मुख्य समाचार:

25 साल Vs 30 साल: निवेश में 5 साल की देरी कराएगी लाखों का नुकसान, समझें आसान कैलकुलेशन

करियर की शुरुआत से ही निवेश करना एक समझदारी वाला निर्णय है, जो आपको लंबी अवधि में ज्यादा फंड और आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करेगा.

February 28, 2020 5:11 PM
benefits of early investments know magic of compounding for your moneyकरियर की शुरुआत से ही निवेश करना एक समझदारी वाला निर्णय है, जो आपको लंबी अवधि में ज्यादा फंड और आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करेगा.

Magic of Compounding: करियर की शुरुआत के समय आमतौर पर हम निवेश को लेकर गंभीर नहीं रहते हैं. पहली नौकरी मिलने की खुशी अपने आप में काफी अलग होती है. कॉलेज पूरा कर खुद से पैसे कमाना एक सुखद अहसास होता है और जैसे ही पहली सैलरी हाथ में आती है, तो अक्सर लोग फैमिली के लिए शॉपिंग या अपने पंसदीदा गैजेट की खरीददारी करते हैं. ऐसे समय में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट की बात शायद ही कोई सोचता है. अमूमन, यह वही समय होता है, जहां हम सभी जीवन में गलती करते हैं. हम एक ऐसी लाइफ स्टाइल के आदी हो जाते हैं जो सिर्फ मासिक सैलरी पर निर्भर होती है.

हालांकि करियर की शुरुआत से ही निवेश करना एक समझदारी वाला निर्णय है, जो आपको लंबी अवधि में ज्यादा फंड और आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करेगा. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि आखिर क्यों बचत और निवेश सबकी योजना का हिस्सा होना चाहिए.

कम्पाउंडिंग का बड़ा असर

शायद आपने भी कंपाउंड इंटरेस्ट की क्लास में झपकी ली होगी, लेकिन यह समझना कोई मुश्किल नहीं है कि निवेश जितने लंबे समय के लिए होगा, उसकी कीमत उतनी ही बढ़ेगी. पॉलीनॉमिकल फंक्शन के तौर पर समय इसके पॉलीनॉमिक की डिग्री है. इसी वजह से बचत में कंपाउंडिंग तेज बढ़ोतरी लाता है और लंबी अवधि में ज्यादा फायदा पहुंचाता है.

आइए उदाहरण से कंपाउंडिंग के फायदे समझते हैं. 60 साल को रिटायरमेंट की उम्र मानते हुए, दो लोग प्रति माह 1000 रुपये निवेश करते हैं. 25 वर्षीय अंकित के पास निवेश के लिए 35 वर्ष का समय है, जबकि सिद्धार्थ की आयु 30 है और उसके पास निवेश के लिए बस 30 वर्ष का समय है. दोनों को 12 फीसदी का सालाना रिटर्न मिल रहा है. ऐसे में अंकित के पास रिटायरमेंट की आयु तक खाते में 64 लाख रुपये होंगे, जबकि सिद्धार्थ के पास 35 लाख रुपये होंगे. किसको पता था कि 5 वर्ष का अंतर 29 लाख रुपये के अंतर में बदल जाएगा. इतनी राशि किसी भी व्यक्ति और उनके परिवार के जीवनस्तर को बदल सकती है.

कपांउंडिंग की ताकत को एक और उदाहरण से समझते हैं. हीना और सरिता दोनों 30 वर्ष की हैं. हीना पहले 15 वर्ष तक प्रति माह 2 हजार रुपये निवेश करने में सक्षम होती है, जिसके बाद वह निवेश करना बंद कर देती है और पैसे भी नहीं निकालती व इस राशि को अगले 15 वर्ष तक कंपांउंडिंग के लिए छोड़ देती है. वहीं, दूसरी तरफ सरिता अगले 30 वर्षों के लिए प्रति माह 1000 रुपये निवेश करने का निर्णय लेती है. कागजी गणित में दोनों ने एक समान राशि निवेश की है. खैर, सरिता के पास बचत में सिर्फ 35 लाख रुपये होंगे, जबकि हीना के पास कुल बचत 55 लाख रुपये होगी.

जब टूट रहा है शेयर बाजार तो म्यूचुअल फंड से कमाई बढ़ाने का मौका! निवेश के लिए अपनाएं ये तरीका

साधारण शब्दों में कहें तो कंपाउंडिंग किसी भी सेविंग में बड़ा असर दिखाता है. जल्दी और ज्यादा निवेश अंत में बेहतर सेविंग देता है. बीच-बीच में आने वाली मंदी और उठती-गिरती अर्थव्यवस्था से यह सुरक्षा प्रदान करता है.

जल्द निवेश करने के कई और फायदे

मानसिक सेहत और स्वास्थ्य

करियर के शुरुआत से ही निवेश करने से भविष्य में बेहतर आर्थिक स्थिति की नींव तैयार हो जाती है. इस तरह के निवेश से भविष्य की आर्थिक चिंताओं से छुटकारा मिलता है व जीवन और बेहतर हो जाता है.

खर्च की आदत

तुरंत खरीदारी करने की आदत की बजाय बचत करने के बाद खरीदारी करने की आदत बेहतर होती है. जब आपके पास सीमित कमाई होती है, तो आप सोच-समझकर सिर्फ जरूरत की चीजों पर खर्च करते हैं. इसके अलावा प्रत्येक माह का निवेश भविष्य की बचत है जो अभी हमेशा बिल के तनाव से कहीं बेहतर है.

निवेश विकल्प चुनने की स्वतंत्रता

शुरुआत से ही निवेश करने से आपको ज्यादा से ज्यादा विकल्पों को चुनने की स्वतंत्रता मिलती है. विभिन्न निवेश के विकल्प अलग-अलग प्रकार के जोखिम और रिटर्न के साथ आते हैं. शुरुआत से ही निवेश करने से जोखिम लेने का समय मिलता है और छोटे झटकों से उबरने का मौका होता है. वहीं, देर से निवेश करने के कारण ज्यादा सुरक्षित विकल्प ही चुनने पड़ते हैं, जिनका लंबी अवधि में ज्यादा फायदा नहीं होता है.

इसलिए बेहतर आर्थिक स्वतंत्रता और प्रचुरता उन्हें मिलती है, जो अपनी आमदनी को समझदारी के साथ उपयोग करते हैं. लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट अब लोगों का पसंदीदा विकल्प बनता जा रहा है. वहीं, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग का उपयोग कर कई फाइनेंशियल प्लेटफॉर्म ऐप आधारित निवेश के लिए सलाह दे रहे हैं. इसलिए बेहतरीन टेक्नोलॉजी का फायदा लेते हुए करिअर के शुरुआत से ही निवेश करना शुरू देना चाहिए.

(By: संदीप भारद्वाज, चीफ सेल्स ऑफिसर, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड) 

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. 25 साल Vs 30 साल: निवेश में 5 साल की देरी कराएगी लाखों का नुकसान, समझें आसान कैलकुलेशन

Go to Top