सर्वाधिक पढ़ी गईं

अलर्ट! SBI ग्राहकों को बचत खाते पर मिलेगा कम ब्याज, 1 नवंबर से लागू हुआ बदलाव

SBI बचत खाते पर मिलने वाली ब्याज दर को घटाने जा रहा है. यानी आपके खाते में जमा राशि पर मिलने वाला ब्याज कम हो जाएगा.

Updated: Nov 01, 2019 11:35 AM

अगर आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के ग्राहक हैं, तो ये खबर आपके लिए अहम है. SBI ने 1 नवंबर से बचत खाते (Savings Accounts) पर मिलने वाली ब्याज दर को घटा दिया है.  इस तरह बैंक ने अपने बचत खाता धारकों की सेविंग पर कैंची चला दी है. नए बदलाव के अनुसार, SBI ग्राहकों को अब बचत खाते में एक लाख रुपये तक की जमा राशि पर अब 0.25 फीसदी 3.25 फीसदी सालाना ब्‍याज मिलेगा. पहले 3.50 फीसदी ब्‍याज मिलता था. बैंक ने सिस्टम में पर्याप्त नकदी को देखते हुए बचत खाते पर कम ब्याज देने का फैसला किया है.

1 लाख से ज्यादा राशि पर नहीं होगा बदलाव

1 लाख से ज्यादा राशि पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं हुआ है. इस राशि पर 3 फीसदी ब्याज दर ही लागू रहेगी. SBI देश का पहला बैंक था जिसने सेविंग्स अकाउंट पर ब्याज दर को RBI के रेपो रेट से लिंक किया था. 1 मई को उसने यह लागू कर दिया था.

FD पर भी घटा चुका है ब्याज

अक्टूबर में हुई मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में RBI द्वारा रेपो रेट में कटौती किए जाने के बाद SBI ने FD पर ब्याज दरों में भी कटौती की है, जो 10 अक्टूबर 2019 से लागू हो चुकी है. SBI ने 1 साल से दो साल तक की मैच्योरिटी वाली रिटेल FD पर जमा दरों में 0.10 फीसदी की कटौती की थी. ये दर 6.50 फीसदी से घटाकर 6.40 फीसदी कर दी गई. SBI में 2 करोड़ रुपये से कम की डिपॉजिट वाली FD रिटेल FD कहलाती है. इसके लिए नई ब्याज दरें इस तरह हैं…

इसके अलावा बैंक ने 10 अक्टूबर से बल्क FD पर मिलने वाली ब्याज दर को भी कम कर दिया था. SBI ने 2 करोड़ या उससे ज्यादा के जमा पर ब्याज दरें कम कर दी थी. SBI ने 1 साल से दो साल तक की मैच्योरिटी वाली बल्क FD पर जमा दरों में 0.30 फीसदी की कटौती की थी. इसमें मिलने वाली ब्याज दर को बैंक ने 6.30 फीसदी से घटाकर 6 फीसदी कर दिया था.

NPS नियमों में बदलाव! अब भारत के ये नागरिक भी कर सकेंगे निवेश, चेक करें पात्रता

बैंक ने कर्ज भी सस्ता किया था

SBI ने 10 अक्टूबर से ही ग्राहकों के लिए कर्ज लेना भी सस्ता कर दिया था. SBI ने मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट यानी MCLR में 0.10 फीसदी की कटौती की थी. इसका फायदा सभी श्रेणी के ग्राहकों को मिला. बैंक ने वित्त वर्ष 2019-20 में ये लगातार छठवीं बार MCLR में कटौती की थी. इससे बैंक के मौजूदा ग्राहकों की होम और ऑटो लोन की EMI रिसेट पीरियड के मुताबिक घट गई. इससे बैंक के ग्राहकों को थोड़ी राहत मिली.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. अलर्ट! SBI ग्राहकों को बचत खाते पर मिलेगा कम ब्याज, 1 नवंबर से लागू हुआ बदलाव

Go to Top