मुख्य समाचार:
  1. कार और टू व्हीलर्स का बीमा कराना होगा महंगा, 16 जून से इतना बढ़ जाएगा प्रीमियम

कार और टू व्हीलर्स का बीमा कराना होगा महंगा, 16 जून से इतना बढ़ जाएगा प्रीमियम

कार और दोपहिया वाहनों का बीमा कराना अब महंगा हो जाएगा

June 7, 2019 11:51 AM
Car And Two Wheeler Insurance, third party insurance, IRDAI, TP, vehicles insurance, वाहनों का बीमा, बीमा कराना अब महंगाकार और दोपहिया वाहनों का बीमा कराना अब महंगा होगा.

कार और दोपहिया वाहनों का बीमा कराना अब महंगा हो जाएगा. दरअसल, बीमा नियामक इरडा ने वाहनों की कुछ कैटिगरी के लिए अनिवार्य थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में 21 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर दी है. वित्त वर्ष 2019-20 के लिए नई दरें 16 जून से लागू होंगी. आम तौर पर थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम की दरों को 1 अप्रैल से संशोधित किया जाता है.

कार का बीमा कितना महंगा

भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने अपने आदेश में कहा है कि 1000 सीसी से कम क्षमता वाली छोटी कारों के थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में 12 फीसदी की बढ़ोत्तरी की गई है. अब प्रीमियम 1850 रुपये (वर्तमान में) से बढ़कर 2072 रुपये हो जाएगा. इसी तरह से 1000-1500 सीसी के वाहनों का बीमा प्रीमियम 12.5 फीसदी बढ़कर 3221 रुपये हो गया है.

दोपहिया वाहन

दोपहिया वाहनों के मामले में 75 सीसी से कम के दोपहिया वाहनों के लिये थर्ड पार्टी प्रीमियम 12.88 फीसदी बढ़कर 482 रुपये हो गया. इसी तरह 75 से 150 सीसी के दोपहिया वाहन के लिए प्रीमियम 752 रुपये किया गया है. 150-350 सीसी क्षमता वाले दोपहिया वाहनों के लिए थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में सबसे ज्यादा बढ़ोत्तरी की गई है. इस श्रेणी के दोपहिया वाहनों का प्रीमियम 985 रुपये से 21.11 फीसदी बढ़ाकर 1193 रुपये हो जाएगा.

इनमें नहीं हुआ बदलाव

1500 सीसी से ऊपर की कारों के लिए थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम नहीं बढ़ाया गया है. इसे 7890 रुपये पर बरकरार रखा है. सुपर बाइक (355 सीसी से ऊपर के दोपहिया वाहन) के प्रीमियम में कोई बदलाव नहीं किया गया है. ई-रिक्शा के मामले में दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है

स्कूल बसों का बीमा भी महंगा

इरडा ने माल ढोने वाले निजी और सार्वजनिक वाहनों के लिए भी तीसरे पक्ष बीमा प्रीमियम में बढ़ोत्तरी की है. स्कूल बसों के मामले में थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में बढ़ोत्तरी की गई है. दीर्घकालिक एकल प्रीमियम दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है. कारों के मामले में, दीर्घकालिक प्रीमियम की अवधि तीन साल और दोपहिया वाहनों के लिए यह अवधि पांच साल है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop