1 मई 2018 से प्रभावी हुआ है.

कोटक महिन्‍द्रा बैंक

यहां भी अपर्याप्‍त बैलेंस के चलते चेक रिटर्न होने पर चार्ज 500 रुपये है.

बैंक ऑफ बड़ौदा

बैंक ऑफ बड़ौदा में फाइनेंशियल कारणों से चेक रिटर्न होने पर अलग-अलग अमाउंट के लिए चार्ज अलग-अलग है. यहां 1 लाख रुपये तक का चेक फाइनेंशियल कारणों से रिटर्न होने पर चार्ज 250 रुपये, 1 लाख से लेकर 1 करोड़ रुपये तक के चेक के लिए 500 रुपये और 1 करोड़ रुपये से ज्‍यादा अमाउंट के चेक के लिए 750 रुपये है. वहीं नॉन-फाइनेंशियल कारणों से चेक रिटर्न होने पर चार्ज 250 रुपये है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. चेक हुआ बाउंस तो लगेगा 500 रु. तक चार्ज+GST, सजा होने का भी है खतरा

Go to Top