मुख्य समाचार:

जानिए कैसे बचा सकते हैं Fixed Deposit पर TDS

टीडीएस की कटौती तभी की जाती है जब फिक्स्ड डिपॉजिट और सेविंग बैंक अकाउंट से सालाना 10,000 रुपए तक का ब्याज मिलता है.

April 9, 2018 11:07 AM
Save Tax, Save Money, TDS, Save TDS Charges, Download Form 15H, Download form 15G, Online 15G form, Online 15H form, Savings News in Hindi, Business news in hindiटीडीएस की कटौती तभी की जाती है जब फिक्स्ड डिपॉजिट और सेविंग बैंक अकाउंट से सालाना 10,000 रुपए तक का ब्याज मिलता है.

क्या आपने कभी सोचा है कि भले ही आपकी कमाई मूल छूट सीमा से कम हो फिर भी बैंक आपके फिक्स्ड डिपॉजिट ब्याज पर TDS (Tax Deducted at Source) का कटौती करता है? इसका जवाब यह है कि यदि आप टीडीएस की कटौती तभी की जाती है जब फिक्स्ड डिपॉजिट और सेविंग बैंक अकाउंट से सालाना 10,000 रुपए तक का ब्याज मिलता है. यह दर 10 फीसदी  होती है.

हालांकि बजट 2018 के अनुसार, वरिष्ठ नागरिकों के लिए अब तक 10,000 रुपये की सीमा बढ़ाकर 50,000 कर दिया गया है, हालांकि, 60 साल से कम व्यक्तिगत करदाताओं के लिए यह सीमा एक समान है. जो भी हो, क्या आपकी कर दायित्व शून्य होने पर ब्याज की आय पर टीडीएस की कटौती हो सकती है? टैक्सटूविन के फाउंडर अभिषेक सोनी कहते हैं, “हां, आप इस से बच सकते हैं! सिर्फ फॉर्म 15G या फार्म 15H जमा करें, पात्रता मानदंडों को ध्यान में रखते हुए और इन फॉर्म को जमा करने की समय सीमा और बैंक द्वारा आपकी ब्याज आय पर कटौती की जाएगी.” आइये देखते हैं कि फॉर्म 15G और फॉर्म 15H क्या है और ये कैसे ब्याज आय पर टीडीएस से बचने में मदद कर सकते हैं.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक ऑनलाइन फॉर्म 15H और 15G कैसे निकालें, वीडियो देखिए.

क्या है फॉर्म 15G और फॉर्म 15H?

फार्म 15G और फॉर्म 15H एक फार्म है जो आप अपने बैंक में जमा कर सकते हैं यह सुनिश्चित करने के लिए कि अगर आपके द्वारा अर्जित कुल आय पर कोई कर दायित्व नहीं है तो टीडीएस आपकी आय से कटौती नहीं की जाती है. “यह फॉर्म हरेक साल जमा किए जा सकते हैं. इसलिए, हर साल आपको यह जांचना है कि आप इन फॉर्म को भरने के लिए पात्र हैं या नहीं, अर्थात किसी भी वर्ष अगर आपकी आय कर के लिए लायक है, तो आप पात्र नहीं हैं, “सोनी बताते हैं.

फॉर्म 15G और 15H के पात्रता मानदंड क्या हैं?

फॉर्म 15G:

फॉर्म 15G जमा करने के लिए इन शर्तों को ध्यान में रखा जाना है:

  • 60 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति या HUF (हिंदू अविभाजित परिवार) इस फॉर्म को प्रस्तुत करने के लिए पात्र हैं.
  • एक भारतीय निवासी होना चाहिए.
  • स्थायी खाता संख्या (पैन) होना चाहिए.
  • कुल आय पर टैक्स शून्य होना चाहिए.
  • फिक्स्ड डिपॉजिट पर कुल ब्याज आय मूल छूट सीमा से कम होना चाहिए.

बी फॉर्म 15 एच:

  • 60 वर्ष या उससे अधिक आयु वाले व्यक्ति इस फॉर्म को जमा करने के लिए पात्र हैं.
  • एक भारतीय निवासी होना चाहिए.
  • स्थायी खाता संख्या (पैन) होना चाहिए.
  • कुल आय पर टैक्स शून्य होना चाहिए.

फॉर्म 15H के मामले में, किसी व्यक्ति को यह पूरा करने की आवश्यकता है कि कुल आय पर उसकी कर दायित्व शून्य है, लेकिन ब्याज आय की राशि ऐसे मामले में प्रासंगिक नहीं है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. जानिए कैसे बचा सकते हैं Fixed Deposit पर TDS

Go to Top