मुख्य समाचार:
  1. क्या रिटायरमेंट के समय 1 करोड़ रुपये काफी हैं? इन 5 बातों का रखें ध्यान

क्या रिटायरमेंट के समय 1 करोड़ रुपये काफी हैं? इन 5 बातों का रखें ध्यान

रिटायरमेंट की योजना बनाते हुए आपको खुद से पूछना चाहिए कि क्या आप लाइफटाइम के लिए पर्याप्त पैसे जमा कर रहे हैं?

October 27, 2018 11:50 AM
retirement calculator, how to save for retirement, how to save for retirement in your 40s, how to save for retirement in your 30s, retirement planning in hindi, personal finance news in hindiरिटायरमेंट की योजना बनाते हुए आपको खुद से पूछना चाहिए कि क्या आप लाइफटाइम के लिए पर्याप्त पैसे जमा कर रहे हैं?

क्या आपके रिटायरमेंट के लिए 1 करोड़ रुपये काफी है? इस सवाल का जवाब जरुरत से ज्यादा या ठीक है, हो सकता है. अधिक मात्रा बेहतर रहती है. यह आपके रिटायरमेंट कॉर्पस के लिए भी बेहतर है. बाद के वर्षों के लिए अपनी कैशफ्लो रणनीति की योजना बनाते वक्त, आपको खुद से पूछना होगा कि क्या आप लाइफटाइम के लिए पर्याप्त जमा कर रहे हैं? क्या अगले कुछ दशकों में आपका पैसा आपके लिए काम करेगा? यह जानने के लिए कि आपको पैसे की कमी नहीं होगी, आपको वास्तव में जरुरत से फंड के साथ रिटायर होना बेहतर है.

रिटायरमेंट के बाद कैसी लाइफस्टाइल?

क्या आपने एक लाइफस्टाइल सोच रखा है जिसे आप रिटायरमेंट के बाद जीना चाहते हैं? हम सभी ऐसा करते हैं! नौकरी के आखिरी सालों को आप जिस तरह से बनाते हैं, आपका रिटायरमेंट के बाद का वक्त इस पर निर्भर करता है. रिटायरमेंट योजना का शुरूआती पहलू लॉन्ग-टर्म के लिए सोचना और तुरंत शुरू करना है. सटीक राशि जिसे आप जमा चाहते हैं, आपके लाइफस्टाइल पर निर्भर करता है. यहां कुछ प्वॉइंट्स दिए गए हैं जो आपके रिटायरमेंट कॉर्पस जमा करने के दौरान का तरीका है:

महंगाई से घट सकती है पैसों की वैल्यू

इन्फ्लेशन (मुद्रास्फीति) के कारण, समय के साथ खरीदने की शक्ति कम हो जाती है, इसलिए पैसे कम मूल्यवान बनाते हैं. यदि आप बढ़ते इन्फ्लेशन रेट पर विचार नहीं करते हैं तो 1 करोड़ रुपये या कोई और सोची हुई राशि आपके जरूरत अनुसार कम हो सकता है. इन्फ्लेशन रेट को ध्यान में रखकर आपको अपना लक्ष्य तय करना चाहिए. रिटायरमेंट कॉर्पस के लिए एक बड़े अमाउंट का लक्ष्य तय करना आपके पोस्ट रिटायरमेंट के लिए बेहतर रहेगा.

लाइफस्टाइल में बदलाव

60 साल की उम्र से आपकी लाइफस्टाइल आज के मुकाबले काफी अलग हो सकती है. हालांकि आप अपने मौजूदा खर्चों पर 1 करोड़ रुपये से खुश रह सकते हैं, लेकिन बाद के सालों में आपकी जरूरतों में काफी बदलाव हो सकते हैं. अपने रिटायरमेंट कॉर्पस की योजना बनाते समय हमेशा लाइफस्टाइल में बदलावों पर विचार करें.

सरप्राइज के लिए रहें तैयार

उम्र बढ़ने के साथ बिना किसी वार्निंग के स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. अपने मेडिकल खर्च और हेल्थ इंश्योरेंस के लिए पहले से ही योजना बनाएं. किसी को हेल्थ इंश्योरेंस में निवेश पर विचार करना चाहिए. जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है इंश्योरेंस महंगा होता जाता है. इसलिए, सबसे बेहतर कीमत पर लाभ उठाने के लिए जल्दी निवेश करना महत्वपूर्ण है. यदि आपके पास मेडिकल इंश्योरेंस नहीं है, तो आपको रिटायरमेंट कॉर्पस वैल्यू में जोखिम का सामना करना पड़ सकता है.

कमाई की क्षमता

जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आपकी कमाई की क्षमता कम हो जाती है. शॉर्टफॉल से बचने के लिए और ज्यादा जल्दी लक्ष्य रखना बेहतर है. जैसे ही कोई कमाई शुरू करता है, रिटायरमेंट योजना के लिए शुरुआत करनी चाहिए, स्ट्रेस के बिना एक बड़ा कॉर्पस बनाने का यह सबसे आसान तरीका है. ज्यादातर लोग जो शुरुआत में योजना नहीं बनाते हैं, रिटायरमेंट उम्र के करीब उन्हें दिक्कत हो सकती है. उनके लिए सीमित समय में लक्ष्य पूरा करना आसान नहीं होता.

तनावमुक्त रिटायरमेंट

रिटायरमेंट जीवन के एक नए चरण की शुरुआत को बताती है. यदि आपने अपनी जरूरत से अधिक बचाया है, तो यह वक्त वास्तव में तनाव मुक्त हो सकता है. हम सभी रिटायरमेंट के बाद खुशनुमा और आराम की जिंदगी चाहते हैं. यात्रा, खर्च, दान के माध्यम से सोसाइटी को वापस देना, खोए हुए शौक को पूरा करना आदि वास्तविकता हो सकती है जब आपने रिटायरमेंट के लिए और अधिक बचत की है. बुनियादी जरूरतें और आवश्यकताओं पर समझौता किए बिना तनाव मुक्त रिटायर्मेंट की जिन्दगी आनंद से जी सकते हैं.

(इसके लेखक संतोष जोसफ Germinate Wealth Solutions LLP के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर हैं.)

Go to Top