Joint Home Loan लेने का है इरादा? तो 3 बातों का रखें ध्यान, वरना हो सकता है बड़ा नुकसान

Joint Home Loan के कई फायदे हैं, लेकिन इसके साथ कुछ जोखिम भी जुड़े हुए हैं. हमने यहां बताया है कि Joint Home Loan के लिए अप्लाई करने से पहले किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

3 risks to assess before going in for a joint home loan
अगर आप किसी दूसरे व्यक्ति के साथ मिलकर लोन लेते हैं, तो इसके कई फायदे हैं.

Joint Home Loan: कई बार होम लोम को आसानी से मंजूरी नहीं मिलती और इसमें दिक्कत आती है. ऐसे लोगों के लिए जॉइंट होम लोन बड़ी राहत देने वाला हो सकता है. अगर आप किसी दूसरे व्यक्ति के साथ मिलकर लोन लेते हैं, तो इसके कई फायदे हैं. एक फायदा तो ये है कि इससे आपके ऊपर से लोन चुकाने का बोझ कम हो जाता है. आप अपने जीवनसाथी के साथ मिलकर एक बड़ा घर खरीद सकते हैं. इसके अलावा, सरकार रजिस्ट्रेशन शुल्क पर डिस्काउंट ऑफर करती है. हालांकि, इसमें फायदे के साथ ही कुछ जोखिम भी जुड़े हुए हैं, जिनके बारे में जानना जरूरी है. आइए जानते हैं कि जॉइंट होम लोन लेते समय किन जोखिमों का ध्यान रखना जरूरी है.

Samsung Galaxy S21 FE भारत में लॉन्च, मिलेगा 32MP का सेल्फी कैमरा, जानें कीमत समेत अन्य खूबियां

क्रेडिट स्कोर हो सकता है खराब

जॉइंट होम लोन में अगर आपका पार्टनर अपने हिस्से का भुगतान करने से इनकार करता है, तो इस स्थिति में यह क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकता है. एक्सपर्ट्स के अनुसार, ज्यादातर डिफ़ॉल्ट पेमेंट को-एप्लीकेंट के साथ होते हैं. इसके अलावा जब आप ज्वाइंट होम लोन लेते हैं तो आप दोनों की क्रेडिट लिमिट खत्म हो जाती है. इमरजेंसी की स्थिति में या अपने बच्चे के लिए एजुकेशन लोन लेने की स्थिति यह जोखिम भरा हो सकता है.

New Fund Offer: मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ग्रोथ से लाभ उठाने का सुनहरा मौका, मिरे एसेट म्यूचुअल फंड ने लॉन्च किए दो खास ETF

तलाक या मृत्यु की स्थिति में क्या होगा

मान लीजिए कि कोई शख्स अपने पार्टनर के साथ मिलकर जॉइंट होम लोन लेता है और बाद में किसी वजह से इसे अलग करना चाहता है तो ऐसी स्थिति में वह मुश्किल में पड़ सकता है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि तलाक के बाद, अगर पति या पत्नी में से एक ईएमआई का भुगतान करना बंद कर देता है, तो इसे चुकाने का बोझ दूसरे एप्लीकेंट पर पड़ता है. ध्यान दें कि एप्लीकेंट पूरी संपत्ति का स्वामित्व प्राप्त किए बिना EMI का भुगतान करेगा. साथ ही, लोन चुकाने में असमर्थता दोनों बॉरोअर्स के लिए कानूनी समस्याएं पैदा कर सकती है. इसलिए, हमेशा जॉइंट होम लोन लेने से पहले एक्सपर्ट्स की सलाह लेने का सुझाव दिया जाता है. इसी तरह, अगर पति या पत्नी में से किसी एक की मृत्यु हो जाती है, तो लोन चुकाने की पूरी जिम्मेदारी दूसरे के ऊपर आ जाती है.

ओनरशिप का अधिकार

जॉइंट लोन के मामले में, घर का ओनरशिप समान रूप से डिवाइड होता है और इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि ईएमआई का भुगतान किसने किया है. साथ ही, जब एक से ज्यादा मालिक होते हैं, तब संपत्ति बेचना मुश्किल हो सकता है. जब तक दोनों ओनर बेचने के लिए सहमत न हों, तब तक इसे नहीं बेचा जा सकता.

(आर्टिकल – संजीव सिन्हा)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News