मुख्य समाचार:

आपके बैंक से आया फोन असली है या फ्रॉड? कैसे पता करें

लोगों को फ्रॉड कॉल के लिए जरिए भी धोखाधड़ी का शिकार बनाया जा रहा है. ऐसे मामलों को वॉयस फिशिंग कहा जाता है.

Published: July 15, 2020 7:40 AM
beware of fraud call from banks how to identify call from bank fraud or not keep these things in mindलोगों को फ्रॉड कॉल के लिए जरिए भी धोखाधड़ी का शिकार बनाया जा रहा है. ऐसे मामलों को वॉयस फिशिंग कहा जाता है. (Representational Image)

देश में बैंक धोखाधड़ी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना महामारी और लॉकडाउन में भी ये मामले कम नहीं हुए हैं. लोगों को फ्रॉड कॉल के लिए जरिए भी धोखाधड़ी का शिकार बनाया जा रहा है. ऐसे मामलों को वॉयस फिशिंग कहा जाता है. लोगों को ऐसे फोन कॉल आते हैं, जिनमें बैंक की ओर से होने का दावा किया जाता है. फोन करने वाला आम तौर पर बैंक का प्रतिनिधि या बैंक की तकनीकी टीम से होने का दिखावा करता है.

ऐसे होते हैं फ्रॉड कॉल

अधिकतर मामलों में फोन करने वाला प्रोफेशनल लगता है और वह ग्राहक को फोन करने के पीछे ठोस कारण देता है. ग्राहक को सुरक्षित कॉल होना का झूठा झांसा देने के बाद फोन करने वाला उससे निजी जानकारी और गोपनीय डेटा प्राप्त कर लेता है. वह ग्राहकों को ये जानकारियां हासिल कर लेता है:

  • वन टाइम पासवर्ड (OTP)
  • क्रेडिट/डेबिट कार्ड नंबर
  • कार्ड का सीवीवी नंबर [कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू, जो कार्ड के पिछली तरफ 3 से 4 संख्या का नंबर होता है]
  • एक्सपायरी डेट
  • सिक्योर पासवर्ड
  • एटीएम पिन
  • इंटरनेट बैंकिंग लॉगइन आईडी, पासवर्ड और दूसरी निजी जानकारी

Income Tax: माता-पिता, बच्चों और पत्नी के नाम निवेश पर ले सकते हैं कर छूट, ये 5 तरीके आएंगे काम

इन बातों का रखें ध्यान

इन सभी महत्वपूर्ण जानकारी के जरिए, धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति पीड़ित के नाम पर गैर-कानूनी वित्तीय ट्रांजैक्शन करता है. इससे बचने के लिए इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है:

  • बैंक या उसकी ओर से कोई भी प्रतिनिधि ग्राहकों को कभी भी फोन करके उनसे किसी भी निजी जानकारी, पासवर्ड या वन टाइम एसएमएस पासवर्ड के बारे में नहीं पूछते हैं. इसमें ग्राहक के अकाउंट से इंटरनेट बैंकिंग के जरिए धोखाधड़ी से पैसे निकाले जा सकते हैं. ऐसी फोन कॉल का कभी जवाब न दें.
  • ऐसी किसी कॉल का जवाब नहीं दें जिसमें आपको आपी यूजर आईडी, पासवर्ड, डेबिट कार्ड नंबर, पिन, सीवीवी आदि को अपडेट या वेरिफाई करने के लिए कहा जाए. अपने बैंक को ऐसे फोन कॉल के बारे में जानकारी दें. अगर आपने कॉल पर ये बता दिए हैं, तो तुरंत अपने पासवर्ड को बदल लें.
  • हमेशा इस बात को याद रखें कि कुछ जानकारी जैसे पासवर्ड, PIN, TIN आदि सख्त तौर पर गोपनीय होते हैं और इनकी बैंक के कर्मचारियों और सुरक्षा अधिकारियों को भी नहीं पता होता है. इसलिए आप फोन पर पूछे जाने पर इन्हें न बताएं.
  • फोन पर किसी को बिना ठोस कारण के अपनी पहचान का प्रमाण भी न उपलब्ध कराएं.

(नोट: यह जानकारी दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट की वेबसाइट से ली गई है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. आपके बैंक से आया फोन असली है या फ्रॉड? कैसे पता करें

Go to Top