मुख्य समाचार:

बच्चों के लिए करनी है फाइनेंशियल प्लानिंग; इन 6 गलतियों से बचें, होगा फायदा

Children’s Day : आइए जानते हैं कि मां-बाप को बच्चे के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करते समय किन गलतियों से बचना चाहिए. 

November 14, 2018 8:05 AM
Children’s Day, child financial plan, financial planning tips for child, know about child financial planning tipsआइए जानते हैं कि मां-बाप को बच्चे के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करते समय किन गलतियों से बचना चाहिए.

Children’s Day : अपने बच्चे के लिए भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर फाइनेंशियल प्लानिंग शुरू करने का बाल दिवस (Children’s Day) एक अच्छा अवसर है. लेकिन, जब भी आप अपने बच्चे के लिए निवेश की प्लानिंग करें, उसमें काफी सावधानी बरतनी चाहिए. जिससे कि आपके बच्चे को भविष्य में जरूरत पर पर्याप्त फाइनेंशियल सपोर्ट मिल सके. आइए जानते हैं कि मां-बाप को बच्चे के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करते समय किन गलतियों से बचना चाहिए.

1. लक्ष्य तय न करना

आपके बच्चे के लिए पैसे की जरूरत अलग-अलग समय पर पड़ती है. जैसेकि स्कूल का खर्च, अंडरग्रेजुएट पढ़ाई का खर्च, पोस्ट ग्रेजुएट खर्च, शादी का खर्च.. वगैरह वगैरह. इसलिए आपको इन सभी लक्ष्यों की लिस्ट बनाकर उन पर आने वाली लागत का आकलन करते हुए फाइनेंशियल प्लनिंग करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें…200 रुपये रोज बचाकर पा सकते हैं 35 लाख का फंड, समझें कम्पाउंडिंग की पावर

2. महंगाई का आकलन नहीं करना

2008 में एक प्रीमियर बिजनेस स्कूल में दो साल के कोर्स का खर्च 6 लाख रुपये था और 2018 में यह 21 लाख है. यानी, इस पर सालाना करीब 13 फीसदी महंगाई दर लागू हुआ. जब भी हम अगले 15-20 साल के लिए प्लानिंग करें तो टारगेट के अनुरूप फंड पाने के लिए जरूरी है कि इन सालों के लिए महंगाई दर का भी आकलन किया जाए.

3. केवल चाइल्ड प्लान पर निर्भर रहना

बच्चों के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करते समय केवल चाइल्ड प्लान जैसेकि इंश्योरेंस प्रोडक्ट या इसी तरह के अन्य दूसरे प्रोडक्ट्स पर निर्भर नहीं रहना चाहिए. आपको यह आकलन करना चाहिए कि क्या चाइल्ड प्लान अकेले आपके बच्चे की भविष्य में पड़ने वाली जरूरत के लिए पर्याप्त है? इसलिए, बच्चों की यूनिक जरूरतों के लिए निवेश विकल्प चुनते समय किसी फाइनेंशियल सलाहकार से जरूर परामर्श करें.

4. कम रिटर्न वाली एसेट्स में निवेश करना

एजुकेशन की बढ़ती महंगाई को देखते हुए यह साफ है कि कम दर से रिटर्न देने वाले विकल्प आपके लिए बेहतर नहीं हो सकते हैं. जैसेकि, अधिकांश फैमिली अपना भविष्य सुरक्षित रखने के लिए गोल्ड में भारी निवेश करते हैं. जबकि सोने का रिटर्न कई सालों से कमोबेश स्थिर रहा है.  फाइनेंशियल गोल को पूरा करने के लिए आपको ऐसे जगह निवेश करना चाहिए जिससे कि तय समय आपको जरूरी रिटर्न मिल सके.

ये भी पढ़ें…Post Office की इन 2 स्कीम में पाइए 8.7% तक सालाना ब्याज, पैसा डूबने की नहीं रहेगी टेंशन

5. निवेश की शुरुआत जल्दी न करना

अपने बच्चे की भविष्य की फाइनेंशियल जरूरतों के लिए निवेश की शुरुआत देरी से करना भी फायदेमंद नहीं रहता है क्योंकि देरी से निवेश की शुरआत करने पर तय समय पर आवश्यक फंड नहीं मिल पाएगा. जैसेकि आपके बच्चे की कॉलेज की फीस के लिए 15 साल में 30 लाख रुपये की जरूरत पड़ेगी. यदि आप SIP में 6000 रुपये मंथली निवेश करते हैं और इस पर सालाना 12 फीसदी रिटर्न मिलता है तो 15 साल में आपको 30.3 लाख रुपये मिलेगा. लेकिन यदि आप पांच साल की देरी करते हैं तो इसी फाइनेंशियल लक्ष्य को हासिल करने के लिए आपको 13 हजार रुपये मंथली निवेश करना पड़ेगा.

6- टर्म प्लान न लेना

किसी भी कामकाजी व्यक्ति के लिए जिस पर फैमिली की जिम्मेदारी हो उसे एक टर्म प्लान जरूरी खरीदना चाहिए. असमय मृत्यु की स्थिति में टर्म प्लान फैमिली की जरूरतों के काम आ सकता है. टर्म प्लान लेते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि वह आपकी मौजूदा सालाना इनकम का कम से कम 10 से 20 गुना हो.

(इसके लेखकर आदिल शेट्टी बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ हैं.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. निवेश-बचत
  3. बच्चों के लिए करनी है फाइनेंशियल प्लानिंग; इन 6 गलतियों से बचें, होगा फायदा

Go to Top