मुख्य समाचार:

ELSS: टैक्स सेवर म्यूचुअल फंड ने 10 हजार के बनाए 17 लाख, 24 साल में 170 गुना तक मिला रिटर्न

Tax Saver Funds: म्यूचुअल फंड की टैक्स सेविंग कटेगिरी इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) निवेश का एक पॉपुलर विकल्प है.

December 7, 2019 8:55 AM
ELSS, tax saver mutual fund, ELSS long term return, mutual fund lock in period, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम, म्यूचुअल फंड, invest in best mutual fund, mutual funds save tax, mutual fund market, top funds for investmentम्यूचुअल फंड की टैक्स सेविंग कटेगिरी इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) निवेश का एक पॉपुलर विकल्प है.

ELSS Tax Savers Mutual Fund: म्यूचुअल फंड की टैक्स सेविंग कटेगिरी इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) निवेश का एक पॉपुलर विकल्प है. इसमें जहां ग्रोथ का फायदा मिलता है, वहीं टैक्स बचाने में भी मदद मिलती है. आम तौर पर टैक्स सेविंग की दूसरी स्कीम की तरह इसमें भी लॉक इन पीरियड होता है, जिसके अंदर आप इसे बेच नहीं सकते हैं. इसमें कम से कम लॉन इन पीरियड 3 साल का होता है. बहुत से लोगों के मन में सवाल उठता होगा कि क्या लॉक इन पीरियड के बाद इसे सेल कर देना चाहिए. ऐसे में अगर इसका लंबी अवधि का रिटर्न देखें तो आप खुद फैसला कर सकते हैं.

ELSS कटेगिरी में ऐसे कई फंड हैं, जिन्होंने लांच के बाद से 24 सालों के दौरान 24 फीसदी सीएजीआर के हिसाब से रिटर्न दिया है. यानी लांच के बाद से इनमें निवेशकों को करीब 170 गुना तक रिटर्न मिला है. इस लिहाज से अगर किसी ने सबसे ऊंचा रिटर्न देने वाली ELSS स्कीम में 24 साल पहले 10 हजार रुपये लगाया होता तो उसका निवेश अब बढ़कर 17 लाख हो जाता.

लॉक इन पीरियड के बाद बेचना सही फैसला नहीं

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि यह तय करना कि मेच्योरिटी पीरियड के बाद निवेश सेल कर देना है, यह अच्छी रणनीति नहीं हो सकती है. अगर ELSS बेहतर प्रदर्शन कर रहा है तो उसमें निवेया बनाए रखना चाहिए. कब बेचना है यह मेच्योरिटी पीरियड नहीं, बल्कि अपने निवेश के लक्ष्य के आधार पर तय करना चाहिए. बाजार में ऐसे कई कई म्यूचुअल फंड हैं, जिनका लंबी अवधि में रिटर्न बेहद शानदार रहा है.

लॉन्चिंग के बाद से सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाले फंड

HDFC टैक्ससेवर फंड

एसेट्स: 7,414 करोड़ (31 अक्टूबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.97% (31 अक्टूबर, 2019)
लांच डेट: 31 मार्च, 1996
लांच के बाद से रिटर्न: 24.14 फीसदी
कुल रिटर्न: करीब 170 गुना

आदित्य बिरला सन लाइफ टैक्स रीलीफ 96

एसेट्स: 9,814 करोड़ (31 अक्टूबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.98% (31 अक्टूबर, 2019)
लांच डेट: 29 मार्च, 1996
लांच के बाद से रिटर्न: 23.70 फीसदी
कुल रिटर्न: करीब 160 गुना

फ्रैंकलिन इंडिया टैक्सशील्ड फंड

एसेट्स: 4,096 करोड़ (31 अक्टूबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.89% (31 अक्टूबर, 2019)
लांच डेट: 10 अप्रैल, 1999
लांच के बाद से रिटर्न: 21.59 फीसदी
कुल रिटर्न: करीब 50 गुना

ICICI प्रूडेंशियल लांग टर्म इक्विटी फंड

एसेट्स: 6,525 करोड़ (31 अक्टूबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 2.13% (31 अक्टूबर, 2019)
लांच डेट: 19 अगस्त, 1999
लांच के बाद से रिटर्न: 19.69 फीसदी
कुल रिटर्न: करीब 37 गुना

(नोट: हम यहां म्यूचुअल फंड में निवेश की सलाह नहीं दे रहे हैं. यहां जानकारी म्यूचुअल फंड के प्रदर्शन के आधार पर है. बाजार में जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश के पहले एक्सपर्ट से सलाह लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. ELSS: टैक्स सेवर म्यूचुअल फंड ने 10 हजार के बनाए 17 लाख, 24 साल में 170 गुना तक मिला रिटर्न

Go to Top