मुख्य समाचार:

38 लाख फंड के साथ होंगे रिटायर, साथ में 50 हजार मंथली पेंशन; NPS के लिए रोज बचाएं 167 रु

फाइनेंशियल सिक्योरिटी हर शख्स के लिए जरूरी है, जिससे रिटायरमेंट के बाद जीवन सही तरीके से कट सके.

October 16, 2019 7:55 AM
Retirement Planning, NPS, National Pension System, invest in NPS, financial planning, फाइनेंशियल सिक्योरिटी, एनपीएस, नेशनल पेंशन सिस्टमNPS: फाइनेंशियल सिक्योरिटी हर शख्स के लिए जरूरी है, जिससे रिटायरमेंट के बाद जीवन सही तरीके से कट सके.

Financial Planning With NPS: फाइनेंशियल सिक्योरिटी हर शख्स के लिए जरूरी है, जिससे रिटायरमेंट के बाद जीवन सही तरीके से कट सके. इसलिए नौकरीपेशा हैं तो कम उम्र से ही फ्यूचर प्लानिंग करनी बहुत जरूरी हो जाती है. हालांकि किस फाइनेंशियल इंस्ट्रमेंट में निवेश करें, इसे लेकर अधिकतर लोगों में कंफ्यूजन बना रहता है. सरकार की पेंशन योजना नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) इस कंफ्यूजन को दूर कर सकता है. यह योजना आपको दोहरा फायदा पहुंचा सकती है क्योंकि इसमें जमा पूंजी बढ़ने के साथ टैक्स बचत भी होती है.

NPS को EEE यानी एग्जेंप्ट-एग्जेंप्ट-एग्जेंप्ट का दर्जा दिया गया है. टैक्स को लेकर नए नियमों से यह स्कीम अब पहले से ज्यादा फायदेमंद हो गई है. हम यहां बताएंगे कि किस तरह से प्लानिंग करें तो रिटायरमेंट के बाद हर महीने 50 हजार रुपये पेंशन मिलेगी, साथ ही 38 लाख रुपये का एकमुश्त फंड भी.

ऐसे करें प्लानिंग

  • अगर योजना में आप 25 की उम्र से जुड़ते हैं तो 60 की उम्र तक यानी 35 साल तक आपको हर महीने 5000 रुपये स्कीम के तहत जमा करना होगा.
  • आपके द्वारा किया गया कुल निवेश करीब 21 लाख रुपए रुपये होगा.
  • नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में कुल निवेश पर अगर अनुमानित रिटर्न 8 फीसदी मान लें तो तो कुल कॉर्पस करीब 93 लाख रुपये होगा.
  • इसमें से 66 फीसदी रकम से एन्युटी खरीदते हैं तो वह वैल्यू करीब 75 लाख रुपये होगी.
  • लम्प सम वैल्यू भी 38.75 लाख रुपये के करीब होगी.
  • एन्युटी रेट 8 फीसदी हो तो 60 की उम्र के बाद हर महीने करीब 50 हजार रुपये के करीब पेंशन बनेगी. साथ ही अलग से 38.75 लाख रुपये का फंड भी.

(नोट: यहां हमने ऑनलाइन SBI पेंशन फंड कैलकुलेटर पर 66 फीसदी रकम से एन्युटी खरीदने पर कैलकुलेशन किया है.)

एन्युटी से तय होती है पेंशन की रकम

एन्युटी आपके और इंश्योरेंस कंपनी के बीच एक कांट्रैक्ट होता है. इस कांट्रैक्ट के तहत नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में योजना में कम से कम 40 फीसदी रकम का एन्युटी खरीदना जरूरी होता है. यह रकम जितनी अधिक होगी, पेंशन की रकम उतनी ही अधिक होगी. एन्युटी के तहत निवेश की गई रकम रिटायरमेंट के बाद पेंशन के रूप में मिलती है और एनपीएस योजना की शेष राशि एकमुश्त निकाली जा सकती है.

NPS का कौन ले सकता है लाभ

नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में 18 से 60 साल की उम्र के बीच का कोई भी वेतनभोगी जुड़ सकता है. पहले यह सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए था, लेकिन 2009 से प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वालों के लिए स्कीम खोल दी गई.

किसे मिलता है निवेश का जिम्मा

आपके द्वारा नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में जमा किए गए पैसे को निवेश करने का जिम्मा PFRDA द्वारा रजिस्टर्ड पेंशन फंड मैनेजर्स को दिया जाता है. अभी 8 फंड मैनेजर योजना से जुड़े हैं जो आपके पैसे को इक्विटी, गवर्नमेंट सिक्युरिटीज और नॉन गवर्नमेंट सिक्युरिटीज के अलावा फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट में निवेश करते हैं. सब्सक्राइबर्स इनमें से चुनाव कर सकते हैं या बदलाव कर सकते हैं.

2 तरह के होते हैं अकाउंट

स्कीम के तहत 2 तरह के टियर1 और टियर2 अकाउंट होते हैं. टियर1 अकाउंट खुलवाना जरूरी है, जबकि टियर2 अकाउंट कोई भी टियर1 अकाउंट खुलवाने वाला शुरू कर सकता है. टियर1 अकाउंट से 60 साल की उम्र के पहले पूरा फंड नहीं निकाला जा सकता है. जबकि टियर2 अकाउंट में अपनी मर्जी से निवेश कर सकते हैं या फंड निकाल सकते हैं. हालांकि टियर – 2 अकाउंट में टैक्स बेनिफिट नहीं मिलता. टियर-2 म्युचुअल फंड की तरह काम करता है और टियर-2 में चार्जेस म्युचुअल फंड्स से कम हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. 38 लाख फंड के साथ होंगे रिटायर, साथ में 50 हजार मंथली पेंशन; NPS के लिए रोज बचाएं 167 रु

Go to Top