मुख्य समाचार:

FD पर घट रहा है फायदा: न रहें कनफ्यूज, यहां करें निवेश तो जल्दी डबल होगा पैसा

पिछले कुछ महीनों की बात करें तो बैंकों के डिपॉजिट रेट में खासी कमी दर्ज की जा चुकी है.

October 9, 2019 2:58 PM
Bank FD Vs Debt Fund Vs Post Office Schemes, small savings, deposit, better return on your invest, डिपॉजिट रेट में कमी, NSC, KVP, TD, post office, mutual fundपिछले कुछ महीनों की बात करें तो बैंकों के डिपॉजिट रेट में खासी कमी दर्ज की जा चुकी है.

एसबीआई (SBI) ने बुधवार को अपने बचत खाते और एफडी (FD) पर ब्याज दरें घटाए जाने का एलान किया है. पिछले कुछ महीनों की बात करें तो बैंकों के डिपॉजिट रेट में खासी कमी दर्ज की जा चुकी है. एसबीआई, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक, पीएनबी और आईसीआईसीआई जैसे बैंकों ने सितंबर से अबतक अपनी ब्याज दरों में कुछ न कुछ कटौती की है. आने वाले दिनों में ब्याज दरों में और गिरावट की उम्मीद है, ऐसे में कन्जर्वेटिव निवेशक भी एफडी की बजाए दूसरे विकल्पों की तलाश में हैं. सवाल उठता है कि अगर बैंक अपने एफडी रेट घटा रहे हैं तो ऐसे कौन से दूसरे विकल्प हैं, जो रिटर्न देने में इसके मुकाबले बेहतर विकल्प हैं.

बता दें कि रिजर्व बैंक ने अप्रैल के बाद से अबतक लगातार 5 बार ब्याज दरों में कटौती की है. जिसके चलते रेपो रेट 1.35 फीसदी घटकर 5.15 फीसदी पर आ गया है. इसी वजह से बैंकों ने भी डिपॉजिट रेट घटाने शुरू कर दिए हैं. अगर SBI की बात करें तो 1 साल की एफडी पर 6.5 फीसदी और 5 साल की एफडी पर 6.25 फीसदी सालाना ब्याज है. अन्य बैंकों की बात करें तो 5 साल की एफडी पर 6.25 फीसदी से 7 फीसदी तक ब्याज मिल रहा है. तो आपके पास हैं ये बेहतर विकल्प…..

डेट फंड (Mutual Fund)

डेट फंड भी म्यूचुअल फंड की वह कटेगिरी है, जहां 3 महीने से लेकर 5 साल या लंबे समय तक की निवेश प्लानिंग कर सकते हें. मेच्योरिटी पीरियड के हिसाब से आप इसे भुना सकते हैं. यानी इसमें लिक्विडिटी की समस्या नहीं है. जहां तक रिस्क की बात है यह लो टु मॉडरेट कटेगिरी में आता है. रिटर्न की बात करें तो डेट फंड का औसत रिटर्न 8 से 9 फीसदी रहा है. हालांकि अलग अलग स्कीम में यह रिटर्न और ज्यादा हो सकता है. वहीं प्रमुख बैंकों की एफडी पर सालाना रिटर्न 7 फीसदी या इससे कम है.

डेट फंड की खासियत है कि इसमें एसआईपी के जरिए भी निवेश किया जा सकता है. वहीं इसमें डिविडेंड का भी विकल्प होता है. जबकि एफडी में यह विकल्प नहीं होता है. अगर समय के पहले पैसा निकालना है तो डेट फंड में कटेगिरी के हिसाब से एग्जिट लोड या बिना एग्जिट लोड के इसे नि​काल सकते हैं. वहीं एफडी से प्रीमेच्योर विद्ड्रॉल पर पेनल्टी लगती है.

पोस्ट ऑफिस: टाइम डिपॉजिट स्कीम

पोस्ट ऑफिस की टाइम डिपॉजिट स्कीम में 1 साल से 5 साल तक निवेश की सुविधा है. इसमें 6.9 फीसदी से 7.7 फीसदी तक रिटर्न मिल रहा है.

1 साल की जमा पर: 6.9%
2 साल की जमा पर: 6.9%
3 साल की जमा पर: 6.9​%
5 साल की जमा पर: 7.7​ %

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC)

NSC पर 7.9 फीसदी का सालाना चक्रवृद्धि ब्याज मिल रहा है. NSC में निवेश किसी भी पोस्‍ट ऑफिस जहां पर सेविंग खाता खोलने की सुविधा उपलब्‍ध हो वहां से कर सकते हैं. NSC स्कीम के तहत निवेश की कुल अवधि 5 साल की है. इसमें निवेश की अधिकतम लिमिट तय नहीं है. इसमें निवेश करने पर इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत टैक्‍स छूट मिलती है. हालांकि यह छूट 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर ही मिलती है.

किसान विकास पत्र (KVP )

किसान विकास पत्र पर सालाना 7.6 फीसदी ब्याज दर है. यह एक तरह का सर्टिफिकेट है, जिसे कोई भी व्‍यक्ति खरीद सकता है. इसे बॉन्‍ड की तरह जारी किया जाता है. किसान विकास पत्र पर एक तय ब्‍याज मिलता है. यह छोटी बचत स्कीम्स में आता है. यहां 9.5 साल में आपका निवेश दोगुना हो जाता है. मिनिमम डिपॉजिट 1000 रुपये है. बाद में आप 1000 रुपये के मल्टीप्लाई यानी गुना में अमाउंट बढ़ा सकते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. FD पर घट रहा है फायदा: न रहें कनफ्यूज, यहां करें निवेश तो जल्दी डबल होगा पैसा

Go to Top