मुख्य समाचार:

मानसून से पहले कर लें ये उपाय; बाढ़, बारिश या तूफान के नुकसान से बच जाएगी आपकी कार

Car Insurance: कुछ आसान टिप्स से मॉनसून सीजन में अपनी कार को सुरक्षित रखें.

June 16, 2019 9:06 AM
car insurance tips to protect your car from monsoon season from damageअपने व्हीकल को इंश्योर करने के अलावा यह भी ध्यान रखें कि आपके सभी कागजात पूरे हैं

Car Insurance: मानसून सीजन आने वाला हैं और इसमें आंधी-तूफान चलने की पूरी आशंका रहती है. कहीं-कहीं तो मानसून बाढ़ और चक्रवाक का भी रूप ले लेता है. अब बारिश के आने न आने में तो आपका कोई बस नहीं लेकिन इससे होने वाले नुकसान से आप बच सकते हैं. इस मानसून सीजन ऐसे मोटर इंश्योरेंस कवर में निवेश करें जो बारिश या मानसून से होने वाले नुकसान के खर्चों से आपको बचाए ताकि मुसीबत के वक्त आप पर दुगना बोझ न पड़े.

दो तरह की मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी होती है – ओन डैमेज (OD) और थर्ड पार्टी लायबिलिटी (TP) कवर. मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के मुताबिक TP आनिवार्य है जबकि OD कवर ऑप्शनल है. इंश्योरर के नियम और शर्तों के मुताबिक, प्राकृतिक आपदा जैसे चक्रवात, बाढ़ आदि  से होने वाले डैमेज OD कवर में शामिल होते हैं.

1 सितंबर 2018 से IRDAI ने सभी नए वाहनों के लिए 1 बार में तीन साल के TP लेना जरूरी कर दिया है. हालांकि OD कवर हर साल रिन्यू कराया जा सकता है. मानसून के दौरान कई कार इंश्योरेंस कंपनी ग्राहक के रिप्लेसमेंट या रिपेयर के क्लेम को ‘पारिणामिक क्षति’ बताकर रिजेक्ट कर देती हैं. पारिणामिक क्षति जैसे मालिक ने अपनी कार को पानी में निकालने की कोशिश की इसलिए नुकसान हुआ. ज्यादातर मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी में पारिणामिक क्षति को कवर नहीं किया जाता है. हालांकि साईक्लोन जैसी स्थिती में मामला अलग हो जाता है. उदाहरण के तौर पर अगर तेज हवाएं चलने से आपकी गाड़ी पर पेड़ पर गिर जाता है तो यह डैमेज मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर होगा. हालांकि बाकी एक्ससरी जैसे म्यूजिक प्लेयर, पार्किंग कैमरा आदि का नुकसान मोटर इंश्योरेंस में कवर नहीं होता. इसके लिए आपको अलग से कवर लेना पड़ेगा.

यह भी पढ़ें..कार लोन लेते वक्त बरतें ये सावधानियां; सस्ता पड़ेगा कर्ज, चुकाना भी रहेगा आसान

आगे चलकर आपको क्लेम करने में दिक्कत न हो इसलिए रेगुलर पॉलिसी के अलावा एड-ऑन कवर में भी निवेश कीजिए. आप ‘जीरो डेप्रिसिएशन’ कवर ले सकते हैं जो आपके व्हीकल को बंपर प्रोटेक्शन दे. दूसरा एड ऑन कवर है ‘रिटर्न टू इनवॉइस’ कवर. इस कवर में अगर आपका वाहन ऐसी कंडीशन में है जो रिपेयर नहीं हो सकता है, तो आपको उस जैसी कार खरीदने के पैसे दिए जाएंगे. हालांकि इन दोनों एड ऑन कवर का प्रीमियम महंगा होता है.

इन टिप्स से मॉनसून सीजन में अपनी कार को सुरक्षित रखें:

 

व्हीकल को इंश्योर करें

अपने व्हीकल को इंश्योर करने के अलावा यह भी ध्यान रखें कि आपके सभी कागजात पूरे हैं और संभाल कर रखे हुए हैं. अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी को अपडेट करें और ऐसी पॉलिसी लें जिसमें मानसून से संबंधित सभी डैमेज कवर हो जाएं

प्री मानसून सर्विस

मानसून में कार इस्तेमाल करने से पहले कार को अच्छी तरह से चेक करालें जैसे बैटरी, ब्रेक पैड, एयर फिल्टर और स्पार्क प्लग से कार्बन निकलवाना आदि. गाड़ी के फ्यूज, लाइट, वायर, हैडलाइट और वाइपर आदि भी चेक कराना जरूरी है.

यह भी पढ़ें..आखिरी वक्त पर प्लान कर रहे हैं इंटरनेशनल टूर, इन तरीकों से कम हो जाएगा खर्च

मानसून के लिए कार एक्ससरी लगवाएं

आप ऐसी कार नहीं चाहेंगे जो गाड़ी पर कीचड़ फेंकती चले, इसलिए गाड़ी में ‘मड फ्लैप’ और ‘रबर मैट्स’ का होना बहुत जरूरी है. सभी चार टायरों के लिए अलग-अलग मड फ्लैप लें. साथ ही अपने रबर मैट्स भी चेक कराना ना भूलें नहीं तो आपके कार के कारपेट में मानसून में बदबू आ सकती है.

– तरुण माथुर, चीफ बिजनेस ऑफिसर-जनरल इंश्योरेंस, पॉलिसीबाजार.कॉम

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. मानसून से पहले कर लें ये उपाय; बाढ़, बारिश या तूफान के नुकसान से बच जाएगी आपकी कार

Go to Top