मुख्य समाचार:
  1. Car Loan: कार लोन लेने से पहले इन 7 बातों को आत्मसात कर लें

Car Loan: कार लोन लेने से पहले इन 7 बातों को आत्मसात कर लें

Car Loan की पात्रता मुख्य रूप से दो कारकों पर निर्भर करती है. लोन लेने वाले की आय के आधार पर पुनर्भुगतान करने क्षमता और कार की कीमत.

August 3, 2018 3:28 PM
car loan calculator, car loan in delhi, car loan interest rate, car loan emi calculator, car loan interest rate sbi, how to get car loan from sbi, how to get car loan from bank, how to get car loan with low cibil score, how to get car loan easily, car loan procedure india, car loan process in hindi, car loan process in indiaCar Loan की पात्रता मुख्य रूप से दो कारकों पर निर्भर करती है. लोन लेने वाले की आय के आधार पर पुनर्भुगतान करने क्षमता और कार की कीमत.

एक या दो दशक पहले कार खरीदना एक कठिन मामला था और इसे जीवन की एक उपलब्धि माना जाता था. लेकिन अब आसान वित्तपोषण विकल्पों की उपलब्धता के साथ, अपने सपनों की कार को पाना काफी आसान हो गया है. कार लोन को बैंकों व NBFC दोनो ही पेश करते हैं और यह सबसे अधिक मांग वाला लोन है, क्योंकि इसकी अवधि तुलनात्मक रूप से बड़ी, 7 सालों की है. लेकिन इससे पहले कि आप
किसी कार लोन को चुनें, कुछ ऐसे महत्वपूर्ण विवरणों की जांच करना सुनिश्चित कर लें जो आगामी सालों में आपके पुनर्भुगतान शेड्यूल को प्रभावित कर सकते हैं.

योग्यता

Car Loan की पात्रता मुख्य रूप से दो कारकों पर निर्भर करती है. लोन लेने वाले की आय के आधार पर पुनर्भुगतान करने क्षमता और कार की कीमत. एक अच्छा क्रेडिट स्कोर और विवरणों द्वारा प्रदर्शित बड़ी डिस्पोज़ेबल आय भी अधिकतम लोन दिए जाने के लिए जरूरी होती है.

उदाहरण के लिए, यदि आप वेतनभोगी व्यक्ति हैं, तो आवेदन किए गए लोन की कुल राशि आपकी सकल वार्षिक आय से अधिक नहीं हो सकती है. इसी तरह से स्व-रोज़गारी और व्यापारियों को उनकी पुनर्भुगतान क्षमता को प्रासंगिक प्रमाणों के साथ दर्शाना होता है.

कार लोन का आवेदन करने के लिए जरूरी प्राथमिक दस्तावेज़ निम्नलिखित हैं:

  • खरीदारी वाले शहर के लिए पते का प्रमाण
  • केवाईसी दस्तावेज़
  • आय का प्रमाण (फार्म 16 या 6 माह की वेतन स्लिप)
  • उम्र का प्रमाण (न्यूनतम 18 साल)
  • फोटोग्राफ

कुछ डीलर ड्राइवर लाइसेंस भी मांग सकते हैं लेकिन कार खरीदने के लिए यह अनिवार्य नहीं है.

ब्याज दर

नयी कार के लोन की ब्याज दरें, पुरानी कारों की तुलना में कम हैं. जैसे होम लोन में होता है कि फ्लोटिंग व फिक्स दोनो दरें उपलब्ध होती है ठीक उसी तरह यहां भी है, जिसमें बैंक लेंडिंग दर (MCLR) + अतिरिक्त विस्तार (स्प्रेड) के आधार पर फंड्स की उनकी मार्जिनल लागत के आधार पर एक दर चार्ज करते हैं. यदि आपको लगता है कि आने वाले समय में ब्याज दर कम होगी तो आप फ्लोटिंग ब्याज दर चुन सकते हैं या एक फिक्स राशि का भुगतान करने के लिए आप फिक्स्ड दर के लोन को चुन सकते हैं.

नई कारों के लिए बैंकों द्वारा पेश फिक्स्ड रेट अवधि, कार लागत और व्यक्ति की उधार लेने की क्षमता के आधार पर 8.5 से 11.5% के बीच हो सकता है. NBFC द्वारा पेश पुरानी कारों के लोन, अधिक ब्याज दर वाले हो सकते हैं। कार लोन के भुगतान की अधिकतम अवधि 7 साल की है, फिर वो चाहे फिक्स्ड हो या फ्लोटिंग.

प्रोसेसिंग व अन्य शुल्क

बाज़ार के दूसरे लोन की तरह कार लोन पर भी प्रोससिंग शुल्क लग सकता है. अग्रिम भुगतान के लिए भुगतान-पूर्व शुल्क लग सकता है और लोन के समय से पहले पूर्ण भुगतान पर भी फोरक्लोज़र शुल्क लग सकता है. लोन लेने से पहले इन शुल्कों के प्रतिशत को चेक अवश्य कर
लें.

कार बीमा

सभी कार व दो-पहिया वाहन स्वामियों के लिए सरकार द्वारा थर्ड पार्टी बीमा को अनिवार्य किया गया है. विभिन्न कार बीमाओं के विकल्पों को दिखाने के लिए आप अपने कार डीलर से बात कर सकते हैं. कार खरीदते समय आप शून्य मूल्यह्रास (डेप्रीसिएशन) पॉलिसी को चुन सकते हैं, क्योंकि यह आपके अगले कुछ सालों तक भविष्य के बीमा दावों के लिए इसके मूल्य को बनाए रखने में सहायता करेगी.

संबद्ध लागतें

कार लोन अधिकांश मामलों में केवल एक्स-शोरूम मूल्यों को कवर करते हैं और किन्ही मामलों में अतिरिक्त एसेसरीज़ लागतों को भी शामिल कर सकते हैं। दूसरी लागतों, मुख्य रूप से रोड टैक्स व बीमा को ग्राहक को वहन करना होगा. आजकल बैंकों से रोड टैक्स रहित कार की कुल लागत के अधिकतम 90% तक का लोन उपलब्ध कराया जाता है.

दृष्टिबंधक/गिरवी (हाइपोथिकेशन)

जब आप लोन के माध्यम से कार खरीदते हैं तो आपकी कार लोन देने वाले के पास हाइपोथिकेट होती है. हाइपोथिकेशन के माध्यम से समय पर FMI का भुगतान ना करने पर, लोन देने वाले को आपकी एसेट को सीज़ करने का अधिकार हासिल हो जाता है. इसलिए अपनी
EMI का समय से भुगतान करते रहना सुनिश्चित करें. एक बार जब आपके लोन का भुगतान पूरा हो जाए तो अपने लोन देने वाले से प्रासंगिक दस्तावेज और फार्म ले लें और अपने RTO से हाइपोथिकेशन को हटवा लें.

इसके लेखक बैंकबाज़ार के सीईओ आदिल शेट्टी हैं.

Go to Top