मुख्य समाचार:
  1. रिटायरमेंट के बाद करना है 25 हजार रु एक्स्ट्रा इंतजाम, म्यूचुअल फंड से काम होगा आसान

रिटायरमेंट के बाद करना है 25 हजार रु एक्स्ट्रा इंतजाम, म्यूचुअल फंड से काम होगा आसान

रिटायरमेंट के बाद 25 हजार रुपये महीने का कैसे करें इंतजाम

August 13, 2019 1:30 PM
Mutual Fund, SWP, MF, retirement planning with mutual fund SWP, Dividend, सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान, hybrid fund, invest in mutual fundरिटायरमेंट के बाद 25 हजार रुपये महीने का कैसे करें इंतजाम

एक निजी कंपनी में काम करने वाले सौरव गुप्ता (काल्पनिंक नाम) एक प्राइवेट फर्म में काम करते हैं. वह अगले साल रिटायर होने जा रहे हैं. घर की जिम्मेदारियों के चलते उन्होंने अपने रिटायरमेंट के बाद की कोई फाइनेंशियल प्लानिंग नहीं की है. इसी वजह से अब उन्हें रिटायरमेंट के बाद की चिंता सताने लगी है. अच्छी बात यह है कि सौरव ने नौकरी में ही रहने के दौरान घर, बच्चों की शिक्षा और गाड़ी जैसी जरूरतें पूरी कर ली है.

उन्हें रिटायरमेंट पर करीब 40 लाख रुपये का फंड मिलेगा. वह 10 लाख रुपये इमरजेंसी के लिए अपने पास रखना चाहते हैं और 30 लाख निवेश के लिए तैयार हैं. अब उनके सामने सवाल उठता है कि वह अपने फंड को कहां निवेश करें कि रिटायरमेंट के बाद भी उन्हें महीने की कुछ न कुछ कमाई होती रहे. वह चाहते हैं कि 20 से 25 हजार रुपयों का इंतजाम हो, जिससे बुनियादी जरूरतें पूरी कर सकें. इसके अलावा उनकी एक पुरानी प्रॉपर्टी है, जिससे उन्हें हर महीने 15 हजार रुपये किराया मिल जाता है.

कहां है निवेश का विकल्प

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि इसके लिए बेहतर विकल्प है कि एक जगह निवेश की जगह फंड अलग अलग स्कीम में निवेश किए जाएं, जिससे रिस्क भी कवर होता रहे. अगर 40 लाख रुपये एक मुश्त मिले तो इसके लिए 10 लाख रुपये तो अपने इमरजेंसी फंड के रूप में बैंक में रख दें, जहां ब्याज जुड़ता रहेगा. बचे हुए फंड को म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है. म्यूचुअल फंड में इक्विटी और डेट फंड का रेश्यो 30:70 होना चाहिए. दोनों से 8 से 9 फीसदी तक रिटर्न मिल सकता है. इसके अलावा सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान और डिविडेंड भी बेहतर विकल्प है.

सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान (SWP)

सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लान (SWP) एक तरह से एग्रेसिव हाइब्रिड स्कीमों में डिविडेंड का विकल्प हैं. पैसे के नियमित फ्लो के नजरिए से देखें तो यह बेहतर विकल्प है. आपको हर महीने जितने पैसे जरूरत होती है, उतना निकाल सकते हैं. SWP में निवेशक एक तय राशि म्यूचुअल फंड स्कीम में अपने निवेश से निकाल सकते हैं. यह पैसा रोजाना, वीकली, मंथली, क्वार्टली, 6 महीेन पर या सालाना आधार पर निकाला जा सकता है.

अगर 10 लाख का कॉर्पस म्युचुअल फंड में निवेश करते हैं और इस पर उसे औसतन 10 फीसदी की ब्याज मिलता है तो उसे हर महीने 8333 रुपए की आय होती रहेगी. वहीं, 20 लाख के कॉर्पस पर करीब 17 हजार रुपये महीने का मिल सकता है. SWP पर निकासी पूरी तरह टैक्स फ्री होती है.

डिविडेंड ऑप्शन

अगर मयंक को मंथली इनकम की जरूरत है तो उन्हें डिविडेंड ऑप्शन के साथ एग्रेसिव हाइब्रिड फंडों में पैसा लगाना चाहिए. ये स्कीम 7 से 8 फीसदी तक रिटर्न दे सकती हैं. हालांकि यह डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (डीडीटी) पर निर्भर करेगा. 10 लाख के कॉर्पस पर हर महीने करीब 7 हजार रुपये मिल सकते हैं.

Go to Top